बलबीर सिंह सीनियर को हॉकी में 'लाइफटाइम अचीवमेंट' अवार्ड

मेलबर्न:

हॉकी इंडिया (एचआई) की ओर से शुरू किए गए पहले वार्षिक अवार्ड समारोह में शनिवार को पुरुष हॉकी टीम के डिफेंडर बीरेंद्र लाकड़ा और महिला हॉकी टीम की स्ट्राइकर वंदना कटारिया को क्रमश: सर्वश्रेष्ठ पुरुष और सर्वश्रेष्ठ महिला हॉकी खिलाड़ी के पुरस्कार के सम्मानित किया गया। वहीं तीन बार ओलम्पिक स्वर्ण पदक विजेता टीम के सदस्य रहे बलबीर सिंह सीनियर को 'लाइफटाइम अचीवमेंट' पुरस्कार से नवाजा गया।

इस अवार्ड समारोह में अधिकांश पुरस्कारों पर युवा खिलाड़ियों ने कब्जा जमाया और सिर्फ सर्वश्रेष्ठ गोलकीपर को दिए जाने वाले 'बलजीत सिंह अवार्ड' के लिए सीनियर पुरुष टीम के वरिष्ठ गोलकीपर पीआर श्रीजेश ने बाजी मारी।

श्रीजेश को वर्ष के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी को दिए जाने वाला 'ध्रुव बत्रा अवार्ड' से भी सम्मानित किया गया। साल की सर्वश्रेष्ठ महिला खिलाड़ी को दिया जाने वाला 'ध्रुव बत्र अवार्ड' भी वंदना को ही मिला। वंदना ने कप्तान ऋतु और दीपिका को पछाड़ते हुए यह अवार्ड हासिल किया।

ओडिशा जनजाति बाहुल्य सुंदरगढ़ जिले के रहने वाले बीरेंद्र को हालांकि वर्ष का खिलाड़ी चुना जाना चकित करने वाला रहा। अन्य खिलाड़ियों की अपेक्षा मीडिया से अमूमन दूरी बनाए रखने वाले बीरेंद्र पिछले वर्ष एशियाई खेलों में विजेता रही टीम के सदस्य रहे तथा राष्ट्रमंडल खेल-2014 में रजत पदक विजेता टीम के भी सदस्य रहे।

बीरेंद्र ने श्रीजेश और आकाशदीप सिंह को पछाड़ते हुए यह अवार्ड हासिल किया। हालांकि आकाशदीप को वर्ष के सर्वश्रेष्ठ फॉरवर्ड खिलाड़ी के लिए 'धनराज पिल्लई अवार्ड' से सम्मानित किया गया।

हॉकी टीम के उच्च गुणवत्ता निदेशक रोलैंट ओल्टमांस ने कहा, 'बीरेंद्र ने पिछले पूरे वर्ष निरंतर प्रदर्शन किया और लगभग सभी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में टीम के अहम सदस्य रहे। वह इस अवार्ड के हकदार थे।'

बीरेंद्र और वंदना को पुरस्कार राशि के रूप में 25-25 लाख रुपए प्रदान किया गया। वर्ष के सर्वश्रेष्ठ मिडफील्डर के लिए नियत 'अजित पाल सिंह अवार्ड' मनप्रीत सिंह को दिया गया, जबकि सर्वश्रेष्ठ डिफेंडर के लिए 'परगट सिंह अवार्ड' महिला टीम की दीपिका को मिला।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सर्वश्रेष्ठ उदीयमान पुरुष खिलाड़ी का 'जुगराज सिंह अवार्ड' पेनाल्टी कॉर्नर विशेषज्ञ हरमनप्रीत सिंह को जबकि सर्वश्रेष्ठ उदीयमान महिला खिलाड़ी का 'असुंता लाकड़ा अवार्ड' नमिता टोप्पो को दिया गया।