क्या भूपेश बघेल हिंदू और सनातन धर्म को खत्म करना चाहते हैं: हिमंत बिस्वा सरमा

छत्तीसगढ़ के मानपुर शहर में एक रैली को संबोधित करते हुए हिमंत बिस्वा सरमा ने आरोप लगाया कि राज्य में खुलेआम धर्म परिवर्तन हो रहा है. उन्होंने सवाल किया कि क्या भूपेश बघेल हिंदू और सनातन धर्म को खत्म करना चाहते हैं.

क्या भूपेश बघेल हिंदू और सनातन धर्म को खत्म करना चाहते हैं: हिमंत बिस्वा सरमा

मानपुर (छत्तीसगढ़): असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने बृहस्पतिवार को कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि पार्टी नक्सलियों के समर्थन से छत्तीसगढ़ के अंदरूनी इलाकों में विधानसभा चुनाव जीतना चाहती है. हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि यदि राज्य में भारतीय जनता पार्टी (BJP) सत्ता में आती है तो जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा प्रदान करने वाले अनुच्छेद 370 को रद्द किये जाने की तरह एक साल के भीतर वामपंथ उग्रवाद को खत्म कर दिया जाएगा.

छत्तीसगढ़ के मानपुर शहर में एक रैली को संबोधित करते हुए हिमंत बिस्वा सरमा ने आरोप लगाया कि राज्य में खुलेआम धर्म परिवर्तन हो रहा है. उन्होंने सवाल किया कि क्या भूपेश बघेल हिंदू और सनातन धर्म को खत्म करना चाहते हैं. उन्होंने कहा, ''मुझे लगता है कि इस बार छत्तीसगढ़ में कांग्रेस लोगों के समर्थन से चुनाव नहीं जीतना चाहती, बल्कि अंदरूनी इलाकों में नक्सलियों के समर्थन से चुनाव जीतना चाहती है. कांग्रेस और नक्सलियों के बीच 'आई लव यू' है.''

असम के मुख्यमंत्री सरमा ने आरोप लगाया, ''भाजपा कार्यकर्ताओं को धमकाकर और उनकी हत्या करके वे अपनी राजनीति करना चाहते हैं. हमें छत्तीसगढ़ को नक्सलवाद से मुक्त कराकर शांति का टापू बनाना है.'' भाजपा नेता ने कहा, ''हमारे गृहमंत्री अमित शाह जी ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटा दिया और इसे शांति के टापू में बदल दिया. आप हमें छत्तीसगढ़ सरकार में एक साल का समय दीजिए, हम अनुच्छेद 370 रद्द करने की तरह ही नक्सलवाद को खत्म कर देंगे और राज्य को शांति का टापू बना देंगे.''

उन्होंने कहा, ''राज्य में खुलेआम धर्म परिवर्तन हो रहा है. हमारे आदिवासी भाई-बहनों को धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर किया जा रहा है. मैं भूपेश बघेल से पूछता हूं कि क्या वे हिंदू और सनातन को खत्म करना चाहते हैं? मैं आपको बताना चाहता हूं, आपको राज्य में धर्मांतरण रोकने के लिए कानून लाना चाहिए था. लेकिन आपने ऐसा नहीं किया और हमारे हिंदू धर्म को कमजोर कर दिया.''

सरमा ने कहा, ''हर किसी को खुशी होगी कि जनवरी (अगले साल) में प्रधानमंत्री मोदी जी द्वारा अयोध्या में राम मंदिर का उद्घाटन किया जाएगा. यदि कांग्रेस वहां (केंद्र में) होती तो राम मंदिर कभी नहीं बनता और बाबरी मस्जिद हमेशा वहीं बनी रहती.'' उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी जहां छत्तीसगढ़ में धर्म परिवर्तन कराती है, वहीं अन्य राज्यों में तुष्टिकरण में लगी रहती है. उन्होंने लोगों से मोहला-मानपुर विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में वोट करने का आग्रह करते हुए कहा, ''हमें भूपेश बघेल सरकार को बदलना होगा, अन्यथा हमारी संस्कृति सुरक्षित नहीं रहेगी.''

 सरमा ने कहा, ''हम सबको मिलकर छत्तीसगढ़ को नक्सलवाद, बेरोजगारी और गरीबी से मुक्त कराना है.'' बाद में संवाददाताओं से बात करते हुए सरमा ने राज्य में चुनाव ड्यूटी में तैनात किए जा रहे केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के सामान और वाहनों की जांच की मांग पर बघेल की आलोचना की और कहा कि उन्हें अपने घर पर भी तलाशी की अनुमति देनी चाहिए. 

बघेल ने आज निर्वाचन आयोग से चुनाव ड्यूटी के लिए राज्य में तैनात किए जा रहे अर्धसैनिक बलों के वाहनों और सामान की जांच करने का आग्रह किया था. उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा उनके माध्यम से नकदी ला रही है, ताकि उसका इस्तेमाल मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए किया जा सके.

मुख्यमंत्री के बयान के बारे में पूछे जाने पर हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा, ''भूपेश बघेल जी को जांच करने का पूरा अधिकार है. लेकिन उन्हें अपने घर की तलाशी लेने की भी इजाजत देनी चाहिए. जब आप देश की सेना, सीआरपीएफ और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवानों के बॉक्स जांच करना चाहते हैं, जो सीमा पर और नक्सलियों से लड़ते हुए अपने प्राणों की आहुति देते हैं तो राहुल गांधी के घर के बॉक्स जांचने की अनुमति दी जानी चाहिए.''

नब्बे सदस्यीय राज्य विधानसभा के लिए सात और 17 नवंबर को दो चरणों में मतदान होगा. मोहला-मानपुर उन बीस सीटों में से है, जहां पहले चरण में मतदान होगा. शेष 70 सीटों पर दूसरे चरण में मतदान होगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ये भी पढ़ें:-
"निजी सवाल पूछे गए..." : घूसकांड पर एथिक्स कमेटी की बैठक से महुआ मोइत्रा के साथ विपक्षी सदस्यों ने किया वॉकआउट