इजरायल के हमास पर हमलों के बीच गाजा में ब्लैकआउट, खाने की कमी ने जिंदगी बनाई और मुश्किल

गाजा में स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार, गुरुवार सुबह तक 1,000 से अधिक फिलिस्तीनी मारे गए हैं. डर के साए में बड़ी संख्या में लोग पलायन कर रहे हैं, लेकिन उनके पास जाने के लिए कोई जगह नहीं है, इजराइल और मिस्र दोनों ने अपने दरवाजे बंद कर दिए हैं.

23 लाख लोगों की घनी आबादी वाले गाजा पट्टी में नागरिक तब से डर में जी रहे हैं, जब से हमास और इजरायल के बीच खूनी संघर्ष चल रहा है. गाजा में स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार, गुरुवार सुबह तक 1,000 से अधिक फिलिस्तीनी मारे गए हैं. डर के साए में बड़ी संख्या में लोग पलायन कर रहे हैं, लेकिन उनके पास जाने के लिए कोई जगह नहीं है, इजरायल और मिस्र दोनों ने अपने दरवाजे बंद कर दिए हैं.

हवाई हमलों के बारे में गाजा पट्टी की निवासी आयशा अबू दक्का कहती हैं, "आप दूर से आवाज सुनेंगे, और फिर आपको घर हिलता हुआ महसूस होगा. फिलहाल, हम बस इंतजार कर सकते हैं और प्रार्थना कर सकते हैं." गाजा निवासी 38 वर्षीय माज़ेन मोहम्मद ने कहा कि उनके भयभीत परिवार ने रात एक साथ छिपकर बिताई क्योंकि सुबह होने से पहले विस्फोटों से इलाका हिल गया था.

मोहम्मद ने एएफपी को बताया, "हमें ऐसा लग रहा था जैसे हम किसी भुतहा शहर में हैं, जैसे कि हम ही जीवित बचे हों."लंबे समय से अवरुद्ध फ़िलिस्तीनी एन्क्लेव में बिगड़ते मानवीय संकट पर चिंता बढ़ रही है, जहां इज़रायल ने अब पानी, भोजन और ऊर्जा आपूर्ति में कटौती करते हुए पूरी घेराबंदी कर दी है. गाजा एन्क्लेव का एकमात्र बिजली संयंत्र कल ईंधन खत्म होने के बाद बंद हो गया. सोशल मीडिया पर प्रसारित वीडियो में निवासियों को अपने फोन चार्ज करने के लिए कार की बैटरी का उपयोग करते हुए दिखाया गया है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, गाजा का अल-शिफा अस्पताल बड़ी संख्या में आने वाले मरीजों से भरा हुआ है और ऑक्सीजन सहित चिकित्सा आपूर्ति तेजी से खत्म हो रही है. डिब्बाबंद भोजन तेजी से दुकानों से गायब हो रहा है, क्षेत्र का एकमात्र बूचड़खाना बंद है. सीमा के पास उगाई जाने वाली सब्जियों की आपूर्ति कम है. इज़रायल ने अब गाजा की पूरी घेराबंदी की घोषणा कर दी है, बिजली, भोजन और पानी की आपूर्ति को प्रभावी ढंग से अवरुद्ध कर दिया है, कोई केवल कल्पना कर सकता है कि युद्धरत शक्तियों की गोलीबारी के बीच गाजा पट्टी के निवासियों के लिए जीवन कितना मुश्किल होगा.

ये भी पढ़ें : जो बाइडेन ने कहा कि इज़रायल में "आतंकवादी बच्चों का सिर काट रहे हैं", व्हाइट हाउस ने दी इस बयान पर सफाई

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ये भी पढ़ें : Explainer: इजरायल के एस्केलॉन के होटल में क्यों गिरा हमास का रॉकेट? क्या आयरन डोम से हुई चूक?