युवक का आरोप- नूपुर शर्मा का समर्थन करने पर 6 बार चाकू मारा, SP बोले- मामला कुछ और

सीतामढ़ी के एसपी ने नूपुर शर्मा वाले एंगल से इंकार किया है. उनका कहना है कि कुछ युवक पान की दुकान पर सिगरेट पी रहे थे. धुएं को लेकर झगड़ा हुआ. इस मामले की जांच की जा रही है.

नई दिल्ली:

नूपुर शर्मा का वीडियो देखने और समर्थन करने पर दूसरे समुदाय के लोगों ने एक शख्स पर जानलेवा हमला किया है. यह आरोप खुद घायल अंकित ने लगाए हैं, जिनके  शरीर पर छह बार चाकू मारा गया है. सीतामढ़ी के नानपुर में चाकू से हमले में घायल अंकित झा का इलाज़ दरभंगा के एक निजी अस्पताल में चल रहा है. अंकित के शरीर पर छह बार चाकू मार जान लेने का प्रयास किया गया फिलहाल अंकित की हालत स्थिर बनी हुई है.

घायल अंकित झा ने मीडिया को दिए बयान में बताया कि वह सीतामढ़ी का रहनेवाला है और वह अपने एक दो दोस्तों के साथ नानपुर गांव के चौक की एक दुकान पर था. वहीं अपने दोस्तों के बीच मोबाइल पर नूपुर शर्मा का वीडियो देख रहा था और नूपुर शर्मा को लेकर कुछ बातें सभी कर रहे थे. तभी दुकान पर 4-5 की संख्या में दूसरे समुदाय के लड़के पहुंचे और नूपुर शर्मा की बात सुन अंकित से नूपुर शर्मा को समर्थन करने की बात पूछी, जैसे ही अंकित ने नूपुर शर्मा का समर्थन करने की बात कही, तभी दोनों के बीच बहस शुरू हो गई और देखते ही देखते अंकित झा पर चाकू से हमला कर दिया.अंकित ने बताया कि उसके शरीर पर एक के बाद एक छह बार चाकू मारा गया, वह खून से लथपथ हो गया, हालांकि तब अंकित ने भी जवाबी हमला किया और एक हमलावर को भी पकड़ लिया था, लेकिन हमलवार के समर्थन में कई लोग पहुंच गए, जिसके बाद उसे वहां से ले जाया गया. तत्काल हालात बिगड़ता देख कुछ लोग इन्हें भी इलाज के लिए अस्पताल ले गए. अंकित ने बताया कि हमलावरों का चेहरा देखने पर पहचान जाएंगे, लेकिन किसी हमलावर का नाम पता उन्हें मालूम नहीं है, न ही किसी हमलावर को वे पहले से जानते हैं. 

ये भी पढ़ें- "कठोर आलोचना के बाद खतरे का सामना कर रही हूं": नूपुर शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट से कहा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस घटना पर सीतामढ़ी के SP हरकिशोर राय ने कहा कि चाकू मारने की घटना 15 तारीख की शाम की है. ये घटना नानपुर थाना के अंतर्गत एक पान की दुकान पर सिगरेट के धुएं को लेकर 3-4 लोगों के बीच हुए झगड़े के बाद हुई. सभी पड़ोसी गांव के हैं. बाद में अगले दिन उन्होंने चार लोगों के नामों का उल्लेख करते हुए एक लिखित आवेदन जमा किया, जिनमें से दो को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है. बाद में उन्होंने मीडिया के सामने इस घटना को नूपुर शर्मा की घटना से जोड़कर बयान दे दिया. नूपुर शर्मा के विवाद से पुलिस ने इंकार किया है. इस मामले की जांच की जा रही है.