विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jan 31, 2020

फर्रुखाबाद ऑपरेशन: आरोपी के पास इतना गोली बारूद था कि वो 2 दिन तक कर सकता था पुलिस से मुकाबला, जानें पूरी कहानी

फर्रुखाबाद (Farrukhabad) जिले में उत्तर प्रदेश पुलिस (UP Police) ने करीब 11 घंटे की मशक्कत के बाद गुरुवार को बंधक बनाए गए सभी 23 बच्चों को छुड़ा लिया.

फर्रुखाबाद ऑपरेशन: आरोपी के पास इतना गोली बारूद था कि वो 2 दिन तक कर सकता था पुलिस से मुकाबला, जानें पूरी कहानी
फर्रुखाबाद ऑपरेशन: बंधक बनाए गए सभी 23 बच्चों को पुलिस ने छुड़ाया
नई दिल्ली:

फर्रुखाबाद (Farrukhabad) जिले में उत्तर प्रदेश पुलिस (UP Police) ने करीब 11 घंटे की मशक्कत के बाद गुरुवार को बंधक बनाए गए सभी 23 बच्चों को छुड़ा लिया. पुलिस की इस कार्रवाई में आरोपी को भी ढेर कर दिया. इस ऑपरेशन को पूरा करने के लिए पुलिस ने कुल 11 घंटे का समय लिया. पुलिस को आरोपी सुभाष से किस बात का डर बना हुआ था, जिसकी वजह से ऑपरेशन को पूरा करने के लिए इतना समय लगा. वजह यह थी कि सुभाष के पास इतना गोली बारूद था कि वो 2 दिन तक पुलिस से मुकाबला कर सकता था.

पुलिस ने बताया कि सुभाष के पास इतना गोली बारूद था कि वो 2 दिन तक पुलिस से मुकाबला कर सकता था, 25-30 गोलियां, एक कंट्री मेड तमंचा, एक राइफल और बड़ी संख्या में बारूद था, सुभाष ने कई सारे सुतली बम बना रखे थे और वो तहखाने में एक साथ सबको उड़ाने की धमकी भी दे रहा था. सुभाष को करीब 2 महीने पहले बेल मिली थी. हत्या, आर्म्स एक्ट केस और कई सारे मुकदमे थे. आपराधिक प्रवृत्ति होने के कारण सुभाष से लोग कम बात करते थे. सुभाष अपने ऊपर दर्ज मुकदमों को खत्म करने की बात कह रहा था और पुलिस को इसी के जरिए ब्लैकमेल कर रहा था, बच्चों की सकुशल से रेस्क्यू हो, इसके लिए इतना वक़्त लगा.

बर्थडे के बहाने 23 बच्चों को आरोपी ने बुलाया घर और फिर बना लिया बंधक, 11 घंटे चला ऑपरेशन, यूपी पुलिस ने बचाया- जानें पूरी दास्तां

11 घंटे में पुलिस ने कैसे दिया अंजाम-

आरोपी शख्स सुभाष बाथम ने बेटी के जन्मदिन पर बच्चों को घर बुलाया. बाथम के घर पर आयोजित बर्थडे पार्टी में बच्चे पहुंचे. सुभाष ने छत पर पहुंचकर बताया कि उसने बच्चों को बंधक बना लिया है. गांव वालों ने एक व्यक्ति को सुभाष से बात करने भेजा, बदमाश ने उसके पैर में गोली मार दी. इसी बीच पुलिस को सूचना दी गई, 30 मिनट बाद पुलिस फ़ोर्स पहुंची. पुलिस ने सुभाष से बातचीत शुरू की और फिर आरोपी ने फायरिंग की, जिसमें 2 पुलिसकर्मी घायल हुए. इसी दौरान मुहम्मदाबाद के एसएचओ को भी चोट लगी.

आरोपी ने घर के अंदर से हथगोला (लो रेडिएंट बम) फेंका. तार के ज़रिए घर के बाहर की दीवाल गिरा दी और एसएचओ को काफी चोट लगी. डीएम-एसपी मौके पर पहुंचे. आरोपी ने स्थानीय विधायक को बुलाने की मांग की. इसी बीच आरोपी ने दोबारा फायर किया. उच्च अधिकारियों को हालात की जानकारी दी गई. आरोपी के पास हथियार होने के चलते खतरे का अंदेशा भी जताया गया. डीजीपी ने एटीएस टीम को मौके पर पहुंचने का आदेश दिया एनएसजी से भी संपर्क किया गया.

ट्रक में सवार होकर श्रीनगर जा रहे थे आतंकी, टोल प्लाजा पर रोका तो पुलिस पर बरसाई गोलियां, मुठभेड़ में एक आतंकी ढेर

यूपी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तमाम आला अधिकारियों की बैठक बुलाई. डीजीपी और एसीएस होम को मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया. एटीएस की टीम मौके पर पहुंची, घर को घेरा गया. लोकल पुलिस के साथ एटीएस की टीम ने रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया. पुलिस ने कुछ लोगों के ज़रिए बातों में सुभाष को फंसाया और पीछे के दरवाजे से अंदर दाखिल हुई और ऑपरेशन में सुभाष मारा गया. सुभाष की एक साल की बच्ची है जिसे लोकल प्रशासन ने सुरक्षित जगह पहुंचा दिया है. रात में करीब एक बजे रेस्क्यू ऑपरेशन खत्म हुआ.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
सन 2041 तक असम बन जाएगा सबसे बड़ा मुस्लिम बहुल राज्य! हिमंता बिस्वा सरमा ने किया दावा
फर्रुखाबाद ऑपरेशन: आरोपी के पास इतना गोली बारूद था कि वो 2 दिन तक कर सकता था पुलिस से मुकाबला, जानें पूरी कहानी
शरद पवार क्या अजित पवार को फिर लेंगे अपनी पार्टी में? चाचा का यह बयान क्या कहता है...
Next Article
शरद पवार क्या अजित पवार को फिर लेंगे अपनी पार्टी में? चाचा का यह बयान क्या कहता है...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;