विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jul 02, 2020

अमित शाह ने योगी आदित्यनाथ से कहा, यूपी में और अधिक कोरोना वायरस जांचें करने की जरूरत

अमित शाह ने कहा कि रैपिड एंटीजेन टेस्ट अपनाने से संक्रमण संचरण दर को 10 प्रतिशत से कम करने में मदद मिलेगी

Read Time: 4 mins
अमित शाह ने योगी आदित्यनाथ से कहा, यूपी में और अधिक कोरोना वायरस जांचें करने की जरूरत
अमित शाह ने गुरुवार को कोविड-19 संक्रमण को लेकर बैठक की.
नई दिल्ली:

UP Coronavirus: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अपने राज्य में किए जा रहे कोविड जांचों की संख्या और उस पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कहा है. योगी आदित्यनाथ को यह निर्देश तब मिला जब अमित शाह दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में कोविड ​​-19 की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे.

तीन राज्यों में से उत्तर प्रदेश सबसे कम परीक्षण कर रहा है. बैठक में इस बात पर चर्चा की गई कि प्रति दस लाख गौतम बुद्धनगर केवल 72 और गाजियाबाद सिर्फ 78 की जांच क्यों कर रहा है. इस पर योगी आदित्यनाथ ने गृह मंत्री को आश्वासन दिया कि पहले से ही उन्होंने उच्च जोखिम वाले श्रमिकों के परीक्षण के निर्देश दिए हैं, जिसमें कई जिलों में रिक्शा चालक और सब्जी विक्रेता शामिल हैं. उत्तर प्रदेश में 6.88 लाख लोगों की क्वारंटाइन की सुविधा है.

दिल्ली प्रति दस लाख 679 जांच और गुड़गांव 482 जांचों के साथ सूची में शीर्ष पर हैं. अमित शाह ने जोर देकर कहा कि रैपिड एंटीजेन टेस्ट किट के माध्यम से अधिक परीक्षण को अपनाने से विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा सुझाए गए संक्रमण संचरण दर को 10 प्रतिशत से कम करने में मदद मिलेगी.

अमित शाह ने अधिकारियों को कोर एनसीआर क्षेत्र की मृत्यु दर में कमी लाने का भी निर्देश दिया, जिसमें दिल्ली के अलावा दो राज्यों के आठ जिले शामिल हैं. हरियाणा में- रोहतक, झज्जर, सोनीपत, गुड़गांव और फरीदाबाद और उत्तरप्रदेश के तीन जिले - गौतम बुद्धनगर, गाज़ियाबाद और बागपत.

शाह ने अधिकारियों को बताया, "जब इतिहास लिखा जाएगा, तब लोगों को याद नहीं होगा कि कितने लोगों को बचाया गया था. उन्हें याद होगा कि इस महामारी के दौरान कितने लोग मारे गए थे."

चर्चा के आंकड़ों के अनुसार एनसीआर कोर क्षेत्र में कुल 3020 मौतें हुई हैं. इसमें से 91 प्रतिशत दिल्ली में, 4.5 प्रतिशत गुड़गांव और फरीदाबाद में और शेष अन्य जिलों में 4.5 प्रतिशत हैं. शाह चाहते हैं कि अधिकारी मृत्यु दर को एक प्रतिशत से कम करें. बैठक में यह भी चर्चा हुई कि कोरोना पॉजिटिव केस के मामले में दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में 85% केस लोड में योगदान देता है. और अन्य क्षेत्रों में 15 प्रतिशत मामले हैं.

एक वरिष्ठ नौकरशाह बताते हैं, "दिल्ली सहित इन आठ जिलों की कुल जनसंख्या लगभग चार करोड़ है और कोर एनसीआर के इस क्षेत्र में 1.02 लाख लोगो पॉजिटिव मिले हैं." उनके अनुसार इसमें से 31 हजार अभी भी एक्टिव केस हैं. उन्होंने कहा, "31000 मामलों में दिल्ली में 85 प्रतिशत कोरोना पॉजिटिव मामले हैं और शेष क्षेत्रों में 15 प्रतिशत हैं." 

केंद्रीय गृह मंत्री शाह ने अधिकारियों से संबंधित जानकारी साझा करने के लिए भी कहा ताकि इस घातक वायरस पर काबू पाने के लिए हर अभ्यास को अपनाया जा सके. मंत्री ने अधिकारियों से काम करने के लिए कहा है ताकि कोर एनसीआर क्षेत्र में पॉजिटिव केस की दर 10 से नीचे लाई जा सके.

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्षवर्धन, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, केंद्र सरकार, उत्तर प्रदेश व हरियाणा के वरिष्ठ अधिकारी बैठक में उपस्थित थे.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
सात राज्यों की 13 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनावों के नतीजे आज आएंगे
अमित शाह ने योगी आदित्यनाथ से कहा, यूपी में और अधिक कोरोना वायरस जांचें करने की जरूरत
जल ही जीवन है! पानी की बर्बादी रोकने के लिए राजस्थान सरकार सख्त, यहां जान लीजिए नया नियम
Next Article
जल ही जीवन है! पानी की बर्बादी रोकने के लिए राजस्थान सरकार सख्त, यहां जान लीजिए नया नियम
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;