विपक्षी एकता समेत कई मुद्दों पर अरविंद केजरीवाल और ममता बनर्जी के बीच हुई बातचीत

दोनों नेता दिल्ली में तृणमूल कांग्रेस के सांसद  अभिषेक बनर्जी के घर पर मिले. कांग्रेस के लगातार कमजोर होने के बीच 2024 में ममता और केजरीवाल को विपक्ष में मजबूत नेताओं के तौर पर देखा जा रहा है. 

विपक्षी एकता समेत कई मुद्दों पर अरविंद केजरीवाल और ममता बनर्जी के बीच हुई बातचीत

अरविंद केजरीवाल और ममता बनर्जी के बीच दिल्ली में हुई मुलाकात (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (West bengal CM Mamata Banerjee ) ने शुक्रवार को मुलाकात की. गोवा विधानसभा चुनाव में दोनों दलों के अलग-अलग चुनाव लड़ने और रिश्तों में दिखी तल्खी के बाद इस बैठक को बेहद महत्वपूर्ण माना जा रहा था. दोनों नेताओं की मुलाकात करीब आधा घंटा चली. यह मुलाकात तब हुई, जब काफी समय से यह अटकलें लग रही थी कि दोनों के रिश्तो में कुछ खटास आ गई है, क्योंकि आम आदमी पार्टी गोवा में जब गंभीरता से चुनाव लड़ रही थी. तब अचानक से तृणमूल कांग्रेस भी वहां चुनाव लड़ने पहुंच गई और अरविंद केजरीवाल ने इस बात पर नाखुशी भी जाहिर की थी.इस मुलाकात से दोनों नेताओं के खराब होते रिश्तो की अटकलों पर विराम लगता दिख रहा है.

राष्ट्रीय सम्मेलन में शामिल होने ममता बनर्जी दिल्ली जाएंगी, प्रधानमंत्री से नहीं करेंगी मुलाकात

राष्ट्रीय सम्मेलन में शामिल होने ममता बनर्जी दिल्ली जाएंगी, प्रधानमंत्री से नहीं करेंगी मुलाकातइस मुलाकात में क्या बात हुई इस पर दोनों ही तरफ से कुछ नहीं बताया गया है लेकिन समझा जाता है कि विपक्षी एकता और राष्ट्रपति चुनाव के मुद्दे पर चर्चा हुई हो. हालांकि आप या तृणमूल कांग्रेस की ओर यह सार्वजनिक नहीं किया गया कि दोनों  के बीच क्या और किन मुद्दों पर बातचीत हुई है. सूत्रों का कहना है कि ऐसा समझा जाता है कि दोनों के बीच 2024 के लोकसभा चुनाव में विपक्ष की एकता और आगामी राष्ट्रपति चुनाव को लेकर वार्ता हुई हो.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


टीएमसी के एक नेता ने कहा कि यह शिष्टाचार मुलाकात थी. ममता बनर्जी ने केजरीवाल को पंजाब में आम आदमी पार्टी की जीत की बधाई दी. दोनों नेता दिल्ली में तृणमूल कांग्रेस के सांसद  अभिषेक बनर्जी के घर पर मिले. कांग्रेस के लगातार कमजोर होने के बीच 2024 में ममता और केजरीवाल को विपक्ष में मजबूत नेताओं के तौर पर देखा जा रहा है.