विज्ञापन
Story ProgressBack

राजनाथ ने लगाए फोन, राहुल की 1 शर्त और... जानें NDA ने कैसे लगाई ओम बिरला के नाम पर मुहर

लोकसभा स्पीकर (Lok Sabha Speaker) के लिए अब चुनाव होगा. विपक्ष ने ओम बिरला के सामने के सुरेश को उतार दिया है. विपक्ष में इस बात की नाराजगी है कि बिरला का नाम फाइनल करने से पहले उनसे इस पर चर्चा नहीं की गई.

राजनाथ ने लगाए फोन, राहुल की 1 शर्त और... जानें NDA ने कैसे लगाई ओम बिरला के नाम पर मुहर
लोकसभा स्पीकर के लिए ओम बिरला और के सुरेश के बीच मुकाबला.
नई दिल्ली:

18वीं लोकसभा में स्पीकर कौन होगा, इसे लेकर सस्पेंस खत्म हुआ ही था कि नया ट्विस्ट आ गया है. स्पीकर (Lok Sabha Speaker) पद को लेकर ओम बिरला का नाम तय हुआ, तो विपक्ष ने ऐलान कर दिया कि वह भी अपना उम्मीदवार उतारेगा. मतलब साफ है कि अब चुनाव होगा. किसी को भी निर्विरोध नहीं चुना जाएगा. एनडीए ने ओम बिरला को फिर से लोकसभा अध्यक्ष (Om Birla) के लिए उम्मीदवार बनाया है.उनका मुकाबला अब कांग्रेस के के सुरेश से होगा. विपक्ष की नाराजगी इस बात से है कि सरकार ने बिरला के नाम पर उनसे बातचीत नहीं की, जबकि चर्चा करनी चाहिए थी. अब लोकसभा अध्यक्ष के लिए चुनाव होगा. इससे पहले विपक्ष ने उम्मीदवार न उतारने का फैसला किया था. लेकिन आखिरी मौके पर ट्विस्ट आ गया.

पहले जब माना जा रहा था कि स्पीकर ओम बिरला ही बनेंगे. ओम बिरला के चेहरे का चुनाव एनडीए के लिए भी आसान नहीं रहा. इसके पर्दे की पीछे की कहानी भी उतनी ही दिलचस्प है. स्पीकर एनडीए से हो, इसे लेकर बंद कमरे में जेडीयू और कांग्रेस से मान मनौव्वल का दौर भी खूब चला. इसके लिए न सिर्फ नीतीश कुमार बल्कि मल्लिकार्जुन खरगे से भी बातचीत की गई, जिसके बाद विपक्ष स्पीकर पद पर उम्मीदवार न उतारने को लेकर सहमत हो गया. एनडीए के लिए लोकसभा स्पीकर बनाना आसान हो सके, इसके लिए मोर्चा संभाला राजनाथ सिंह ने. स्पीकर की राह में कोई रोड़ा न आए, इसके लिए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार देर रात कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे से बात की और इस मुद्दे पर विपक्ष का समर्थन मांगा. खरगे के अलावा राजनाथ ने डीएमके नेता एम के स्टालिन समेत अन्य विपक्षी नेताओं को भी फोन घुमाया, तब जाकर ओम बिरला का नाम फाइनल करना आसान हो सका. लेकिन आखिरी मौके पर सबकुछ बदल गया. बताते हैं कि इससे पहले क्या हुआ. 

कैसे तय हो सका लोकसभा अध्यक्ष का नाम?

सूत्रों के मुताबिक, पहले एनडीए की तरफ से स्पीकर के लिए चार नामों की चर्चा चल रही थी. ये चार नाम थे- ओम बिरला, भर्तहरि महताब , राधा मोहन सिंह और डी पुरंदेश्वरी के. लेकिन ओम बिरला मंगलवार को जब संसद भवन में पीएम मोदी से मिलने पहुंचे तो इनमें से कई नाम धुंधले होने लगे और तस्वीर लगभग साफ हो गई. कयास लगाए जाने लगे कि लोकसभा में एक बार फिर से ओम बिरला का दबदबा होगा. हुआ भी कुछ ऐसा ही. पीएम मोदी से मुलाकात के महज कुछ ही समय के भीतर ही ये खबर सामने आ गई कि ओम बिरला एक बार फिर से लोकसभा अध्यक्ष बनने जा रहे हैं. 

स्पीकर पर बात नहीं हुई, विपक्ष की नाराजगी

 वहीं विपक्ष चाहता था कि स्पीकर के चेहरे पर उनके साथ भी बातचीत की जाए. RSP के एनके प्रेमचंद्रन ने कहा कि विपक्षी गठबंधन के कुछ दलों को लगता है कि अगर सरकार उनके साथ स्पीकर के नाम को लेकर चर्चा नहीं करती है तो उनको चुनाव लड़ना चाहिए. हालांकि फिर खबर आई कि विपक्ष स्पीकर चुनाव से पीछे हट गया है. प्रेमचंद्रन का कहना था कि लोकसभा में विपक्ष के 234 सांसद हैं, इसीलिए स्पीकर चुनने के लिए विपक्ष के साथ बातचीत जरूरी है. अब उन चेहरों के बारे में भी बताते हैं, जिनका नाम ओम बिरला का नाम फाइनल होने से पहले तक नए स्पीकर की रेस में चल रहा था.


ओम बिरला

एनडीए की तरफ से 18वीं लोकसभा के स्पीकर पद के लिए ओम बिरला का नाम सबसे आगे चल रहा है. ओम बिरला 17वीं लोकसभा में भी लोकसभा के स्पीकर रह चुके हैं. उन्होंने राजस्थान के कोटा लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार प्रह्लाद गुंजन को 41974 वोटों से शिकस्त दी थी. RSS का गढ़ माने जाने वाले कोटा के चुनावी मैदान में बीजेपी ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को उतारा था. वह कोटा बूंदी सीट से लगातार तीसरी बार सासंद बने हैं. 

Latest and Breaking News on NDTV

भर्तहरि महताब

भर्तहरि महताब ओडिशा से बीजेपी के सांसद हैं. उनको 18वीं लोकसभा में प्रोटेम स्पीकर बनाया गया है. यह एक अस्थायी पद है. जिसके तहत उन्होंने सोमवार को नए सदस्यों को शपथ दिलवाई थी. उनका नाम भी स्पीकर की रेस में चल रहा था. हालांकि इस बारे में उनकी तरफ से कोई भी बयान सामने नहीं आया. भर्तहरि महताब को जब प्रोटेम स्पीकर बनाया गया, तो विपक्ष ने इस कदम की जमकर आलोचना की. बता दें भर्तहरि मेहताब सात बार के लोकसभा सासंद हैं. मेहताब पहले बीजेडी में थे. लोकसभा चुनाव से पहले उन्होंने बीजेपी का दामन थाम लिया था. वह बीजेपी के टिकट पर 1998 से कटक सीट पर छह बार जीत हासिल कर चुके हैं. सातवीं बार उन्होंने बीजेपी के टिकट पर परचम लहराया है. 

Latest and Breaking News on NDTV

 राधा मोहन सिंह

 राधामोहन सिंह बीजेपी के सीनियर नेता है. वह बिहार के पूर्वी चंपारण लोकसभा से सांसद हैं. उन्होंने इस लोकसभा चुनाव में विकासशील इंसान पार्टी के राजेश कुमार को हराकर जीत हासिल की है. राधा मोहन सिंह ने छठी बार लोकसभा चुनाव में जीत हासिल की है. उनका नाम भी लोकसभा स्पीकर की रेस में शामिल था. राधामोहन सिंह 2014 और 2019 में मंत्री भी रह चुके हैं. उनको संगठन में काम करने का लंबा अनुभव है. वह 2006 से 2009 तक बिहार बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष भी रह चुके हैं. 

Latest and Breaking News on NDTV

डी पुरंदेश्वरी

लोकसभा स्पीकर के लिए डी पुरंदेश्वरी का नाम भी स्पीकर की रेस में खूब चला. डी पुरंदेश्वरी तेलुगू देशम पार्टी (TDP) के संस्थापक और दिग्गज नेता रहे एनटी रामाराव की बेटी और आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू की साली हैं. उनकी उम्र 64 साल है. वर्तमान में वह आंध्र प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष हैं. 1996 में एनटी रामाराव के तख्तापलट के समय पुरंदेश्वरी ने चंद्रबाबू नायडू का समर्थन किया था. उस वक्त वह काफी चर्चा में रही थीं.

Latest and Breaking News on NDTV

लोकसभा चुनाव के बाद जब यह चर्चा थी कि टीडीपी लोकसभा स्पीकर पद अपने पास चाहती है. तो उस समय डी पुरंदेश्वरी के नाम की स्पीकर के पद के लिए खूब चर्चा हुई थी. उनको नायडू की काट के तौर पर देखा जा रहा था. उनका नाम अभी भी स्पीकर की रेस में चल रहा था. उनका कहना था कि पार्टी जो भी जिम्मेदारी देगी. उसे वह संभालेंगी. लेकिन फिर लोकसभा के नए अध्यक्ष के तौर पर ओम बिरला का नाम सामने आया. अब उनका मुकाबला कांग्रेस के के सुरेश से है. 

ये भी पढ़ें-Parliament Session 2024 LIVE Updates: लोकसभा स्पीकर के लिए ओम बिरला के नाम की चर्चा, विपक्ष ने की डिप्टी स्पीकर पद की मांग

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
दिल्ली से सटे फरीदाबाद में आया भूकंप, जानें कितनी रही तीव्रता
राजनाथ ने लगाए फोन, राहुल की 1 शर्त और... जानें NDA ने कैसे लगाई ओम बिरला के नाम पर मुहर
LIVE updates: लोकसभा में नीट पर हंगामा, विपक्ष का सवाल 7 साल में 70 बार लीक हुआ पेपर, धर्मेंद्र प्रधान बोले- कोई सबूत नहीं
Next Article
LIVE updates: लोकसभा में नीट पर हंगामा, विपक्ष का सवाल 7 साल में 70 बार लीक हुआ पेपर, धर्मेंद्र प्रधान बोले- कोई सबूत नहीं
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;