सीरम इंस्टीट्यूट मंकीपॉक्स की वैक्सीन के लिए डेनमार्क की कंपनी से कर रहा बातचीत : अदार पूनावाला

पूनावाला ने एनडीटीवी का बताया कि डेनमार्क के कंपनी बावेरियन नॉर्डिक (Denmark's Bavarian Nordic) से स्‍मालपॉक्‍स की वैक्‍सीन तीन माह में भारत में आ सकती है. सीरम इंस्‍टीट्यूट के पास लाइसेंस के तहत थोक में स्‍मालपॉक्‍स के वैक्‍सीन बनाने की क्षमता है.

नई दिल्‍ली :

देश में मंकीपॉक्‍स (monkeypox) के चार मामलों से उभरी चिंता के बीच वैक्‍सीन निर्माता अदार पूनावाला (Adar Poonawalla) ने कहा है कि वह आपातकालीन स्थिति में स्‍मालपॉक्‍स (बड़ी माता) के टीकों को थोक में आयात करने की संभावना तलाश रहे हैं. उन्‍होंने यह भी कहा कि सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) मंकीपॉक्‍स का एक मैसेंजर  RNA (mRNA) वैक्‍सीन विकसित करने के लिए नोवावैक्‍स से बात कर रहा है. पूनावाला ने एनडीटीवी का बताया कि डेनमार्क के कंपनी बावेरियन नॉर्डिक (Denmark's Bavarian Nordic) से स्‍मालपॉक्‍स की वैक्‍सीन तीन माह में भारत में आ सकती है. सीरम इंस्‍टीट्यूट के पास लाइसेंस के तहत थोक में स्‍मालपॉक्‍स के वैक्‍सीन बनाने की क्षमता है.

उन्‍होंने कहा, "तकनीकी जानकारी रखने वाले वैक्‍सीन निर्माता के तौर पर हम पार्टनर्स (साझेदारों) से बात कर रहे हैं. हम नोवावैक्‍स से बात कर रहे हैं. हमें वास्‍तव में यह देखने की जरूरत है कि क्‍या बहुत अधिका मांग होगी या फिर तीन से चार माह में यह खत्‍म हो जाएगा."पूनावाला ने कहा कि सैद्धांतिक रूप से हमें शुरुआत से लेकर एक वैक्‍सीन बनाने तक की प्रक्रिया में एक वर्ष से अधिक का समय लग सकता है. आपात स्थिति में हम उस कंपनी द्वारा बनाए गए उत्‍पाद की पूर्ण फिनिशिंग कर सकते हैं जो सुरक्षा मुद्दों (safety issues) की चिंता के बिना भारतीयों तक पहुंच सकती है. शुरुआत से इसे बनाने में कुछ समय लगेगा. 

उन्‍होंने कहा कि यह कोई रहस्‍य नहीं है कि मंकीपॉक्‍स के मामले आ रहे हैं. ऐसा दशकों से हो रहा है. फर्क  केवल यह था कि वैश्चिक स्‍वास्‍थ्‍य व्‍यवस्‍था  (global health system) संक्रामक बीमारियों का पता लगाने और इसका सामना करने के लिए अधिक प्रशिक्षित और सुसज्जित थी. हालांकि मंकीपॉक्‍स का वैक्‍सीन, कोविड-19 के वैक्‍सीन से अलग है जिसमें विभिन्‍न प्रकार की टेक्‍नोलॉजी का इस्‍तेमाल किया जाता है.  सीरम इंस्‍टीट्यूट के प्रमुख ने कहा, "आपको उस वैक्‍सीन के लिए special containment facilities की जरूरत होती है. भारत में फिलहाल हम इससे युक्‍त नहीं है. यह बदल सकता है...हमारे पास कुछ सुविधाएं (facilities) हैं. हम अपने पार्टनर्स से बात कर रहे हैं..हम मंकीपॉक्‍स के लिए एक mRNA वैक्‍सीन बना सकते हैं. "
  

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


* दूसरे दौर की पूछताछ के लिए ED के सामने पेश हुईं सोनिया गांधी, साथ में थे राहुल और प्रियंका
* न्यूड फोटोशूट को लेकर बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह के खिलाफ मुंबई में केस दर्ज
* मंगलुरु के पब में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं का हुड़दंग, छात्रों को पार्टी करने से रोका