अफगानिस्तान के मुद्दे पर हर देश के साथ संपर्क में है भारत, पाकिस्तान की भूमिका संदिग्ध : विदेश सचिव

विदेश सचिव ने कहा, "मुझे नहीं लगता कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय के सदस्य अफगानिस्तान की स्थिति पर निष्क्रिय हैं. हम (भारत) वहां जमीन पर नहीं हैं, वहां हमारी कोई संपत्ति नहीं है लेकिन ऐसा नहीं है कि हम कुछ नहीं कर रहे हैं, हम अफगानिस्तान में रुचि रखने वाले हर देश के संपर्क में हैं."

अफगानिस्तान के मुद्दे पर हर देश के साथ संपर्क में है भारत, पाकिस्तान की भूमिका संदिग्ध : विदेश सचिव

विदेश सचिव हर्ष वर्धन श्रृंगला.

वाशिंगटन:

विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने शुक्रवार को व्हाइट हाउस के प्रधान उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन फिनर के साथ अफगानिस्तान और भारत-प्रशांत क्षेत्र की स्थिति, भारत-अमेरिका रणनीतिक साझेदारी और अन्य क्षेत्रीय विकास के मुद्दे पर चर्चा की. इसके बाद मीडिया को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि पाकिस्तान अफगानिस्तान का पड़ोसी है और वह तालिबान का समर्थन और पोषण करता रहा है. ऐसे कई तत्व हैं जो पाकिस्तान समर्थित हैं, इसलिए उसकी भूमिका को उसी संदर्भ में देखा जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान की स्थिति पर अमेरिका बहुत करीब से नजर बनाए हुए है. 

विदेश सचिव ने कहा, "मुझे नहीं लगता कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय के सदस्य अफगानिस्तान की स्थिति पर निष्क्रिय हैं. हम (भारत) वहां जमीन पर नहीं हैं, वहां हमारी कोई संपत्ति नहीं है लेकिन ऐसा नहीं है कि हम कुछ नहीं कर रहे हैं, हम अफगानिस्तान में रुचि रखने वाले हर देश के संपर्क में हैं."

उन्होंने कहा, "संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अगस्त के अध्यक्ष के रूप में, हमने 4 प्रस्तावों को अपनाया लेकिन अफगानिस्तान पर संकल्प बहुत महत्वपूर्ण था. इसने एक समावेशी बातचीत वाले राजनीतिक समझौते का आह्वान किया, तालिबान के कब्जे वाले अफगानिस्तान छोड़ने के इच्छुक लोगों को निकालने की सुविधा की मांग की."

इससे पहले विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने भारत की आर्थिक सुधार पर यूएस-इंडिया बिजनेस काउंसिल (यूएसआईबीसी) के तत्वावधान में प्रमुख अमेरिकी कंपनियों के साथ भी बातचीत की और सभी क्षेत्रों में व्यापार और एफडीआई के क्षेत्र में सरकार द्वारा उठाए गए कदमों की जानकारी दी.

विदेश सचिव ने शुक्रवार को ही अमेरिका भारत रणनीतिक साझेदारी मंच (यूएसआईएसपीएफ) के सदस्यों को भी संबोधित किया. उन्होंने उद्योग जगत के नेताओं के साथ दोनों देशों के बीच आर्थिक संबंधों पर चर्चा की. श्रृंगला ने भारत में कोविड-19 की घातक दूसरी लहर के दौरान अमेरिकी कारोबार समुदाय को उनके समर्थन के लिए धन्यवाद दिया. श्रृंगला के साथ अमेरिका में भारत के राजदूत तरणजीत सिंह संधू भी यूएसआईएसपीएफ द्वारा आयोजित व्यापार गोलमेज सम्मेलन में मौजूद थे. यूएसआईएसपीएफ भारत केंद्रित व्यापार पैरोकार समूह है.

ये भी पढ़ेंः

तालिबान आज कर सकता है नई सरकार का गठन, हैबतुल्ला अखुंदजादा निभाएंगे सबसे बड़ी भूमिका


"अमेरिका के लिए बेहतरीन फैसला" : अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की वापसी का जो बाइडेन ने किया बचाव

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अफगानिस्तान में सरकार के गठन को एक दिन टाला गया, चार सितंबर को होगा ऐलान: तालिबान के प्रवक्ता