यूपी विधानसभा चुनाव : समाजवादी पार्टी के पोस्‍टरों में 10 लाख जॉब और 300 यूनिट फ्री बिजली का वादा

यूपी चुनाव के कुछ माह पहले, समाजवादी पार्टी के लखनऊ स्थित ऑफिस के बाहर युवाओं के लिएए 10 लाख नौकरियां और पूरे राज्‍य में 300 यूनिट फ्री बिजली के वादे वाले पोस्‍टर नजर आए

यूपी विधानसभा चुनाव : समाजवादी पार्टी के पोस्‍टरों में 10 लाख जॉब और 300 यूनिट फ्री बिजली का वादा

सपा प्रमुख अखिलेश यादव कह चुके हैं, उनकी पार्टी विधानसभा चुनाव में छोटी पाटियों के साथ गठबंधन करेगी

लखनऊ :

Samajwadi Party posters: आबादी के लिहाज से देश के सबसे बड़े राज्‍य, उत्‍तर प्रदेश में अगले वर्ष विधानसभा चुनाव (UP Assembly polls 2022) होने हैं. यह चुनाव सत्‍तारूढ़ बीजेपी के लिए चुनौतीभरे साबित होंगे और इसमें उसे अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की समाजवादी पार्टी (SP) से कड़ा मुकाबला मिल सकता है. चुनाव के कुछ माह पहले, समाजवादी पार्टी के लखनऊ स्थित ऑफिस के बाहर युवाओं के लिएए 10 लाख नौकरियां और पूरे राज्‍य में 300 यूनिट फ्री बिजली के वादे वाले पोस्‍टर नजर आए. हिंदी भाषा में लिखे इन पोस्‍टर में कहा गया, 'सत्‍ता में आने पर समाजवादी अपनी पहली मीटिंग में युवाओं को 10 लाख जॉब और पूरे यूपी में 300 यूनिट फ्री बिजली उपलब्‍ध कराएगी.' 

सत्ता में आने पर कोविड-19 के ‘आंकड़े छुपाने वाले' अधिकारियों पर करेंगे कार्रवाई : अखिलेश 

इससे पहले समाजवादी पार्टी अध्‍यक्ष अखिलेश यादव घोषणा कर चुके हैं कि उनकी पार्टी 2022 के विधानसभा चुनाव में छोटी पार्टियों के साथ गठबंधन करेगी. गौरतलब है कि वर्ष 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 325 सीटों पर जीत हासिल की थी जबकि समाजवादी पार्टी को महज 54 सीटें ही मिल पाई थीं. बहुजन समाज पार्टी यानी BSP को 19 और अन्‍य दलों को पांच सीटें मिली थीं. 


'आप से न हो पाएगा', पप्पू यादव ने लखीमपुर खीरी कांड में अखिलेश यादव पर मारा ताना

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि पिछले माह बीएसपी और कांग्रेस का जिक्र किए बिना अखिलेश यादव ने कहा था, 'बड़ी पार्टियों के साथ मेरा अनुभव अच्‍छा नहीं रहा है, हम उनके साथ कोई गठबंधन नहीं करेंगे.' सपा प्रमुख ने कहा था कि उनकी पार्टी राज्‍य की 430 विधानसभा सीटों में से 300 को (जीत के लिहाज से) टारगेट कर रही है. सपा प्रमख ने कहा कि राज्‍य की जनता अब बदलाव के मूड में है और बीजेपी को विधानसभा चुनाव में हार का सामना करना पड़ेगा.