विज्ञापन
Story ProgressBack
24 days ago
नई दिल्ली:

पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में चक्रवाती तूफान 'रेमल' के पहुंचने के एक दिन बाद सोमवार को भारी तबाही देखने को मिल रही है. तूफान के यहां पहुंचने पर बीती रात 135 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चली थीं. इस चक्रवाती तूफान ने बंगाल के सागर द्वीप और बांग्लादेश के खेपुपारा के बीच के तटीय इलाकों पर भारी तबाही मचाई. 'रेमल' के पहुंचने की प्रक्रिया की शुरुआत रविवार रात साढ़े आठ बजे से शुरू हुई थी.

तूफान ने प्रभावित इलाकों की संपत्तियों को भारी नुकसान पहुंचाया है. भीषण चक्रवाती तूफान "रेमल" के आने से पहले विभिन्न पूर्वोत्तर राज्यों में आपदा प्रबंधन अधिकारियों और सुरक्षा बलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है. चक्रवात को देखते हुए पूर्वी और दक्षिण पूर्वी रेलवे ने एहतियात के तौर पर दक्षिण और उत्तर 24 परगना और पूर्व मेदिनीपुर जिले के तटीय जिलों में कई ट्रेन सेवाएं रद्द कर दी हैं. इस समय चक्रवात केंद्र के आसपास 110-120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चल रही है.

तूफान के असर की वजह से हवाओं की रफ्तार 135 किमी प्रति घंटे तक पहुंच गई. कोलकाता हवाई अड्डे के अधिकारियों ने चक्रवात ‘रेमल' के संभावित प्रभाव के कारण रविवार दोपहर से 21 घंटे के लिए उड़ान संचालन निलंबित करने का फैसला किया है. इससे घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानें मिलाकर कुल 394 उड़ान प्रभावित हुई.

(भाषा इनपुट्स के साथ)

Cyclone Remal Live Updates:

May 27, 2024 09:48 (IST)
Link Copied

May 27, 2024 09:41 (IST)
Link Copied

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल ने किया प्रभावित इलाके का दौरा

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल सीवी आनंद बोस ने राजभवन के रैपिड एक्शन फोर्स के साथ चक्रवात 'रेमल' से प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया और हालात का जायजा लिया.

May 27, 2024 09:39 (IST)
Link Copied

छत हवा में उड़ गयीं, पेड़ उखड़ गये और बिजली के खंभे भी धराशायी

'रेमल' से तटीय इलाकों को हुई क्षति को साफ तौर पर देखा जा सकता है. झोपड़ियों की छत हवा में उड़ गयीं, पेड़ उखड़ गये और बिजली के खंभे गिर गये, जिस कारण कोलकाता सहित राज्य के कई हिस्सों में बिजली की आपूर्ति प्रभावित हुई.

May 27, 2024 09:38 (IST)
Link Copied

सागर द्वीप और बांग्लादेश के खेपुपारा के बीच के तटीय इलाकों पर भारी तबाही

चक्रवाती तूफान रेमल ने बंगाल के सागर द्वीप और बांग्लादेश के खेपुपारा के बीच के तटीय इलाकों पर भारी तबाही मचाई. 'रेमल' के पहुंचने की प्रक्रिया की शुरुआत रविवार रात साढ़े आठ बजे से शुरू हुई थी. तूफान ने कई बुनियादी सरंचनाओं और संपत्तियों को भारी नुकसान पहुंचाया है.

May 27, 2024 09:37 (IST)
Link Copied

तूफान के असर से चली बेहद तेज हवाएं

तूफान के असर की वजह से बीती रात प्रभावित इलाके में 135 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चली थीं.

May 27, 2024 09:36 (IST)
Link Copied

रेमल से पश्चिम बंगाल में कई जगहों पर तबाही

पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में चक्रवाती तूफान 'रेमल' के पहुंचने के एक दिन बाद सोमवार को भारी तबाही का मंजर दिखा. तूफान के यहां पहुंचने पर बीती रात बेहद ही तेज रफ्तार से हवाएं चली थीं.

May 27, 2024 02:35 (IST)
Link Copied

बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में भूस्खलन शुरू

आईएमडी ने एक्स पर पोस्ट कर जानकारी दी, "गंभीर चक्रवाती तूफान 'रेमल' कैनिंग (पश्चिम बंगाल) से अब बस लगभग 80 किमी दूर है. सिस्टम बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल के तटों को पार कर रहा है, उत्तर की ओर बढ़ रहा है और धीरे-धीरे कमजोर हो रहा है. चक्रवात जमीन में प्रवेश कर रहा है. बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में भूस्खलन की प्रक्रिया जारी है और अगले 2 घंटों तक जारी रहेगी.

May 26, 2024 23:53 (IST)
Link Copied

तूफान के कारण बंगाल के कई हिस्सों में भारी बारिश

May 26, 2024 22:21 (IST)
Link Copied

बंगाल और ओडिशा के कई शहरों में चल रही है तेज हवा

तूफान रेमल का कहर ओडिशा और बंगाल के कई शहरों में देखने को मिल रहा है. कई जगहों पर तेज बारिश और तूफान देखने को मिल रही है. 

May 26, 2024 22:14 (IST)
Link Copied

May 26, 2024 21:54 (IST)
Link Copied

लैंडफॉल की हुई शुरुआत

चक्रवाती तूफान  ‘रेमल’के लैंडफॉल की शुरुआत हो गयी है. यह प्रक्रिया अगले 2-3 घंटे तक चलेगा. मौसम विभाग की तरफ से  लैंडफॉल की शुरुआत होने की पुष्टि की गयी है. 

May 26, 2024 21:41 (IST)
Link Copied

बंगाल के राज्यपाल बोस ने लोगों से सतर्क रहने के लिए कहा

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल डॉ. सी वी आनंद बोस ने राज्य के तटीय इलाकों में गंभीर चक्रवात रेमल के टकराने को लेकर चिंता व्यक्त की और कहा कि वह स्थिति पर करीब से नजर रखे हुए हैं.  बोस ने कहा कि वह आसन्न चक्रवात के मद्देनजर एक समन्वित प्रतिक्रिया सुनिश्चित करने के वास्ते राज्य और केंद्रीय विशेषज्ञों के साथ लगातार संपर्क में हैं. बोस ने बंगाल के तटीय क्षेत्रों में निवासियों के लिए सुरक्षा के महत्व पर जोर दिया और उनसे चक्रवात के लिए निर्धारित मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का पालन करने का आग्रह किया. 

May 26, 2024 21:38 (IST)
Link Copied

चक्रवात ‘रेमल’: PM मोदी ने तैयारियों की समीक्षा के लिए बैठक की अध्यक्षता की

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने चक्रवाती तूफान ‘रेमल’से निपटने को लेकर की गई तैयारियों की समीक्षा के लिए रविवार को बुलाई गई बैठक की अध्यक्षता की. चक्रवाती तूफान के बांग्लादेश और इसके पड़ोसी राज्य पश्चिम बंगाल के बीच के समुद्र तटों पर करीब आधी रात को दस्तक देने की आशंका है. प्रचंड चक्रवात के कारण पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों और कोलकाता में भारी बारिश हुई है.  सूत्रों ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी ने चक्रवात ‘रेमल’ को लेकर प्रतिक्रिया और इससे निपटने के लिए की गई तैयारियों की समीक्षा के लिए बैठक की अध्यक्षता की. 

May 26, 2024 21:36 (IST)
Link Copied

बंगाल के तटीय इलाकों से एक लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित जगहों पर भेजा गया

पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा गंभीर चक्रवात 'रेमल' के आसन्न प्रभाव से निपटने के लिए एहतियाती उपायों के तहत सुंदरबन और सागर द्वीप सहित तटीय क्षेत्रों से लगभग 1.10 लाख लोगों को निकालकर सुरक्षित आश्रयों तक पहुंचाया जा रहा है. अधिकारी ने बताया कि इन प्रयासों में तेजी लाने के लिए, राज्य आपदा प्रबंधन और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की 16-16 बटालियन को तटीय क्षेत्रों में तैनात किया गया है. 

May 26, 2024 21:35 (IST)
Link Copied

चक्रवात रेमल की दस्तक से पहले बंगाल में हवाई, रेल, सड़क यातायात प्रभावित

चक्रवात रेमल के आगमन से पहले रविवार को कोलकाता और दक्षिण बंगाल के अन्य हिस्सों में हवाई, रेल और सड़क परिवहन में व्यवधान पैदा हुआ है और सोमवार को भी ऐसे ही हालात रहने की आशंका है. कोलकाता हवाई अड्डे के अधिकारियों ने ऐहतियात के तौर पर रविवार दोपहर से 21 घंटे के लिए उड़ान संचालन निलंबित कर दिया है। इसके अलावा, पूर्वी और दक्षिण पूर्वी रेलवे ने कई ट्रेन रद्द कर दी हैं. 

May 26, 2024 20:27 (IST)
Link Copied

अगले 2-3 घंटों में लैंडफॉल की हो सकती है शुरुआत

मौसम विभाग की तरफ से जारी रिपोर्ट के अनुसार अगले 2-3 घंटे में  चक्रवाती तूफान  ‘रेमल’का लैंडफॉल शुरु हो सकता है. पिछले 06 घंटों के दौरान 16 किमी प्रति घंटे की गति के साथ लगभग उत्तर की ओर बढ़ रहा है. वर्तमान में चक्रवात केंद्र के आसपास 110-120 किमी प्रति घंटे से लेकर 135 किमी प्रति घंटे की अधिकतम निरंतर हवा की गति बनी हुई है. 

May 26, 2024 19:39 (IST)
Link Copied

चक्रवात ‘रेमल’: त्रिपुरा ने चार जिलों में रेड अलर्ट जारी किया

त्रिपुरा सरकार ने भीषण चक्रवाती तूफान ‘रेमल’ के मद्देनजर रविवार को राज्य के चार जिलों- दक्षिण, धलाई, खोवाई और पश्चिम में रेड अलर्ट जारी किया. इस चक्रवाती तूफान के आधी रात तक बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल के बीच के समुद्र तट पर दस्तक देने की संभावना है.  राजस्व सचिव ब्रृजेश पांडे ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मुख्य सचिव ने ‘रेमल’ चक्रवात से निपटने की तैयारियों की समीक्षा के लिए सभी हितधारकों के साथ आपदा प्रबंधन की राज्य कार्यकारी समिति की बैठक बुलाई. बैठक में राजस्व, मौसम विभाग, भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण और सुरक्षाबलों के अधिकारी शामिल हुए. ’’

May 26, 2024 19:37 (IST)
Link Copied

May 26, 2024 19:34 (IST)
Link Copied

बंगाल में चेन से बांध दी गईं ट्रेनें

रेमल' भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया है. IMD के अनुसार रविवार आधी रात तक बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल के तटों पर दस्तक देने का अनुमान है.  हावड़ा के शालीमार रेलवे स्टेशन पर चक्रवात 'रेमल' के पहुंचने से पहले एहतियात के तौर पर एक रेलकर्मी ट्रेन को जंजीरों से ट्रैक से बांधता हुआ दिख रहा है.

May 26, 2024 19:24 (IST)
Link Copied

सुंदरवन के क्षेत्र में विशेष तैयारी

सुंदरवन के प्रत्येक ब्लॉक में 12 राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया दल और राज्य आपदा प्रतिक्रिया दल पहले से ही तैयार हैं. संदेशखाली हिंगलगंज क्षेत्र पर अतिरिक्त ध्यान है. सिंचाई, विद्युत व स्वास्थ्य विभाग ने भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तैयारी कर रखी है. पीने के पानी के 50 हजार पैकेट की व्यवस्था की गई है. सूखे भोजन के पैकेट पर्याप्त मात्रा में स्टोर किए गए हैं. कुछ लोगों को स्कूलों व राहत शिविरों में ले जाया गया है. 

May 26, 2024 19:23 (IST)
Link Copied

बांग्लादेश ने चक्रवात ‘रेमल’ को लेकर निकासी अभियान शुरू किया

बांग्लादेश ने प्रचंड चक्रवाती तूफान ‘रेमल’ से निपटने की तैयारियों के तहत रविवार को जोखिम वाले इलाकों के निवासियों की निकासी का अभियान शुरू कर दिया.  चक्रवाती तूफान के रविवार शाम या आधी तक पहुंचने की आशंका है जिससे देश के तटीय जिलों सतखीरा और कॉक्स बाजार क्षेत्र में समुद्र में ऊंची लहरें उठने और भारी बारिश होने की संभावना है. 

May 26, 2024 19:14 (IST)
Link Copied

राहत और बचाव अभियान के लिए आईसीजी अलर्ट

भारतीय तट रक्षक (आईसीजी) ने समुद्र में जान-माल के नुकसान को रोकने के लिए एहतियातन कदम उठाए हैं तथा हल्दिया और पारादीप में मछली पकड़ने वाले पोतों और वाणिज्यिक पोतों को सतर्क कर दिया गया है. आईसीजी ने हल्दिया, फ्रेजरगंज, पारादीप और गोपालपुर में खोज और बचाव अभियानों के लिए आपदा राहत दलों के अलावा पोत और विमान भी तैयार रखे हैं. 

India Elections | Read Latest News on Lok Sabha Elections 2024 Live on NDTV.com. Get Election Schedule, information on candidates, in-depth ground reports and more - #ElectionsWithNDTV

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination