डेल्‍टा वेरिएंट है कोविड-19 का सफाया करने के प्रयासों में सबसे बड़ा खतरा: डॉ. एंथोनी फाउची

व्हाइट हाउस में कोविड-19 पर एक संवाददाता सम्मेलन में फाउची ने कहा कि अमेरिका में सामने आने वाले कोविड-19 के नए मामलों में से 20 फीसदी से अधिक में संक्रमण की वजह डेल्टा स्वरूप है. उन्होंने कहा कि दो हफ्ते पहले तक नए मामलों में से दस फीसदी में यह स्वरूप पाया गया था.

डेल्‍टा वेरिएंट है कोविड-19 का सफाया करने के प्रयासों में सबसे बड़ा खतरा: डॉ. एंथोनी फाउची

डॉ. फाउची ने कहा, अमेरिका में आए कोविड-19 के नए मामलों में से 20% से अधिक में संक्रमण की वजह डेल्टा वेरिएंट है

खास बातें

  • कहा, यह वेरिएंट अमेरिका के प्रयासों के लिए बड़ा खतरा
  • अच्‍छी बात यह, US के टीके हैं वेरिएंट के खिलाफ प्रभावी
  • अमेरिका ने इस वेरिएंट को चिंताजनक की श्रेणी में डाला है
वॉशिंगटन:

व्हाइट हाउस के मुख्य चिकित्सा सलाहकार डॉ. एंथनी फाउची (Dr Anthony Fauci) ने आगाह किया है कि कोरोना वायरस (coronavirus)का बेहद संक्रामक स्वरूप ‘डेल्टा' (Delta Variant) कोविड-19 महामारी का सफाया करने के अमेरिका के प्रयासों के लिए सबसे बड़ा खतरा है. व्हाइट हाउस में कोविड-19 पर एक संवाददाता सम्मेलन में फाउची ने कहा कि अमेरिका में सामने आने वाले कोविड-19 के नए मामलों में से 20 फीसदी से अधिक में संक्रमण की वजह डेल्टा स्वरूप है. उन्होंने कहा कि दो हफ्ते पहले तक नए मामलों में से दस फीसदी में यह स्वरूप पाया गया था.


अमेरिका में एलर्जी एवं संक्रामक रोगों के राष्ट्रीय संस्थान (एनआईएआईडी) के प्रमुख फाउची ने कहा, ‘‘ब्रिटेन में जैसे हालात हैं उसकी तरह ही डेल्टा स्वरूप कोविड-19 का सफाया करने के हमारे प्रयास के लिए सबसे बड़ा खतरा है.'' उन्होंने कहा कि अच्छी खबर यह है कि अमेरिका के टीके डेल्टा स्वरूप के खिलाफ प्रभावी हैं और ‘‘हमारे पास हथियार हैं तो उनका इस्तेमाल महामारी का खात्मा करने के लिए करेंगे.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उल्लेखनीय है कि ब्रिटेन में यह स्वरूप (डेल्टा) हावी हो चुका है और यहां सबसे पहले सामने आए अल्फा स्वरूप के मुकाबले अधिक फैल चुका है. यहां 90 फीसदी से अधिक नए मामलों की वजह डेल्टा स्वरूप है तथा इसके प्रकोप के कारण ब्रिटेन में गतिविधियों की मंजूरी देने में भी विलंब किया जा रहा है.अमेरिका के रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र ने डेल्टा को बेहद संक्रामक बताते हुए इसे ‘चिंताजनक स्वरूप' की श्रेणी में डाला है.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)