सिद्धू मूसेवाला की मौत के लिए उनके पिता ने पंजाब सरकार को जिम्मेदार ठहराया

पंजाबी गायक गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद पहली बार उनके पिता बलकौर सिंह ने सार्वजनिक रूप राज्य सरकार पर सुरक्षा में कटौती किए जाने का आरोप लगाया

सिद्धू मूसेवाला की मौत के लिए उनके पिता ने पंजाब सरकार को जिम्मेदार ठहराया

सिद्धू मूसेवाला के पिता बलकौर सिंह ने कहा कि मूसेवाला पर आठ बार हमले की कोशिशें हुई थीं.

नई दिल्ली:

Sidhu Moose wala murder case: पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला के पिता बलकौर सिंह (Balkaur Singh) ने पहली बार सार्वजनिक रूप से मूसेवाला की मौत के लिए राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने आरोप लगाया है कि सिद्धू मूसेवाला (Sidhu Moose Wala) की सुरक्षा में कटौती किए जाने के कारण उन पर हमला हुआ. उन्होंने यह भी कहा कि सिद्धू मूसेवाला पर चुनाव प्रचार के दौरान आठ बार हमले की कोशिशें हुई थीं. सिद्धू मूसेलावा इस साल हुए पंजाब के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस से उम्मीदवार थे.  

सिद्धू मूसेवाला के पिता बलकौर सिंह ने कहा कि ''गैंगस्टर (पंजाब में) समानांतर सरकार चला रहे हैं. जवान मर रहे हैं. मिद्दुखेड़ा का बदला लिया, कल सिद्धू के लिए कोई करेगा. लेकिन हमारे घरों को तबाह किया जा रहा है.'' 

पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में दिल्ली पुलिस के स्पेशल सीपी एचएस धारीवाल ने एनडीटीवी को बताया कि इस हत्याकांड को किस तरह से अंजाम दिया गया. उन्होंने बताया कि पुलिस के पास इस हत्याकांड से जुड़े कोई बड़े सुराग और तथ्य नहीं थे, लेकिन इस मामले मे जमीनी स्तर पर काम किया गया. 

पंजाब से जुड़े गैंस्टरों, हथियार तस्करों और नशे के तस्करों के बीच लिंक निकाले और आठ लोगों को पूछताछ के लिए चिन्हित किया. पूछताछ में कुछ न कुछ तथ्य मिलते गए जिसके आधार अब तक इस हत्याकांड में कई शूटरों को गिरफ्तार किया जा चुका है. 3 जुलाई की रात में कश्मीरी गेट बस अड्डे के पास से सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड का सबसे कम उम्र का आरोपी गिरफ्तार किया गया है. इस सबसे कम उम्र के आरोपी ने मूसेवाला को पास जाकर 6 गोलिया मारी थीं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


धारीवाल ने कहा कि सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड का मुख्य उद्देश्य यूथ अकाली लीडर विक्की मिद्दूखेड़ा की हत्या का बदला और गैंगवार था. इसके अलावा और भी कई तरह के कारण जैसे उगाही और पैसे की बात सामने आई थी, लेकिन वो सब बातें ठोस नहीं हैं. मुख्य गैंगस्टर आज भले जेल में हैं, लेकिन उनके साथी और गुर्गे बाहर हैं, जो अपराध को अंजाम देते रहते हैं. कनाडा में बैठा गोल्डी बराड़ इस हत्याकांड की लगातार मॉनीटरिंग कर रहा था और हत्या के निर्देश दे रहा था.