क्या राज ठाकरे माफी मांगेंगे ? MNS प्रमुख की अयोध्या यात्रा के विरोध में उतरे यूपी के BJP सांसद

राज ठाकरे ने इस मुद्दे पर अब तक चुप्पी साध रखी है और उनके नेता भी कुछ बोलने को तैयार नही हैं लेकिन एमएनएस प्रमुख के अयोध्या दौरे की तैयारी जोरों पर है.

मुंबई :

मराठी अस्मिता की बात कहने वाले MNS प्रमुख राज ठाकरे (Raj Thackeray)ने अब हिंदू का चोला पहन लिया है. राज ने अयोध्या में रामलला के दर्शन करने के लिए जाने का ऐलान किया है. लेकिन उनकी अयोध्‍या यात्रा को लेकर सियासत शुरू हो गई है. यूपी के बीजेपी सांसद ब्रज भूषण सिंह ने राज ठाकरे के अयोध्या दौरे का विरोध किया है.उनका कहना है कि जब तक राज उत्तर भारतीयो से माफी नही मानेंगे तब तक उन्हें अयोध्या नही आने दिया जाएगा. ऐसे में सवाल यह है क्या राज ठाकरे माफी मांगेंगे ? कभी सिर्फ मराठी हित की बात करने वाले राज ठाकरे अब हिंदू जननायक बनने की कोशिश में हैं.इसलिए पहले मस्जिदों पर से लाउडस्पीकर हटाने का मुद्दा उठाया और अब 5 जून को अयोध्या जाकर रामलला के दर्शन करने वाले हैं लेकिन बीजेपी सांसद बृजभूषण सिंह ने ये कहकर राजके दौरे का विरोध कर दिया है कि जब तक राज ठाकरे उत्तर भारतीयों से माफी नही मांगेगे तब तक उन्हें अयोध्या में घुसने नही देंगे.

राज ठाकरे ने इस मुद्दे पर अब तक चुप्पी साध रखी है और उनके नेता भी कुछ बोलने को तैयार नही हैं लेकिन एमएनएस प्रमुख के अयोध्या दौरे की तैयारी जोरों पर है. दरअसल राज की छवि उत्तर भारतीय विरोधी है और उनके लोग रेलवे की परीक्षा देने आए उत्तर भारतीय युवकों की पिटाई कर चुके हैं. फेरी वालों और टैक्‍सी चालकों को भी एनएनएस कार्यकर्ताओं के गुस्‍से का शिकार बनना पड़ा है.यही वजह है कि शिवसेना से अलग होने के बाद चाहकर भी बीजेपी, एमएनएस से युति करने की हिम्मत नही जुटा पा रही है. उसे डर है कि इस कदम से उत्तर भारतीय वोटर, बीजेपी से नाराज हो सकते हैं. बता दें कि अकेले मुंबई में 30 लाख के करीब उत्तर भारतीय मतदाता हैं. चर्चा है कि  बीजेपी ने ही राज ठाकरे को हिंदुत्व का मंत्र दिया है ताकि शिवसेना के कांग्रेस के साथ जाने से नाराज मराठी वोटर एमएनएस की तरफ हो जाए और उत्तर भारतीय लोगों की नाराजगी भी कम हो जाए लेकिन बीजेपी के ही एक सांसद ने फिर से उत्तर भारतीयों की पिटाई का मुद्दा उठाकर जख्म को ताजा कर दिया है. पूर्व सीएम और वरिष्‍ठ बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस ने इस मुद्दे पर कहा, ' मुझे विरोध करने का कारण समझ मे नही आ रहा है. मेरी स्पष्ट राय है कि जो भी श्रीराम के चरणों में जाना चाहता है उसे जाने दिया जाना चाहिए.'  उत्‍तर भारतीयों के बीजेपी नेता अमरजीत मिश्रा ने कहा, 'राम लला के दर्शन की कोई बात करता है तो उसका अंतरभाव ही यही है कि वो दुर्जन से सज्जन बन गया है. इसलिए अलग से माफी मांगने की जरूरत नही है.

बता दें, राज ठाकरे ने जब से हिंदुत्व का राग अलापा है और अयोध्या जाने की बात की है तब से महाराष्ट्र की राजनीति का केंद्र अयोध्या बनता दिख रहा है क्योंकि राज ठाकरे के बाद शिवसेना के युवा मंत्री और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे और तो और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने भी अयोध्या जाने की घोषणा कर दी है जबकि एनसीपी प्रमुख शरद पवार के नाती रोहित पवार अयोध्या जाकर आ चुके हैं. 

- ये भी पढ़ें -

* हिमाचल विधानसभा पर खालिस्तानी झंडा लगाने के केस में पहली गिरफ्तारी, एक शख्स फरार
* CM ममता बनर्जी को सम्मानित किए जाने के विरोध में लेखिका ने लौटाया पुरस्कार, कह दी बड़ी बात
* मध्य प्रदेश : खच्चर ढो रहे हैं पानी, जानें गहराता 'पेयजल संकट' कैसे बन रहा विवाह में रोड़ा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


"कोई नया केस दर्ज करना ठीक नहीं होगा": राजद्रोह केस पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट