कौन है मॉरिस नोरोन्हा... फेसबुक लाइव में मुंबई के राजनेता की हत्या कर की खुदकुशी

2022 में मौरिस नोरोन्हा को गंभीर कानूनी परेशानियों का सामना करना पड़ा, जब पुलिस ने उनके खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया. आरोपों में 48 वर्षीय महिला को ब्लैकमेल करना, बलात्कार, धोखाधड़ी और धमकी देना शामिल था.

मुंबई :

मुंबई में दहिसर के पूर्व नगरसेवक अभिषेक घोसालकर (Abhishek Ghosalkar) की गोली मारकर हत्या के मामले में दो एफआइआर दर्ज की गई हैं. एक हत्या का मामला और दूसरा खुदकुशी का. गुरुवार शाम आरोपी मॉरिस नोरोन्हा (Mauris Noronha) ने अभिषेक घोसालकर को अपने दफ्तर में बुलाकर फेसबुक लाइव के दौरान ही उसको 5 गोली मारी और फिर उसके कुछ मिनट बाद खुद को भी गोली मार ली थी. दोनो की मौत हो चुकी है. 

मेहुल पारिख नाम के शख्स की एंट्री

मुंबई पुलिस ने इस हत्‍याकांड के मामले में मेहुल पारिख नाम के एक शख्स को हिरासत में लिया गया है. दरअसल, जब फेसबुक लाइव चल रहा था, तब मेहुल, मॉरिस के दफ़्तर पहुंचा था. लाइव के दौरान ही मॉरिस ये कहकर उठते दिखा था कि मेहुल आया है. उसके कुछ देर बाद ही मॉरिस ने अभिषेक घोसालकर को गोली मार दी और खुद को भी गोली मार ली थी. इस वारदात में मेहुल की कोई भूमिका है...? इस बात की पुलिस जांच कर रही है. इस मामले की जांच मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच  को दे दी गई है.  

Latest and Breaking News on NDTV

कौन था मॉरिस नोरोन्‍हा

मॉरिस नोरोन्हा लॉस एंजेलिस में रहता था. वह कोरोना महामारी के कुछ साल पहले ही लॉस एंजेलिस से वापस मुंबई आया था. मॉरिस बोरीवली के आईसी कॉलोनी में अपने घर में रहता था. खुद को पोकर खिलाड़ी बताने वाले मॉरिस ने कोरोना के दौरान हजारों गरीबों को राशन किट और जरूरी सामान देकर मदद की थी. मुंबई के बोरीवली में "मॉरिस भाई" के नाम से मशहूर नोरोन्हा ने सोशल मीडिया पर खुद को एक पुरस्कार विजेता सामाजिक कार्यकर्ता, एक कोविड वॉरियर और एक परोपकारी व्यक्ति के रूप में प्रस्तुत किया. गरीबों में उसकी छवि अच्छी बन गई थी. उसके बाद मॉरिस नगरसेवक का चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहा था. हालांकि, अभिषेक घोसालकर नही चाहते थे कि वो उनके वार्ड से चुनाव लडे़, इसी बात को लेकर दोनो में झगड़ा था. 

प्‍लानिंग के साथ ही हत्‍या...!

मॉरिस पर बलात्कार का मामला दर्ज था, जिसके लिए उसे जेल भी हुई थी. 2022 में मौरिस नोरोन्हा को गंभीर कानूनी परेशानियों का सामना करना पड़ा, जब पुलिस ने उनके खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया. आरोपों में 48 वर्षीय महिला को ब्लैकमेल करना, बलात्कार, धोखाधड़ी और धमकी देना शामिल था. हालांकि, आरोप 2014 के थे, लेकिन शिकायत 2022 में दर्ज की गई. मॉरिस को शक था कि अभिषेक घोसालकर ने ही उसके खिलाफ केस करवाया था, इसलिए वो नाराज था. जिस तरह से अपने दफ़्तर में बुलाकर समझौते की बात फेसबुक लाइव में करते हुए उसने गोली मारी है, उससे लगता है कि मॉरिस ने पहले से ही सबकुछ प्लान कर रखा था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ये भी पढ़ें :-