ब्रिटेन में फिर बढ़ा कोरोना का प्रकोप, सरकार से सख्त नियम लागू करने की अपील

मंगलवार को ब्रिटेन में संक्रमण के 43,738 मामले दर्ज किए गए जबकि वायरस के कारण 223 मरीजों की मौत हो गई, जोकि मार्च के बाद से एक दिन में वायरस के चलते जान गंवाने वालों की सबसे अधिक संख्या है.

ब्रिटेन में फिर बढ़ा कोरोना का प्रकोप, सरकार से सख्त नियम लागू करने की अपील

ब्रिटेन में कोरोना के मामलों को बढ़ता देख स्वास्थ्य सलाहकारों ने चिंता जताई है

लंदन:

लंदन: ब्रिटेन (Britain) में कोरोना वायरस संक्रमण (Covid 19 Cases) के रोजाना 40,000 से अधिक मामले सामने आने के मद्देनजर देश की स्वास्थ्य सेवा से जुड़े प्रमुखों ने सरकार से अनिवार्य रूप से मास्क पहनने जैसे सख्त कोविड-19 रोकथाम नियमों (Covid 19 Rules) को लागू करने का अनुरोध किया है. मंगलवार को ब्रिटेन में संक्रमण के 43,738 मामले दर्ज किए गए जबकि वायरस के कारण 223 मरीजों की मौत हो गई, जोकि मार्च के बाद से एक दिन में वायरस के चलते जान गंवाने वालों की सबसे अधिक संख्या है.

"ब्रिटेन में बनी वैक्‍सीन को ही स्‍वीकार नहीं कर रही ब्रिटेन की सरकार": NDTV से बोले एम्‍स प्रमुख

ब्रिटेन की राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (NHS) के सदस्य निकाय 'एनएचएस संघ' ने कहा कि सर्दी में मौसमी फ्लू और अन्य बीमारियों के चलते पहले ही स्वास्थ्य सेवा पर अधिक बोझ रहता है, ऐसे में सर्दियों के दौरान वायरस के कारण बढ़ने वाली समस्या से निपटने के लिए 'प्लान बी प्लस' या अन्य तैयारियों पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है.


एनएचएस संघ के मुख्य कार्यकारी मैथ्यू टेलर ने कहा कि यह सरकार के लिए अपनी रणनीति के प्लान बी को बिना देर किए लागू करने का समय है क्योंकि बिना पूर्व तैयारी के हमें सर्दियों के दौरान संकट का सामना करना पड़ सकता हैं. साथ ही, स्वास्थ्य सेवा से जुड़े प्रमुख लोगों को यह समझने की जरूरत है कि अगर ये उपाय अपर्याप्त हैं तो 'प्लान सी' क्या होगा?

दिल्‍ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना से कोई मौत नहीं, 25 नए मामले आए सामने

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने कहा कि जनता के लिए भी एक साथ आने और एनएचएस के लिए अतिरिक्त समर्थन दिखाने का एक महत्वपूर्ण अवसर है, जिसमें वे खुद को और दूसरों को सुरक्षित रखेंगे, ताकि इस समय में जरूरतमंद लोगों को विस्तारित अग्रिम मोर्चा सेवाओं का लाभ दिया जा सके. सरकार को कोविड संक्रमण के बेहद तेजी से बढ़ने और एनएचएस सेवाओं पर इसके दबाव का इंतजार नहीं करना चाहिए और खतरे की घंटी बजने से पहले सतर्क हो जाना चाहिए.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)