"लोकतंत्र खत्‍म हो गया है": पंजाब के राज्‍यपाल के कदम पर बोले AAP संयोजक अरविंद केजरीवाल

Bhagwant Mann: बीजेपी पर विधायकों की खरीद का आरोप लगाते हुए पंजाब की भगवंत मान सरकार ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया था.

पंजाब के राज्यपाल ने पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने का आदेश वापस ले लिया है. राज्‍य में सत्‍तारूढ़ आम आदमी पार्टी सरकार ने कल विश्वास मत लेने के लिए विशेष सत्र बुलाया था. जानकारी के अनुसार,  कानूनी सलाह के बाद राज्यपाल ने यह फैसला किया है. दरअसल, केवल विश्वास मत लेने के लिए सत्र बुलाने का प्रावधान नहीं है. बीजेपी पर विधायकों की खरीद का आरोप लगाते हुए पंजाब की भगवंत मान सरकार ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया था, वह विश्वास मत लेना चाहती थी. दिल्‍ली में अरविंद केजरीवाल के नेतृत्‍व वाली आम आदमी पार्टी सरकार ने भी ऐसा ही किया था. 

राज्‍यपाल के इस फैसले पर आम आदमी पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. उन्‍होंने एक ट्वीट किया, "राज्यपाल कैबिनेट द्वारा बुलाए सत्र को कैसे मना कर सकते हैं? फिर तो जनतंत्र खत्‍म है. दो दिन पहले राज्यपाल ने सत्र की इजाज़त दी, जब ऑपरेशन लोटस फ़ेल होता लगा और संख्या पूरी नहीं हुई तो ऊपर से फ़ोन आया कि इजाज़त वापिस ले लो. आज देश में एक तरफ़ संविधान है और दूसरी तरफ़ ऑपरेशन लोटस."

nqdkj27

गौरतलब है कि दिल्ली में अरविंद केजरीवाल सरकार की ही तर्ज पर पंजाब में 'आप' की भगवंत मान सरकार ने विश्‍वास मत हासिल करने का फैसला किया था. विश्वासमत परीक्षण के लिए 22 सितंबर को पंजाब विधानसभा का एक दिवसीय विशेष सत्र बुलाया गया था. मुख्यमंत्री भगवंत मान ने एक वीडियो ट्वीट कर खुद इसकी जानकारी दी है. विश्‍वास मत हासिल कर सीएम मान की मंशा यह साबित करने की थी कि आम आदमी पार्टी (AAP)के सभी विधायक एकजुट हैं. इसी साल फरवरी में हुए पंजाब असेंबली चुनावों में विधानमसभा की कुल 117 सीटों में से 92 पर आप ने प्रचंड जीत दर्ज करते हुए राज्य में पहली बार सरकार बनाई है. 2017 में पार्टी को 20 सीटें हासिल हुई थीं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
       

* कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव का निधन, 10 अगस्त को जिम में हुआ था कार्डियक अरेस्ट
* पंजाब की यूनिवर्सिटी में 'खुदकुशी' को लेकर छात्रों का प्रदर्शन, यूनिवर्सिटी ने दी सफाई