'स्‍वाभाविक है सियासत पर भी चर्चा हुई होगी': यूपी चुनाव के पहले लालू यादव ने की मुलायम सिंह से मुलाकात

हालांकि तीनों नेताओं ने इस बैठक के एजेंडे के बारे में कुछ नहीं कहा है लेकिन यूपी में अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर इस मुलाकात को अहम माना जा रहा है.

'स्‍वाभाविक है सियासत पर भी चर्चा हुई होगी': यूपी चुनाव के पहले लालू यादव ने की मुलायम सिंह से मुलाकात

लालू यादव ने दिल्‍ली में सोमवार को मुलायम सिंह यादव से मुलाकात की थी

नई दिल्ली:

राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) ने समाजवादी पार्टी के संस्‍थापक मुलायम सिंह यादव से मुलाकात की. दोनों वरिष्‍ठ नेताओं की इस मुलाकात के दौरान मुलायम के पुत्र और सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव भी उपस्थित थे. सूत्रों ने बताया कि यह बैठक सोमवार को नई दिल्‍ली में हुई. यूपी (UP) के पूर्व सीएम अखिलेश यादव और लालू यादव ने इस बैठक के फोटो अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किए थे. अपने ट्वीट में लालू यादव ने लिखा था, 'देश के वरिष्ठतम समाजवादी साथी मुलायम सिंह से आज मुलाकात कर उनकी कुशलक्षेम जानी. गाँव-देहात, खेत-खलिहान, ग़ैर-बराबरी, अशिक्षा, किसानों, गरीबों युवाओं व बेरोजगारों के लिए हमारी साझी चिंताएं और लड़ाई है. आज देश को पूंजीवाद और संप्रदायवाद नहीं बल्कि लोकसमता एवं समाजवाद की अत्यंत आवश्यकता है.'

जब देश में उनकी ही सरकार है तो जासूसी की जरूरत क्यों : अखिलेश यादव का बीजेपी पर वार

हालांकि तीनों नेताओं ने इस बैठक के एजेंडे के बारे में कुछ नहीं कहा है लेकिन यूपी में अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर इस मुलाकात को अहम माना जा रहा है. समाजवादी पार्टी के नेता रामगोपाल वर्मा ने NDTV से कहा, 'मुलायम सिंह का स्‍वास्‍थ्‍य ठीक नहीं था, लालू यादव ने उनके स्‍वास्‍थ्‍य की जानकारी लेने आए थे. स्‍वाभाविक है कि जब देश के दो वरिष्‍ठ नेता मिले हैं तो सियासत पर भी चर्चा हुई होगी.' बिहार चारा घोटाला मामले में झारखंड हाईकोर्ट ने इस वर्ष की शुरुआत में लालू यादव को जमानत दी है. मामले के चलते वे तीन माह से जेल में थे.

यूपी विधानसभा चुनाव : समाजवादी पार्टी के पोस्‍टरों में 10 लाख जॉब और 300 यूनिट फ्री बिजली का वादा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलबहै कि समाजवादी पार्टी यानी SP के प्रमुख अखिलेश यादव ने जून में NDTV से बात करते हुए कहा था कि उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में बीजेपी को हार का सामना करना पड़ेगा क्‍योंकि यूपी की जनता बदलाव चाहती है. बातचीत के दौरान अखिलेश ने यूपी चुनाव के लिए मायावती की बहुजन समाज पार्टी (BSP) के साथ गठबंधन से इनकार किया था और कहा था कि हम छोटी पार्टियों के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगे. बीएसपी और कांग्रेस का जिक्र किए बिना अखिलेश ने कहा था, 'बड़ी पार्टियों के साथ मेरा अनुभव अच्‍छा नहीं रहा है, हम उनके साथ कोई गठबंधन नहीं करेंगे.' सपा प्रमुख ने कहा थाकि उनकी पार्टी राज्‍य की 430 विधानसभा सीटों में से 300 को (जीत के लिहाज से) टारगेट कर रही है.