नई पीढ़ी को भविष्य के लिये तैयार करने की बुनियाद है नई शिक्षा नीति : पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने वाराणसी में अखिल भारतीय शिक्षा समागम का उद्घाटन किया. इस मौके पर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल (Anandiben Patel), मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) और केन्द्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान पीएम के साथ रहे.

नई पीढ़ी को भविष्य के लिये तैयार करने की बुनियाद है नई शिक्षा नीति : पीएम मोदी

प्रधानमंत्री ने वाराणसी में आयोजित अखिल भारतीय शिक्षा समागम का उद्घाटन किया.

वाराणसी:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  (PM Narendra Modi) ने कहा कि अंग्रेज हुकूमत ने अपनी जरूरतों को पूरा करने के मकसद से एक 'सेवक वर्ग' तैयार करने के लिए शिक्षा व्यवस्था बनाई थी. आजादी के बाद उसमें बहुत सारे बदलाव बाकी रह गये, जिसमें नई शिक्षा नीति (New education policy) के जरिये बदलाव लाकर नई पीढ़ी को आने वाले कल के लिये तैयार करने की जमीन बनाई जा रही है. प्रधानमंत्री ने अपने संसदीय निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी (Varanasi) में यह बात कही. प्रधानमंत्री ने आज वाराणसी में आयोजित अखिल भारतीय शिक्षा समागम का उद्घाटन किया.

इस अवसर पर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केन्द्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान भी मौजूद रहे. पीएम मोदी ने कहा ''पहले पढ़ाई की ऐसी व्यवस्था बनाई गई थी जिसमें शिक्षा का मकसद केवल और केवल नौकरी पाना ही था. अंग्रेजों ने अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए, अपने लिए सेवक वर्ग तैयार करने के लिए वह शिक्षा व्यवस्था दी थी." प्रधानमंत्री ने कहा, "आजादी के बाद इसमें थोड़े बहुत बदलाव हुए थे, लेकिन बहुत सारा बदलाव रह गया था.

अंग्रेजों की बनाई हुई व्यवस्था कभी भी भारत के मूल स्वभाव का हिस्सा नहीं थी और न हो सकती है.'' उन्होंने कहा ''हमारे देश में शिक्षा में अलग-अलग कलाओं की धारणा थी. बनारस ज्ञान का केंद्र केवल इसलिए नहीं था कि यहां अच्छे गुरुकुल और शिक्षण संस्थान थे बल्कि इसलिए था क्योंकि यहां ज्ञान और शिक्षा बहुआयामी थी. शिक्षा में यही व्यवस्था हमारी शिक्षा व्यवस्था का प्रेरणास्रोत होनी चाहिए."

उन्होंने कहा, ‘‘हम केवल डिग्री धारक युवा तैयार न करें बल्कि देश को आगे बढ़ने के लिए जितने भी मानव संसाधनों की जरूरत है, वह शिक्षा व्यवस्था अपने देश को उपलब्ध कराएं. इस संकल्प का नेतृत्व हमारे शिक्षक और शिक्षण संस्थानों को करना है. '' प्रधानमंत्री ने शिक्षा में आधुनिकता के साथ कदमताल की जरूरत पर जोर देते हुए कहा ''हमें यह पता होना चाहिए कि दुनिया आगे किस तरफ जा रही है, कैसे जा रही है और उसमें हमारा देश और हमारे युवा कहां हैं.

ये भी पढ़ें: 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video: सीएम भगवंत मान की लो प्रोफाइल पंजाबी शादी