आसान नहीं गाजा को खत्म करना... इजरायल के लिए हमास के खिलाफ जमीनी हमला कितना मुश्किल?

जानकारों की मानें, तो गाजा में घुसकर हमास को खत्म करना इजरायल के लिए आसान नहीं है. गाजा में हमास की खुफिया सुरंगों को पार करना इजरायली सेना के लिए सबसे बड़ी चुनौती है.

नई दिल्ली:

इजरायल और फिलिस्तीनी संगठन (Israel Palestine Conflict)हमास के बीच 7 दिनों से जंग जारी है. इजरायल ने गाजा में घुसकर हमास (Hamas Group) के खात्मे का ऐलान किया है. जमीनी हमले से पहले इजरायल ने लोगों को गाजा पट्टी (Gaza Strip) छोड़कर दक्षिण की तरफ जाने को कहा है. इसके लिए उसने गाजावासियों को 24 घंटे की मोहलत दी है. इजरायल के टैंक गाजा पहुंच रहे हैं. ऐसे में सवाल है कि इजरायल आखिर गाजा में कब दाखिल होगा. 

दरअसल, 1948 में भी इजरायल का व्हिस्पर कैंपेन चला था. हर रात हमले की अफवाह होती थी, ताकि लोग भाग जाएं. ऐसे में चर्चा है कि इजरायल शादय इस बार भी ऐसी रणनीति अपना रहा है. गाजा की सीमा दोनों तरफ से इजरायल से लगती है. एक तरफ इजिप्ट से और पश्चिम में भूमध्य सागर है, जिसपर भी इजरायल का कंट्रोल है. इजरायल ने अपने दोस्त इजिप्ट पर राफा क्रॉसिंग नहीं खोलने का दबाव बना रहा है.

गाजा पर जमीनी हमले के लिए इजरायल ने 2 लाख सैनिक तैनात किए हैं. 3.60 लाख सैनिक रिजर्व रखे गए हैं. अमेरिका हमास से लड़ने में इजरायल की भरपूर मदद कर रहा है. लेकिन जानकारों की मानें, तो गाजा में घुसकर हमास को खत्म करना इजरायल के लिए आसान नहीं है. गाजा में हमास की खुफिया सुरंगों को पार करना इजरायली सेना के लिए सबसे बड़ी चुनौती है.

अगवा लोगों को छुड़ाना मुश्किल
हमास ने करीब 150 अगवा लोगों को छोड़ने के बदले में फिलिस्तीन के उन सभी 5200 कैदियों की रिहाई की मांग की है, जो इजरायल की जेल में बंद हैं. हमास ने चेतावनी दी है कि जब भी इजरायल की सेना बिना किसी चेतावनी के गाजा में नागरिक ठिकानों पर बमबारी करेगी, तो वह एक बंधक को मार डालेगा. हमास खुद भी लोकेशन और अगवा किए गए लोगों के बारे में नहीं बता रहा है. इसके अलावा दूसरे देशों से भी अगवा लोगों की कोई सूची नहीं आई है. ऐसे में यह साफ नहीं हो पा रहा है कि कितने लोग अगवा हुए हैं, कौन जिंदा है और कौन मर गया. इस स्थिति में इन्हें छुड़ाना और मुश्किल दिख रहा है.

ऐसे में क्या हो सकता है?
-गाजा पर इजरायल का कब्जा
-हमास को खत्म कर इजरायली सेना लौट आए.
-वेस्क बैंक का फिलिस्तीन संगठन यहां भी शासन करे.

ये है इजरायल की स्पेशल फोर्स 
-इलीट कमांडो यूनिट
-टोही यूनिट (इनका काम सूचना जुटाना है)
-दुश्मन के इलाके से सामरिक सूचना जुटाना काम.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

गाजा में अब तक इजरायल ने कौन-कौन से ऑपरेशन किए?
-ऑपरेशन गिफ्ट - 1968 में अगवा विमान छुड़ाया
-ऑपरेशन रूस्टर- 1969 में मिस्र में रडार स्टेशन पर कब्जा
-ऑपरेशन आइसोटॉप - 1972 में अगवा विमान से बंधक छुड़ाए
-ऑपरेशन स्प्रिंग ऑफ यूथ - 1973 में बेरूत में आतंकियों का खात्मा
-ऑपरेशन थंडरबोल्ट 1976 में युगांडा के कब्जे से इजरायली बंधकों को छुड़ाया
-ऑपरेशन शार्प एंड स्मूथ- दूसरे लेबनान युद्ध में हिस्सा