BMC में अब सिर्फ टेंडर, ट्रांसफर और टाइमपास ही होता है : आदित्य ठाकरे

आदित्य ठाकरे ने कहा कि मौजूदा सरकार के तहत मुंबई की सड़कों का भविष्य अनिश्चित है. जो कहता है कि वे सड़कों को रातों-रात पक्का कर देंगे, उनपर मुंबई वासियों को भरोसा नहीं करना चाहिए.

BMC में अब सिर्फ टेंडर, ट्रांसफर और टाइमपास ही होता है : आदित्य ठाकरे

आदित्य ठाकरे ने एकनाथ शिंदे सरकार पर कसे तंज.

मुंबई:

महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री आदित्य ठाकरे (Aditya Thackeray) ने एकनाथ शिंदे की अगुवाई वाली महाराष्ट्र सरकार पर मुंबई में विकास परियोजनाओं को धीमा करने और रोकने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा, 'बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) अब सिर्फ टेंडर, ट्रांसफर और टाइमपास की जगह बनकर रह गई है.' आदित्य ठाकरे ने कहा, 'मेरे पिता उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने महाविकास अघाड़ी सरकार के रहते मुंबई में बहुत सारी परियोजनाओं को लाने की कोशिश की, लेकिन नई सरकार ने सब कुछ रोकने की कोशिश की है.'

आदित्य ठाकरे ने कहा, "पहले मुख्यमंत्री मुंबई से थे और हमने शहर में कई अच्छी परियोजनाएं लाने की कोशिश की, लेकिन बीएमसी में अब केवल तीन चीजें होती हैं - टेंडर, ट्रांसफर, टाइमपास." उन्होंने कहा, "नई सरकार के गठन के बाद नए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा कि हम मुंबई की सड़कों के लिए 5000 करोड़ रुपये देंगे और हमारी सड़कें गड्ढा मुक्त होंगी. 5000 करोड़ रुपये का टेंडर जारी किया गया था, लेकिन कुछ दिन पहले वापस ले लिया गया." 

आदित्य ठाकरे ने कहा कि मौजूदा सरकार के तहत मुंबई की सड़कों का भविष्य अनिश्चित है. जो कहता है कि वे सड़कों को रातों-रात पक्का कर देंगे, उनपर मुंबई वासियों को भरोसा नहीं करना चाहिए. 

उन्होंने राज्य सरकार से सवाल किया, "आपको अनुमति लेने की आवश्यकता है. 16 विभिन्न एजेंसियों के साथ काम करें और मुंबई ट्रैफिक पुलिस के साथ काम करें. मेरा सवाल है कि जब आपने 5000 करोड़ रुपये का टेंडर शुरू किया था, तो आपने इसे वापस क्यों लिया? आप नया टेंडर कब शुरू करेंगे और काम कब शुरू होगा." 

उन्होंने कहा, 'मुंबई की सड़कों पर काम धीमा हो गया है. अगर आप अगले साल तक सड़कों पर नए गड्ढें पाते हैं, तो इसके लिए नए सीएम जिम्मेदार होंगे.' शहर के सौंदर्यीकरण के लिए जारी किए गए फंड पर तंज कसते हुए आदित्य ठाकरे ने कहा कि सौंदर्यीकरण का मतलब हर जगह सिर्फ एलईडी लाइट लगाना नहीं होता. उन्होंने कहा, "सौंदर्यीकरण के लिए 1700 करोड़ रुपये प्रदान किए गए हैं. हालांकि, यह राशि बीएमसी के नगरसेवकों को जारी की जानी थी. अब इसे सौंदर्यीकरण के लिए दिया गया है."

आदित्य ठाकरे ने यह दावा करते हुए कहा कि बीएमसी या महाराष्ट्र सरकार में कोई स्पष्टता नहीं है कि मुंबई में परियोजनाओं के लिए कौन मंजूरी दे रहा है या निर्देश दे रहा है. उन्होंने कहा, "यह सरकार सिर्फ एक 'ट्रांसफर सरकार' है. पिछले 15 वर्षों में, कई अधिकारी हैं जो बीएमसी में बहुत मेहनत कर रहे हैं, लेकिन अब उनमें से कुछ को तीन दिनों में तीन से पांच बार ट्रांसफर कर दिया गया है. ऐसा क्यों है?" इतना भ्रम, कोई नहीं जानता. सरकार को इस बारे में जल्द स्थिति साफ करनी चाहिए.' उन्होंने कहा कि मुंबई राज्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है और सभी परियोजनाओं को पूरा करने की जरूरत है.

ये भी पढ़ें:-

भारत जोड़ो या गठबंधन तोड़ो? राहुल गांधी बनाम टीम उद्धव ठाकरे: 10 फैक्ट्स

सावरकर पर हुए विवाद को लेकर कांग्रेस से गठबंधन तोड़ सकते हैं ठाकरे, टीम उद्धव के नेता ने दिया संकेत

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


 

Featured Video Of The Day

राहुल गांधी ने श्रीनगर के लाल चौक पर लहराया तिरंगा