यह ख़बर 10 जुलाई, 2014 को प्रकाशित हुई थी

मरणासन्न अर्थव्यवस्था के लिए संजीवनी है यह बजट : नरेंद्र मोदी

फाइल फोटो

नई दिल्ली:

अपनी सरकार के पहले आम बजट को 'मरणासन्न' अर्थव्यवस्था के लिए 'संजीवनी' बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि उनकी सरकार भारत को संकट से बाहर निकालने के लिए प्रतिबद्ध तथा आश्वस्त है और यह विश्वास 125 करोड़ भारतवासियों की क्षमता और शक्तियों के कारण है।

वित्तमंत्री अरुण जेटली को उनके पहले बजट के लिए बधाई देते हुए मोदी ने कहा कि इस बजट ने जनता की उम्मीदों और आकांक्षाओं को विश्वास में बदल दिया है। उन्होंने विश्वास जताया कि यह बजट भारत को तरक्की की नई ऊंचाइयों पर पहुंचाएगा और यह गरीबों तथा समाज के वंचित तबकों के लिए उम्मीद की किरण है।

उन्होंने कहा, ''मरणासन्न अर्थव्यवस्था के लिए यह बजट अंतिम पंक्ति में खड़े आदमी के लिए एक संजीवनी और अरुणोदय के रूप में आया है।'' प्रधानमंत्री ने कहा कि यह बजट जनभागीदारी और जनशक्ति को बढ़ावा देगा। यह बजट भारत को आधुनिक प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल के साथ कुशल और डिजिटल बनाने का प्रयास है।

मोदी ने कहा कि विकास को 'समावेशक, सर्वदेशक और सर्वस्पर्शी' होना चाहिए और इसे देश के उन क्षेत्रों तक पहुंचना चाहिए जो अभी तक अविकसित हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मुश्किल समय के बावजूद सरकार गरीबों, नव-मध्यम वर्ग और मध्यम वर्ग को 'सबका साथ, सबका विकास' के मंत्र के साथ हरसंभव सहायता देने के लिए प्रतिबद्ध है।

मोदी ने संप्रग सरकार के पिछले एक दशक में अर्थव्यवस्था के हालात की ओर इशारा करते हुए कहा कि इस दौरान पूरी अर्थव्यवस्था चरमरा गई जिसकी वजह से न केवल भारत बल्कि दुनिया ने उम्मीद छोड़ दी थी और निराशा का माहौल था। उन्होंने भारत की जनता को आश्वासन दिया कि सरकार भारत के विकास में और देश को इन चुनौतियों से मुक्त कराने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेगी।

नई सरकार के प्रयासों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ''जब हमने सरकार बनाई तो इस तरह की चर्चाएं हो रहीं थीं कि क्या यह सरकार देश को संकट से मुक्त करा पाएगी, लेकिन पहले रेलवे बजट और आज इस आम बजट ने दिखा दिया है कि हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।''

बजट में आदिवासी समुदाय के विकास और युवाओं के कौशल विकास के प्रावधानों का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा, 'यह बजट भारत को कुशल और डिजिटल बनाने के सरकार के दृष्टिकोण के अनुरूप है।' उन्होंने कहा कि कृषि सिंचाई योजना से किसानों को लाभ होगा। उन्होंने गंगा के निर्मलीकरण के लिए बजट में प्रावधान किए जाने की भी सराहना की।

प्रधानमंत्री ने कहा कि यह बजट गृहिणियों के लिए उम्मीद की किरण बनेगा और उनके ऊपर से महंगाई के बोझ को कम करेगा। साथ ही यह बजट महिलाओं के सशक्तिकरण और बालिका शिक्षा को अत्यधिक महत्व देता है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने सरकार की इस प्रतिबद्धता को दोहराया कि वह भारत को रक्षा क्षेत्र में आत्म-निर्भर बनाएगी।