ये कैसी मजबूरी? PM मोदी 'वंदे मातरम' का नारा लगा रहे थे, नीतीश चुपचाप बैठे रहे, देखें VIDEO

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए चुनावी प्रचार में के दौरान बिहार के दरभंगा में कुछ दिनों पहले पीएम मोदी की रैली का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें अपना भाषण समाप्त करने के बाद पीएम मोदी और मंच पर मौजूद सभी नेता वंदे मातरम का नारा लगा रहे हैं.

पटना:

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए चुनावी प्रचार में के दौरान बिहार के दरभंगा में कुछ दिनों पहले पीएम मोदी की रैली का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें अपना भाषण समाप्त करने के बाद पीएम मोदी और मंच पर मौजूद सभी नेता वंदे मातरम का नारा लगा रहे हैं, लेकिन एनडीए के अहम सहयोगी नीतीश कुमार इस भीड़ से दूर चुपचाप बैठे रहे. दरअसल, बिहार के दरभंगा में भाजपा और जदयू की एक संयुक्त रैली हुई, जिसमें पीएम मोदी और नीतीश कुमार एक साथ मंच पर मौजूद थे, मगर जब वंदे मातरम का नारा लगाया गया, तब सभी नेता और सभा में मौजूद भीड़ ने मुठी बांधकर और हाथ ऊपर उठाकर वंदे मातरम का नारा लगाया, मगर नीतीश कुमार चुपचाप बैठे रहे. 

बिहार में बोले PM मोदी- जिन्हें भारत माता की जय और वंदे मातरम बोलने से दिक्कत उनकी जमानत हो जब्त

पीएम मोदी और नीतीश कुमार की मौजूदगी में इस घटना का यह वीडियो इस चुनाव का दुर्लभ दस्तावेज़ की तरह है. बिहार के दरभंगा में बीजेपी और जेडीयू की संयुक्त रैली हुई. प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मंच पर थे. भाषण के अंत में प्रधानमंत्री मोदी ने ज़ोर-ज़ोर से वंदे मातरम- वंदे मातरम का नारा लगाया. भीड़ और मंच पर बैठे नेता मुट्ठी बांध कर, हवा में हाथ उठा कर वंदे मातरम...वंदे मातरम करने लगे. यहां तक कि रामविलास पासवान भी वंदे मातरम...वंदे मातरम करने लगे. मगर नीतीश कुमार उसी गठबंधन के बीच अपनी राजनीतिक समझ को बचाते रहे. उनके अगल-बगल हर शख्स वंदे मातरम...वंदे मातरम कर रहा था. मगर नीतीश कुमार चुपचाप बैठे रह गए. उन्होंने हाथ उठाकर ज़ोर-ज़ोर से वंदे मातरम... वंदे मातरम नहीं किया.


पीएम मोदी की रैली से पहले बिहार को तोहफा, दूसरे एम्स को लेकर जारी सस्पेंस खत्म

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


दरअसल, नीतीश कुमार का ऐसा करना यह दिखाता है कि किस तरह एक नेता अपने राजनीतिक स्पेस को बनाता है, बचाता है, और किसी को एतराज़ भी नहीं. नीतीश कुमार का पीएम मोदी के सुर में सुर नहीं मिलाना इस बात के संकेत हैं कि नीतीश कुमार वोट बैंक का ख्याल रख रहे हैं और सियासत में सेफ खेलने की कोशिश कर रहे हैं. नीतीश कुमार हिंदू-मुस्लिम के साथ-साथ उन सभी जातियों के वोट बैंक को साधने की कोशिश में रहते हैं, जो बीजेपी की विचारधारा से इत्तेफाक नहीं रखना चाहते हैं.