Inside Story : पहले लंबी तनातनी...फिर कैसे बात बनी? UP में एक कॉल ने फिक्स की कांग्रेस-सपा की 'डील'!

अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी यूपी की कुल 80 सीटों में से 63 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. 17 सीटें कांग्रेस के लिए रखी गई हैं, जबकि एक सीट चंद्रशेखर आज़ाद की 'आज़ाद समाज पार्टी' के लिए छोड़ी गई है. कांग्रेस ने पहले अपने लिए 19 सीटें मांगी थीं.

नई दिल्ली/लखनऊ:

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections 2024) को लेकर जहां एक ओर पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व बीजेपी की तैयारियां जोरशोर से चल रही हैं. दूसरी ओर लड़खड़ाते विपक्षी दलों के INDIA अलायंस (INDIA Alliance) को यूपी में कुछ मजबूती मिली है. यूपी में समाजवादी पार्टी-कांग्रेस (Congress) गठबंधन को लेकर चल रही खींचतान पर विराम लग गया है. सपा (Samajwadi Party) कांग्रेस को 17 सीटें देने पर राजी हो गई है. अखिलेश ने 'अंत भला तो सब भला' कहकर इसकी तस्दीक भी कर दी है. बताया जा रहा है कि दोनों दलों के बीच 'डील फिक्स' कराने में कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी का अहम रोल है. 

प्रियंका गांधी ने ही में भारत जोड़ो न्याय यात्रा (Bharat Jodo Nyay Yatra) पर निकले राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की सपा प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) से फोन पर बात कराई है. इस 'डील' के बाद सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने बुधवार (21 फरवरी) को कहा कि कांग्रेस के साथ कोई विवाद नहीं है. 

कांग्रेस -सपा के बीच इन सीटों पर फंसा पेच, राहुल गांधी की न्याय यात्रा में शामिल नहीं होंगे अखिलेश यादव

सूत्रों के मुताबिक, प्रियंका गांधी वाड्रा ने ही यूपी में सीटों के बंटवारें को लेकर अखिलेश यादव से बातचीत शुरू की और दोनों पक्षों को बातचीत को एक टेबल पर लेकर आईं. सूत्रों ने NDTV को बताया कि अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी यूपी की कुल 80 सीटों में से 63 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. 17 सीटें कांग्रेस के लिए रखी गई हैं

मुरादाबाद सीट छोड़ने पर सहमत हुई कांग्रेस
सूत्रों ने बताया कि बातचीत के बाद आखिरकार कांग्रेस पार्टी मुरादाबाद सीट छोड़ने पर सहमत हो गई है. इसके बदले में समाजवादी पार्टी वाराणसी से अपना उम्मीदवार वापस ले सकती है. कांग्रेस आलाकमान ने इसके अलावा सीतापुर और हाथरस सीट की अदला-बदली के लिए भी कहा है. ऐसा समझा जाता है कि समाजवादी पार्टी इस पर सहमत हो गई है. वहीं, कांग्रेस ने बुलंदशहर या मथुरा के बदले श्रावस्ती सीट मांगी है. इस पर विचार करने के लिए अखिलेश यादव की पार्टी ने थोड़ा वक्त मांगा है.

Congress HR Disaster: नेता कांग्रेस छोड़ रहे या कांग्रेस नेताओं को छोड़ रही?

सोनिया ने राज्यसभा के लिए खाली की रायबरेली सीट
सोनिया गांधी ने हाल ही में रायबरेली लोकसभा सीट खाली कर दी है. उन्हें राजस्थान से निर्विरोध राज्यसभा सांसद चुन लिया गया है. सूत्रों ने बताया कि सोनिया गांधी ने कांग्रेस के नेताओं और सपा के बीच एक प्लेटफॉर्म पर आकर बात करने में काफी मदद की.

समाजवादी पार्टी और कांग्रेस विपक्षी दलों के INDIA अलायंस में भागीदार हैं. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और नीतीश कुमार के बैकआउट के बाद सपा और कांग्रेस के बीच हुई डील काफी अहम है. ममता बनर्जी की पार्टी TMC ने जहां पश्चिम बंगाल की 42 सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान किया है. वहीं, INDIA अलायंस की दूसरी सहयोगी आम आदमी पार्टी (AAP) के प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कांग्रेस और उनकी पार्टी पंजाब में लोकसभा सीटों पर अलग-अलग चुनाव लड़ने के लिए 'परस्पर सहमति' पर सहमत हुए हैं.

अखिलेश यादव ने कांग्रेस को दी थी डेडलाइन
अखिलेश यादव ने सीट शेयरिंग पर डील फाइनल करने के लिए कांग्रेस को 3 दिन की डेडलाइन दी थी. पहले अखिलेश यादव ने राहुल गांधी की न्याय यात्रा में शामिल होने की बात कही थी. बाद में उन्होंने शर्त रख दी थी. अखिलेश यादव ने साफ कहा है कि जब तक सीटों का बंटवारा नहीं हो जाएगा, तब तक वह न्याय यात्रा में नहीं जुड़ेंगे. 

कांग्रेस पर दबाव बना रहे अखिलेश? SP ने 5 और उम्मीदवारों की लिस्ट की जारी, अब तक 32 नामों का ऐलान

24-25 फरवरी को मुरादाबाद से न्याय यात्रा में शामिल हो सकते हैं अखिलेश
मंगलवार को राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा लखनऊ पहुंची. बुधवार को लखनऊ के बंथरा से उन्नाव होते हुए कानपुर पहुंची. दोपहर 2 बजे राहुल दिल्ली के लिए रवाना हो गए. इसके पहले ही डील लगभग फाइनल हो गई थी. अब औपचारिक ऐलान के बाद समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव अब 24-25 फरवरी को पश्चिमी यूपी के मुरादाबाद में राहुल गांधी की न्याय यात्रा में शामिल हो सकते हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

'इंडिया' गठबंधन एकजुट : यूपी और एमपी में सपा और कांग्रेस के बीच सीटों पर बनी सहमति