दुबई का यह 100 मंज़िला 'Hypertower' बनेगा दुनिया की सबसे ऊंची रिहायशी इमारत...होंगी ये Luxury सुविधाएं

दुबई (Dubai) की इस इमारत के ऊपरी हिस्से पर हीरे जैसी आकृति होगी. इसमें बॉडीगार्ड और प्राइवेट शेफ जैसी सुविधाएं मौजूद होंगी.

दुबई का यह 100 मंज़िला 'Hypertower' बनेगा दुनिया की सबसे ऊंची रिहायशी इमारत...होंगी ये Luxury सुविधाएं

यह हाइपरटावर ('hypertower') US की मैनहेटन (Manhattan) की 98 मंज़िला इमारत से भी ऊंची होगी

दुबई (Dubai) की एक नई गगनचुंबी इमारत दुनिया की सबसे लंबी रिहायशी बिल्डिंग बनने जा रही है. बुर्ज बिंघाट्टी जेकब एंड कंपनी रेज़ीडेंस. यह इमारत एमीराती प्रॉपर्टी डेवलपमेंट कंपनी बिंघाट्टी और घड़ी बनाने वाली कंपनी जेकब एंड कंपनी साथ मिल कर बना रहीं हैं. दोनों कंपनियों ने मंगलवार को इस इमारत की डिज़ाइन को सार्वजनिक किया और डेवलपर्स ने ज्वाइंट स्टेटमेंट में कहा कि, " हमारा लक्ष्य दुनिया के सबसे ऊंचे रिहायशी निर्माण में से एक बनाने का है. " इस टावर में 100 फ्लोर होंगे. यह दुनिया की सबसे लंबी रिहायशी इमारत के रिकॉर्ड से दो मंजिल अधिक होगा.

न्यूयॉर्क पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, फिलहाल यह कीर्तीमान मैनहैटन में 57 स्ट्रीट पर मौजूद सेंट्रल पार्क टावर के पास है.   "द हाइपरटावर" (The 'hypertower') के डेवलपर्स के अनुसार, मैनहैटन की गगनचुंबी 472 मीटर से ऊंची इमारत से भी ऊंचा होगा.  

इस इमारत की दूसरी खास बात यह होगी कि इसके उपरी हिस्से पर हीरे के आकार की आकृति बनी होगी.  द पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, सुविधाओं की बात करें तो इसमें एक कंसीएर्ज (concierge ) टीम होगी जो अ ला कार्ते ( a la carte) सर्विस देगी. यहां बॉडीगार्ड सेवाएं होंगी, शॉफर (chauffer) मिलेंगे और प्राइवेट शेफ (private chef) भी मिलेंगे. यहां एक "एक्सक्लूसिव प्राइवेट क्लब" बनाने की भी योजना है जिसमें इनफिनिटी पूल (infinity pool) और एक लाउंज एरिया (lounge area) भी होगा.  

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
       

यह इमारत बिज़नेस बे (Business Bay) के बीचों बीच बनेगी. यह दुबई का फाइनेंशियल डिस्ट्रिक्ट (financial district)है. इस इमारत के टॉप फ्लोर पर  पांच पेंटहाउस भी बनेंगे जो सबसे "आलीशान और अलग" होंगे. अभी इस इमारत की शुरुआत की तारीफ की घोषणा नहीं हुई है.  
 

Featured Video Of The Day

Exclusive: एनडीटीवी की रिपोर्ट के बाद अमेरिका ने हिंद महासागर पर चीन के बढ़ते खतरे की पुष्टि की