"AstraZeneca सुरक्षित, भारत से लेकर अमेरिका, ब्रिटेन सहित दुनियाभर में हो रही इस्‍तेमाल" : बोरिस जॉनसन

सोमवार को जर्मनी, इटली, फ्रांस भी इस लिस्‍ट में शामिल हो गए और उन्‍होंने AstraZeneca कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल पर अस्‍थाई रोक लगा दी.

बोरिस जॉनसन का मानना है, वैक्‍सीन सुरक्षित हैं और अच्‍छी तरह से काम कर रही है

खास बातें

  • ब्‍लड क्‍लॉटिंग के खौफ के चलते कुछ देशों ने लगाई है रोक
  • जॉनसन बोले- वैक्‍सीन सुरक्षित, अच्‍छी तरह से काम कर रही
  • WHO और यूरोपीय मेडिसिन्‍स एजेंसी ने भी कही इसी तरह की बात
लंदन:

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने (Boris Johnson) मंगलवार को AstraZeneca की कोरोना वैक्‍सीन का खुलकर बचाव किया. गौरतलब है कि खून के थक्‍के जमने (Blood clot fears) को लेकर आईं चिंताओं के चलते कुछ यूरोपीय देशों ने AstraZeneca वैक्‍सीन पर रोक लगा दी है. सोमवार को जर्मनी, इटली, फ्रांस भी इस लिस्‍ट में शामिल हो गए और उन्‍होंने AstraZeneca कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल पर अस्‍थाई रोक लगा दी. हालांकि विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO), AstraZeneca और यूरोपीय मेडिसिन्‍स एजेंसी ने वैक्‍सीन को सुरक्षित बताया है और कहा है कि वैक्‍सीन और खून के थक्‍के जमने का कोई संबंध नहीं है. ब्रिटेन के पीएम जॉनसन ने मंगलवार को कहा कि यह टीका हानिकारक नहीं है. उन्‍होंने 'टाइम न्‍यूजपेपर' में लिखा, 'वैक्‍सीन सुरक्षित हैं और अच्‍छी तरह से काम कर रही है.' उन्‍होंने कहा, ' इसे भारत से लेकर अमेरिका और ब्रिटेन तक कई स्‍थानों पर बनाया गया है और दुनियाभर में यह इस्‍तेमाल की जा रही है.'

AstraZeneca ने अपने टीके को बताया सुरक्षित, जारी किया बयान..

गौरतलब है कि यूरोपीय यूनियन के तीन सबसे बड़े देशो जर्मनी, इटली और फ्रांस ने सोमवार को वैक्सीन का इस्तेमाल रोक दिया है और फिर स्पेन, पुर्तगाल, स्लोवानिया तथा लातविया ने भी उनका अनुकरण किया. AstraZeneca Vaccine को सिर्फ यूरोपीय देशों ने नहीं रोका है, एशियाई देश इंडोनेशिया ने भी उसके इस्तेमाल को टालने की घोषणा की है जबकि यह वैक्सीन अन्य वैक्सीनों के मुकाबले सस्ती है.


WHO ने कहा, AstraZeneca की कोरोना वैक्सीन पर रोक लगाने की कोई वजह नहीं

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस बीच, WHO की प्रमुख विज्ञानी सौम्या स्वामीनाथन ने कहा, "हम नहीं चाहते कि लोग घबराहट का शिकार हों, हम फिलहाल यही सिफारिश करेंगे कि सभी देश AstraZeneca Vaccine का इस्तेमाल करते रहें." कई देशों से खून के थक्के जमने की शिकायतों का ज़िक्र करते हुए सौम्या स्वामीनाथन ने कहा, "अब तक, हमें इन घटनाओं और वैक्सीन के बीच कोई संबंध दिखाई नहीं दिया है."यूरोपियन मेडिसिन्स एजेंसी (EMA) ने भी WHO के सुर में सुर मिलाते हुए शांत बने रहने का आह्वान किया और कहा कि वैक्सीन का इस्तेमाल करते रहना ही बेहतर होगा. एजेंसी ने सोमवार को जारी बयान में कहा, "COVID-19 को रोकने में AstraZeneca वैक्सीन के लाभ उसके साइड इफेक्ट्स के मुकाबले कहीं ज़्यादा हैं..."



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)