BJP ज्वॉइन करने की चर्चा पर गुजरात में आप की टिकट पर जीतने वाले नेता ने कही ये बात

नेता ने बताया, "गुजरात के लोगों ने नरेंद्र मोदी और बीजेपी को रिकॉर्ड जनादेश दिया है. मैं इसका सम्मान करता हूं. मैं पहले बीजेपी के साथ था और नेताओं के साथ अच्छे संबंध हैं."

BJP ज्वॉइन करने की चर्चा पर गुजरात में आप की टिकट पर जीतने वाले नेता ने कही ये बात

(फाइल फोटो)

अहमदाबाद:

गुजरात विधानसभा में आम आदमी पार्टी के खराब प्रदर्शन के कारण उसके विधायकों का एक वर्ग बीजेपी की ओर देख रहा है. सूत्रों ने इस बात की जानकारी दी. आम आदमी पार्टी के विजयी विधायकों में से एक, भूपत भयानी ने इस बात से इनकार किया है कि वो आधिकारिक रूप से बीजेपी की ओर देख रहे हैं. 

हालांकि, भयानी ने एनडीटीवी से कहा कि वह इस मामले में "लोगों की राय" लेंगे. यह टिप्पणी आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल के इस दावे के विपरीत है कि "मेरा कोई भी हीरा बिक्री के लिए नहीं है." उनका बयान ये यह दर्शाता है कि जिन नेताओं को वह खड़ा कर रहे हैं वे शिविर नहीं बदलेंगे. 

भयानी ने NDTV को दिए एक एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में कहा, "मैं बीजेपी में शामिल नहीं हुआ हूं. मैं लोगों से पूछूंगा कि मुझे बीजेपी में शामिल होना चाहिए या नहीं." उन्होंने कहा, इसका कारण यह था कि विपक्ष के कम स्कोर ने उन्हें कमजोर बना दिया है और एक विधायक के रूप में, और विपक्षी बेंच पर बैठने से वह उन लोगों के लिए कुछ नहीं कर पाएंगे, जिन्होंने उन्हें वोट दिया था.

उन्होंने कहा, "मेरी सीट किसानों के प्रभुत्व वाले क्षेत्र में है. मुझे उनकी सिंचाई संबंधी समस्याओं को हल करने की आवश्यकता है. क्षेत्र में कई व्यापारी भी हैं. मुझे उनकी भी देखभाल करने की आवश्यकता है. मैं ऐसा नहीं कर पाऊंगा यदि मैं सरकार के साथ अच्छे संबंध नहीं हैं. मैंने अपनी मांगों को सरकार के सामने रखा है, सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है. मैं अब लोगों, नेताओं से सलाह लूंगा."

नेता ने बताया, "गुजरात के लोगों ने नरेंद्र मोदी और बीजेपी को रिकॉर्ड जनादेश दिया है. मैं इसका सम्मान करता हूं. मैं पहले बीजेपी के साथ था और नेताओं के साथ अच्छे संबंध हैं."

भयानी, जो पहले बीजेपी के साथ थे, बागी हो गए थे और आप में शामिल हो गए थे. हालांकि, उन्होंने जूनागढ़ जिले के विसावदर निर्वाचन क्षेत्र से अपनी जीत का श्रेय बीजेपी विधायक के रूप में किए गए अपने काम को दिया. उन्होंने कहा, "लोग मुझे जानते हैं."

दलबदल विरोधी कानून के लागू होने की संभावना के बारे में पूछे जाने पर भयानी ने इसे खारिज कर दिया. उन्होंने कहा, "भारत एक लोकतांत्रिक देश है और लोगों के लिए काम करना मेरा अधिकार है."

सूत्रों ने संकेत दिया कि बयाड, धानेरा और वाघोडिया के तीन निर्दलीय विधायक भी बीजेपी का समर्थन कर सकते हैं, जिसने राज्य में सातवां कार्यकाल भारी मतों के साथ जीता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह भी पढ़ें -
-- सुखविंदर सुक्खू ने हिमाचल प्रदेश के सीएम पद की शपथ ली, मुकेश अग्निहोत्री बने डिप्‍टी सीएम
-- Exclusive :"अरविंद केजरीवाल ने बहुत नुकसान किया"-गुजरात चुनाव में हार पर बोले गहलोत

Featured Video Of The Day

दिल्‍ली में मेयर चुनाव को लेकर AAP और BJP आमने-सामने, आज फिर सदन स्थगित