चीनी विमान जानबूझकर नीचे लाकर क्रैश कराया गया था, ब्लैक बॉक्स डेटा से खुलासा : रिपोर्ट

बोइंग 737-800 विमान कुमिंग से गुआंगझोऊ की यात्रा पर था, लेकिन वो गुआंग्जी की पहाड़ियों में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. इस हादसे में विमान में सवार सभी 123 यात्री मारे गए थे.

चीनी विमान जानबूझकर नीचे लाकर क्रैश कराया गया था, ब्लैक बॉक्स डेटा से खुलासा : रिपोर्ट

Jet Crash : चीन के गुआंग्झी में विमान हुआ था दुर्घटनाग्रस्त

बीजिंग:

चीन में इस साल हुए भीषण विमान (China Plane Crash) हादसे को लेकर चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है. ब्लैक बॉक्स डेटा से पता चला है कि चाइना ईस्टर्न जेट के विमान को जानबूझकर ऊंचाई से नीचे लाकर क्रैश कराया गया था. वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के मुताबिक, कॉकपिट में मौजूद कोई शख्स जानबूझकर विमान को नीचे लाकर क्रैश कराया और वो कुछ सेकेंड में ही चकनाचूर हो गया था. इस हादसे में विमान में सवार सभी यात्री मारे गए थे. गुआंग्जी प्रांत में हुए इस हादसे में 123 यात्री मारे गए थे. रिपोर्ट के मुताबिक, विमान हादसे की प्रारंभिक जांच में कहा गया है कि मलबे में तब्दील विमान के ब्लैक बॉक्स के फ्लाइट डेटा का विश्लेषण किया गया.

ये डेटा संकेत देते हैं कि कॉकपिट में मौजूद कोई व्यक्ति जानबूझकर विमान को नीचे गोता लगाने को मजबूर किया. हालांकि एयरलाइन और नेशनल ट्रांसपोर्टेशन सेफ्टी बोर्ड ने इस रिपोर्ट पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

मालूम हो कि बोइंग 737-800 विमान कुमिंग से गुआंगझोऊ की यात्रा पर था, लेकिन वो गुआंग्जी की पहाड़ियों में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. इस हादसे में विमान में सवार सभी 123 यात्री मारे गए थे. यह चीन में पिछले तीन दशकों में सबसे बड़ा विमान हादसा था. चीन का ईस्टर्न पैसेंजर विमान (Eastern Passenger Plane Crash) 23 मार्च को पहाड़ी पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, उसमें 132 लोग सवार थे. इस विमान क्रैश की डरा देने वाली वीडियो फुटेज सामने आई थी, जिसमें विमान नाक की सीध में जमीन पर आता दिखाई दे रहा था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


यह विमान तेंग ग्रामीण इलाके में वुझूऊ के पास क्रैश हुआ और पहाड़ पर आग लग गई. फ्लाइट ट्रैकर FlightRadar24 ने बताया था कि विमान केवल  2.15 मिनट में  29 हजार फीट की ऊंचाई से 9,075 फीट पर आया था. अगले 20 सेकेंड में यह 3,225 फीट पर था, और इसके बाद फ्लाइट से संपर्क टूट गया. सामान्य उड़ान के दौरान  इतनी ऊंचाई से नीचे आने में आमतौर पर करीब 30 मिनट लगते हैं.