देश के लिए बलिदान देने की जरूरत पड़ी, तो जवानों ने कभी संकोच नहीं किया: CM योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ (Yogi Adityanath) ने देश के वीर जवानों (Soldiers) की सराहना करते हुए शनिवार को कहा कि देश के लिए जब भी उन्हें सर्वोच्च बलिदान (sacrifice) देने की आवश्यकता पड़ी, तो उन्होंने कभी संकोच नहीं किया.

देश के लिए बलिदान देने की जरूरत पड़ी, तो जवानों ने कभी संकोच नहीं किया: CM योगी आदित्यनाथ

मुख्‍यमंत्री ने कहा भारत के जवान शांति एवं सुरक्षा की स्थापना के लिए अपने शौर्य एवं पराक्रम का परिचय देते हैं. 

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ (Yogi Adityanath) ने देश के वीर जवानों (Soldiers) की सराहना करते हुए शनिवार को कहा कि देश के लिए जब भी उन्हें सर्वोच्च बलिदान (sacrifice) देने की आवश्यकता पड़ी, तो उन्होंने कभी संकोच नहीं किया. मुख्यमंत्री ने शनिवार को यहां ‘सब एरिया सेन्ट्रल कमांड' में देश के वीर जवानों और शहीदों के परिजन को ‘आजादी का अमृत महोत्सव' पर सम्मानित करने के पश्चात समारोह में कहा, ‘‘यह नया भारत दुनिया में नये विश्वास का प्रतीक है और इसके बहादुर जवान भारत की सुरक्षा, संप्रभुता, एकता एवं अखंडता को सुरक्षित और अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए तत्पर हैं.'' उन्‍होंने कहा, ‘‘वैश्विक मंच पर भी भारत के जवान शांति एवं सुरक्षा की स्थापना के लिए अपने शौर्य एवं पराक्रम का परिचय देते हैं. हमारे जवान हमेशा देश के बारे में सोचते हैं. जब भी उन्हें सर्वोच्च बलिदान देने की आवश्यकता पड़ी, तो उन्होंने कभी संकोच नहीं किया.''

योगी ने कहा कि शांतिकाल में देश में आई विभिन्न आपदाओं से निपटने में भी सेना ने मदद की. उन्होंने देश के जवानों से कहा, ‘‘दुश्मन के लिए आप जितने सख्त हैं, अपने देश पर आने वाली किसी भी आपदा के दौरान आप उतने ही संवेदनशील हैं.'' उन्होंने कहा कि वीर जवानों, उनके परिवारों तथा वीर माताओं को सम्मानित करने के इस कार्यक्रम से जुड़कर उन्हें अत्यंत गौरव की अनुभूति हुई है.

योगी ने कहा, ‘‘आजादी के बाद भी भारत की सुरक्षा, एकता एवं अखण्डता को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए 1947-48, 1962, 1971 तथा 1999 में हुए युद्धों से देश को जूझना पड़ा था. अनेक अन्य अवसरों पर भी भारत के बहादुर जवानों ने देश की एकता एवं अखण्डता को बनाए रखते हुए उसकी स्वाधीनता की रक्षा करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया.''

एक सरकारी बयान के अनुसार, इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने परमवीर चक्र विजेता शहीद कैप्टन मनोज कुमार पाण्डेय के पिता गोपी चन्द पाण्डेय, कीर्ति चक्र से सम्मानित मेजर अशोक कुमार सिंह, वीर चक्र से सम्मानित कर्नल विमल किशनदास बैजल, मेजर विष्णु स्वरूप शर्मा, शहीद हवलदार कुंवर सिंह चौधरी की पत्नी वीर नारी लक्ष्मी देवी, शहीद नायक राजा सिंह की पत्नी वीर नारी चन्द्रा देवी, मेजर धीरेन्द्र नाथ सिंह, ब्रिगेडियर नवीन सिंह, शौर्य चक्र से सम्मानित शहीद मेजर कमल कालिया की पत्नी वीर नारी अर्चना कालिया, शहीद मेजर समीर उल इस्लाम की पत्नी फौजिया इस्लाम, शहीद लेफ्टिनेंट हरि सिंह बिष्ट की मां शांति बिष्ट, मानद कैप्टन चंचल सिंह तथा शहीद कर्नल मुनींद्र नाथ राय की पत्नी वीर नारी प्रियंका राय को सम्मानित किया.

बयान के अनुसार, गत एक वर्ष के दौरान कर्तव्य पालन करते हुए शहीद हुए उत्तर प्रदेश के शहीद विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान की पत्नी वीर नारी कामिनी सिंह, शहीद सिपाही सूरज सिंह की पत्नी वीर नारी रंजीत कौर तथा शहीद सिपाही संतोष यादव की पत्नी वीर नारी धर्मशिला देवी को भी सम्मानित किया गया.

यह भी पढ़ें :  इन वजहों से हमेशा चर्चा और विवादों में रहे हैं ब्रिटिश लेखक सलमान रुश्‍दी
लेखक सलमान रुश्दी के गले पर चाकू से हमला, अस्पताल ले जाया गया

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: तेजस्‍वी ने सोनिया गांधी से की मुलाकात, कहा - क्षेत्रीय दलों को खत्‍म करना चाहती है BJP



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)