'ताजमहल नहीं बनता तो 40 रुपए होता पेट्रोल, महंगाई के लिए मोदी नहीं, मुगल जिम्मेदार...' : असदुद्दीन ओवैसी का तंज

ओवैसी इससे पहले भी पीएम मोदी पर निशान साधते रहे हैं. पैगंबर मोहम्मद पर नूपुर शर्मा की कथित विवादित टिप्पणी को लेकर ओवैसी ने सवाल उठाया था प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस मामले पर आखिर चुप क्‍यों हैं.

'ताजमहल नहीं बनता तो 40 रुपए होता पेट्रोल, महंगाई के लिए मोदी नहीं, मुगल जिम्मेदार...' : असदुद्दीन ओवैसी का तंज

AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी.

नई दिल्ली:

AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी जो कि मोदी सरकार पर तीखा निशाना साधते रहे हैं, हालही वे महंगाई और बेरोजगारी जैसे मुद्दों को लेकर पीएम मोदी की सरकार को एक बार फिर घेरते हुए नजर आए. उन्होंने पीएम मोदी सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि देश में जो महंगाई, बेरोजगारी है, उसके लिए पीएम मोदी नहीं, बल्कि मुगल जिम्मेदार हैं. AIMIM के टि्वटर हैंडल से ओवैसी का एक वीडियो शेयर किया गया है.

इस वीडियो में ओवैसी को केंद्र सरकार पर तंज सकते हुए हुए सुना जा सकता है, 'भारत में युवा बेरोजगार हैं, महंगाई आसमान को छू चुकी है, डीजल 100 रुपए पार हो गया तो इसके लिए पीएम मोदी नहीं, बल्कि मुगल बादशाह औरंगजेब जिम्मेदार है. बच्चों के लिए पास नौकरी नहीं है, इसके लिए बादशाह अकबर जिम्मेदार हैं. पेट्रोल 115 रुपए लीटर हो चुका है, इसके लिए ताजमहल बनाने वाला जिम्मेदार है. अगर ताजमहल नहीं बनाता तो आज पेट्रोल 40 रुपए में मिलता. इन्होंने ताजमहल और लाल किला बनाकर गलती की. ये नहीं बनाना था, वो पैसे बचाकर रखना चाहिए था कि साल 2014 में मोदी जी आएंगे और उनको ये पैसे दे दिए जाते.'

साथ ही उन्होंने कहा कि, 'हर चीज को लेकर मुस्लिम और मुगल जिम्मेदार हैं. क्या भारत के इतिहास में मुगलों की ही हुकूमत थी? उससे पहले कोई शासन नहीं था. क्या सम्राट अशोका का, चंद्रगुप्त मौर्य की सरकार नहीं थी? कई सरकारे थीं. लेकिन भाजपा की आंखों में सिर्फ मुगल दिखता है. एक आंख में मुगल और दूसरी में पाकिस्तान.'

'PM मोदी चुप क्‍यों हैं ?' : ओवैसी ने की नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग, केंद्र के रूख पर उठाए सवाल

एआईएमआईएम प्रमुख ने कहा, 'ना हमें मुगलों से कुछ लेना हैं और ना हमें पाकिस्तान से कुछ मतलब है. मगर इनको नजर आता है जिन्ना-जिन्ना. जिन्ना से हमें क्या करना है. हमने जिन्ना के पैगाम को ठुकरा दिया था. आजादी के 75 साल का जश्न हम 15 अगस्त को मनाने जा रहे हैं. भारत में जितने मुस्लिम हैं, वो इस बात की गवाही देते हैं कि उनके दादा और परदादा ने पाकिस्तान के पैगाम को ठुकराया था. भारत को अपना वतन माना था. भारत हमारा वतन है. हम भारत को नहीं छोड़ेंगे. तुम लाख नारे लगाओ 'छोड़ कर जाओ... छोड़कर जाओ'. छोड़कर जाना तो दूर की बात. हम जिंदा भी रहेंगे तो इस धरती पर सीना तानकर रहेंगे और मरेंगे भी तो इसी जमीन के अंदर जाएंगे.'

बता दें, देश में बढ़ती महंगाई और बेरोजगारी को विपक्षी पार्टियां पीएम मोदी सरकार पर हमलावर रहती हैं.

"कट्टरपंथ को नियंत्रित करने की ज़रूरत...", उदयपुर हत्याकांड पर बोले असदुद्दीन ओवैसी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वहीं, ओवैसी इससे पहले भी पीएम मोदी पर निशान साधते रहे हैं. पैगंबर मोहम्मद पर नूपुर शर्मा की कथित विवादित टिप्पणी को लेकर ओवैसी ने सवाल उठाया था प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस मामले पर आखिर चुप क्‍यों हैं. उन्‍होंने कहा कि वह सिर्फ नूपुर शर्मा के प्रधानमंत्री नहीं हैं, वह देश के 133 करोड़ लोगों के प्रधानमंत्री हैं, जिनमें 20 करोड़ के करीब मुसलमान भी आते हैं. हम प्रधानमंत्री से पूछना चाहते हैं कि आप नूपुर शर्मा को कब तक बचाएंगे. आप क्‍यों नहीं अरेस्‍ट करवाते हैं.