क्षेत्रीय दलों को लेकर राहुल गांधी के बयान पर जेडीएस नेता कुमारस्वामी ने किया पलटवार 

उदयपुर में कांग्रेस के चिंतन शिविर में अपने संबोधन में गांधी ने दावा किया कि क्षेत्रीय दल बीजेपी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से नहीं लड़ सकते क्योंकि उनके पास विचारधारा की कमी है.

क्षेत्रीय दलों को लेकर राहुल गांधी के बयान पर जेडीएस नेता कुमारस्वामी ने किया पलटवार 

राहुल गांधी का बयान पार्टी के लिए मुसीबत का सबब

बेंगलुरु:

उदयपुर के चिंतन शिविर में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी का बयान पार्टी के लिए मुसीबत का सबब बनता जा रहा है. जेडीएस नेता एच डी कुमारस्वामी ने क्षेत्रीय दलों को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी की टिप्पणी के संबंध में सोमवार को कहा कि कांग्रेस क्षेत्रीय दलों से डर महसूस कर रही है. कुमारस्वामी ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष से क्षेत्रीय दलों को वैचारिक प्रतिबद्धता के बारे में विस्तार से बताने के लिए कहा. साथ ही उन्होंने कहा कि देश के अधिकतर हिस्सों में आज कांग्रेस की कोई उपस्थिति नहीं है.कुमारस्वामी ने कहा कि कांग्रेस ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या की पृष्ठभूमि में द्रमुक के लिट्टे के साथ संबंधों का हवाला देकर द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) को मंत्रिमंडल से बाहर रखने की मांग करते हुए

आई के गुजराल के नेतृत्व वाली संयुक्त मोर्चा सरकार को गिराया. जेडीएस नेता ने कहा कि बाद के वर्षों में कांग्रेस ने उसी पार्टी के साथ सौहार्दपूर्ण, राजनीतिक संबंध साझा किए.पूर्व मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने ट्वीट में सवाल किया, क्या मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए)-एक और दो की सरकारों में उसी द्रमुक के साथ 10 साल तक सत्ता साझा करना एक वैचारिक प्रतिबद्धता थी?

उदयपुर में कांग्रेस के चिंतन शिविर में अपने संबोधन में गांधी ने दावा किया कि क्षेत्रीय दल बीजेपी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से नहीं लड़ सकते क्योंकि उनके पास विचारधारा की कमी है. कांग्रेस उनसे लड़ सकती है.पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें (राहुल) यह नहीं भूलना चाहिए कि उनकी पार्टी कांग्रेस ने क्षेत्रीय दलों के बल पर 10 वर्षों तक सत्ता का आनंद लिया.

कुमारस्वामी ने कहा कि कांग्रेस क्षेत्रीय दलों से डर महसूस कर रही है. उन्होंने कहा, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और ओडिशा जैसे अधिकतर राज्यों में पार्टी की कोई उपस्थिति नहीं है. कांग्रेस कर्नाटक में अपने अंतिम दिनों में है. बेहतर होगा कि राहुल गांधी इसे समझें.

यह भी पढ़ें:
"...तो ज्ञानवापी मस्जिद केस : जहां शिवलिंग मिला, उस क्षेत्र को सील करें, वाराणसी कोर्ट का आदेश
क्या है प्लेसेज ऑफ वर्शिप ऐक्ट : कानून पर मुहर लगाने वाले SC के जज जस्टिस चंद्रचूड़ ही करेंगे सुनवाई
"आपने दरवाजे खोल दिए हैं...", ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे पर कोर्ट के आदेश पर बोले ओवैसी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


" हॉट टॉपिक: असदुद्दीन ओवैसी ने ज्ञानवापी मस्जिद पर कोर्ट के आदेश पर कहा, 'ये खुल्लमखुल्ला उल्लंघन'