विज्ञापन
Story ProgressBack

कोई कार की डिग्गी में भरकर ले जा रहा, कोई ऑटो में! बकरीद पर बकरों की SALE देखिए

पुरानी दिल्ली के मीना बाजार, सीलमपुर, जाफराबाद, मुस्तफाबाद, शास्त्री पार्क, जहांगीरपुरी और ओखला आदि इलाकों में बकरों की मंडियां लगती हैं. मंडियों में, ‘तोतापरी’, ‘बरबरा’, ‘मेवाती’, ‘देसी’, ‘अजमेरी’ और ‘बामडोली’ जैसी नस्लों के बकरे बिक्री के लिए लाए गए हैं.

कोई कार की डिग्गी में भरकर ले जा रहा, कोई ऑटो में! बकरीद पर बकरों की SALE देखिए
Bakrid 2024: किलोग्राम के हिसाब से बिक रहे हैं बकरे
नई दिल्ली:

ईद-उल-अज़हा इस बार 17 जून को मनाई जाएगी. इस त्योहार को ईद-उल-ज़ुहा और बकरीद के नाम से भी जाना जाता है. इस्लामी मान्यता के अनुसार, पैगंबर इब्राहिम अपने पुत्र इस्माइल को इसी दिन अल्लाह के हुक्म पर अल्लाह की राह में कुर्बान करने जा रहे थे, तो अल्लाह ने उनके बेटे को जीवनदान दे दिया और वहां एक पशु की कुर्बानी दी गई थी, जिसकी याद में यह पर्व मनाया जाता है.

Latest and Breaking News on NDTV

तीन दिन चलने वाले त्योहार में मुस्लिम समुदाय के लोग अपनी हैसियत के हिसाब से उन पशुओं की कुर्बानी देते हैं, जिन्हें भारतीय कानूनों के तहत प्रतिबंधित नहीं किया गया है. 

Latest and Breaking News on NDTV

देशभर के बाजारों में बकरीद की रौनक देखने को मिल रही है और लोग जमकर बकरे खरीद रहे हैं. लोग अपनी कार, टैक्सी या ऑटो में बकरों को घर ले जा रहे हैं. 

Latest and Breaking News on NDTV

दिल्ली में ईद-उल-अज़हा (बकरीद) के मौके पर लगने वाली पशु मंडियों में अब किलोग्राम के हिसाब से बकरों की खरीद-फरोख्त का चलन बढ़ रहा है. कुछ साल पहले तक बकरों की बिक्री सिर्फ कद-काठी के हिसाब से होती थी, लेकिन इस बार देखने में आ रहा है कि बकरे किलोग्राम के हिसाब से भी बेचे जा रहे हैं.

Latest and Breaking News on NDTV

तौल के हिसाब से बकरों का कारोबार करने वालों का कहना है कि कोविड के कारण लगे लॉकडाउन से किलोग्राम के हिसाब से बकरों की बिक्री का चलन शुरू हुआ है और लोग इसे अच्छी प्रतिक्रिया भी दे रहे हैं.

Latest and Breaking News on NDTV

हर साल उत्तर प्रदेश के बरेली, अमरोहा, मुरादाबाद, मुजफ्फरनगर, बदायूं के अलावा हरियाणा और राजस्थान से भी बकरा व्यापारी दिल्ली के अलग-अलग इलाके में लगने वाली बकरा मंडियों का रुख करते हैं.

Latest and Breaking News on NDTV

पुरानी दिल्ली के मीना बाजार, सीलमपुर, जाफराबाद, मुस्तफाबाद, शास्त्री पार्क, जहांगीरपुरी और ओखला आदि इलाकों में बकरों की मंडियां लगती हैं. मंडियों में, ‘तोतापरी', ‘बरबरा', ‘मेवाती', ‘देसी', ‘अजमेरी' और ‘बामडोली' जैसी नस्लों के बकरे बिक्री के लिए लाए गए हैं.

Latest and Breaking News on NDTV

जामा मस्जिद के पास मीना बाजार में किलोग्राम के हिसाब से बकरों का कारोबार कर रहे फैज़ान आलम ने कहा कि इस बार ‘तोतापरी', ‘बरबरा', ‘मेवाती' नस्ल के बकरे 500 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से बेचे जा रहे हैं. उनके मुताबिक, तौल के हिसाब से यह जानवर खरीदना कद-काठी देखकर बकरा खरीदने से सस्ता पड़ता है.

Latest and Breaking News on NDTV

 ‘मेवाती' और ‘तोतापरी' नस्ल का 70 किलोग्राम का बकरा 35 हजार रुपये का पड़ जाएगा, जबकि बिना तौल से खरीदेने पर 50-55 हजार रुपये से कम का नहीं होगा. ‘मेवाती' और ‘तोतापरी' नस्ल के बकरे ऊंचे और ह्ट्टे-कट्टे होते हैं तथा उनके कान लंबे-लंबे होते हैं. ‘तोतापरी' नस्ल के बकरे के नीचे के दांत बाहर और ऊपर के दांत अंदर की तरफ होते हैं.

Latest and Breaking News on NDTV

एक कारोबारी ने कहा किलोग्राम के हिसाब से बकरों के व्यापार से आम आदमी को फायदा होता है, क्योंकि उसे अंदाज़ा हो जाता है कि उसने कैसे और कितना भारी पशु लिया है. (भाषा इनपुट के साथ)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
भोपाल का प्रिंटिंग प्रेस, मास्टरमाइंडों की भूमिका...यूपी RO-ARO पेपर लीक में STF का बड़ा खुलासा
कोई कार की डिग्गी में भरकर ले जा रहा, कोई ऑटो में! बकरीद पर बकरों की SALE देखिए
डोडा में 4 जवान शहीद: जम्‍मू-कश्‍मीर में आतंकियों ने क्‍यों बदला पैटर्न, हाई वैल्‍यू टारगेट पर कर रहे हमले, जानें वजह
Next Article
डोडा में 4 जवान शहीद: जम्‍मू-कश्‍मीर में आतंकियों ने क्‍यों बदला पैटर्न, हाई वैल्‍यू टारगेट पर कर रहे हमले, जानें वजह
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;