सीएए और एनआरसी को लेकर हुए जुल्म के वक्त कहां थे अखिलेश : प्रियंका गांधी

प्रियंका ने सवाल उठाया कि चुनाव के वक्त सक्रिय हुए अखिलेश संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और नागरिकता नागरिक पंजी (एनआरसी) के खिलाफ आंदोलन के दौरान हुए सरकार के जुल्म के वक्त कहां थे.

सीएए और एनआरसी को लेकर हुए जुल्म के वक्त कहां थे अखिलेश : प्रियंका गांधी

कांग्रेस विधानसभा चुनाव में 40 प्रतिशत टिकट महिलाओं को देगी. 

मुरादाबाद:

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) विधानसभा चुनावों से पहले राजनीतिक पार्टियों के बीच आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है. इसी बीच, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने गुरुवार को समाजवादी पार्टी (सपा) (Samajwadi Party) अध्यक्ष अखिलेश यादव पर तीखा निशाना साधा. प्रियंका ने सवाल उठाया कि चुनाव के वक्त सक्रिय हुए अखिलेश संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और नागरिकता नागरिक पंजी (एनआरसी) के खिलाफ आंदोलन के दौरान हुए सरकार के जुल्म के वक्त कहां थे. प्रियंका ने सपा और बसपा पर भाजपा की ही जाति और धर्म की राजनीति को आगे बढ़ाने का आरोप लगाते हुए कहा कि ये दल समझते हैं कि ऐसी सियासत करके वे वोट हासिल करेंगे और अपना-अपना मौका मिलने पर राज कर लेंगे.

'यूपी चुनाव को कांग्रेस पार्टी विकास के नाम पर लड़ेगी' : मुरादाबाद की रैली में प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव ने मुरादाबाद में प्रतिज्ञा रैली में प्रमुख विपक्षी दलों सपा और बसपा पर निशाना साधते हुए कहा, "मैंने सुना कि कुछ लोग कहते हैं कि भाजपा तो फूट फैला कर फिर से जीतेगी. आखिर क्यों? क्योंकि असलियत यह है कि जिनको आज मुख्य विपक्ष माना जा रहा है वे विकास का एजेंडा सेट नहीं कर रहे हैं. वह भी इसी तरह की राजनीति करना चाहते हैं. सपा और बसपा ने भी जाति और धर्म की ही राजनीति को आगे बढ़ाया है." उन्होंने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर तीखे प्रहार करते हुए कहा "सीएए का कानून बना. इस दौरान इनके खिलाफ हुए आंदोलन में बिजनौर में 19 साल की लड़के अनस की निर्मम हत्या कर दी गई और सुलेमान नाम के लड़के की पुलिस ने गोली मारकर हत्या कर दी. इस मामले में कोई कार्यवाही भी नहीं हुई. मैं पूछना चाहती हूं कि क्या अखिलेश उनके घर गए?"

प्रियंका ने अखिलेश पर हमले जारी रखते हुए कहा, "सोनभद्र के उभ्भा में नरसंहार हुआ जिसमें 13 आदिवासियों की गोली मारकर हत्या हुई. क्या अखिलेश जी वहां गए. उन्नाव और हाथरस में महिलाओं पर अत्याचार हुआ, क्या अखिलेश जी पहुंचे? लखीमपुर खीरी में नरसंहार हुआ, क्या अखिलेश जी वहां गए तो अब चुनाव के समय क्यों आ रहे हैं. चुनाव के समय उनकी और उनकी पार्टी की नींद क्यों खुल रही है." प्रियंका ने कहा "जब आगरा, प्रयागराज और हाथरस में दलितों पर अत्याचार हुआ तब बसपा के नेता कहां थे. उन्होंने आवाज क्यों नहीं उठाई. जब वे बयान देते हैं तो ऐसा क्यों लगता है कि वह भाजपा जैसा ही बयान दे रहे हैं. क्योंकि सब अंत में यही सोचते हैं कि आपकी समस्याएं, आपके दुख-दर्द और आप के संघर्ष से उनकी राजनीति को कोई मतलब नहीं है. सब सोचते हैं कि वे सांप्रदायिकता और जाति के आधार पर आपसे वोट मांगने आएंगे और आप उन्हें वोट दे देंगे और उन्हें कोई काम करने की जरूरत नहीं है. आपको उनकी यह सोच जबरदस्ती बदलवानी होगी."

कांग्रेस महासचिव ने सपा, बसपा और भाजपा पर वार करते हुए कहा "कोई जंग ऐसी नहीं है जो बिना लड़े जीती जाती हो. जब वे लड़ ही नहीं रहे हैं तो जीतेंगे कैसे. यह सब सोच रहे हैं कि जब अपना टाइम आएगा तब हम राज करेंगे और लूटेंगे. पांच साल बाद हम फुजूल के मुद्दे उठाएंगे और फिर से राज करेंगे. मैं आपको राजनीति को बदलने का मौका देना चाहती हूं. आप नेताओं को अपने विकास के मुद्दों पर जवाबदेह बनाइए. राजनीति को विकास पर आधारित बनाइये." प्रियंका ने कहा कि उत्तर प्रदेश में सांप्रदायिकता पर आधारित और जातिवाद पर आधारित राजनीति इतनी भयानक है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी जानते हैं कि लोगों की समस्याओं का हल करने के बजाय चुनाव के समय विकास के बजाय धर्म और जाति की बात करेंगे और चुनाव जीतकर निकल जाएंगे. जब तक विकास का सवाल सबसे महत्वपूर्ण नहीं होगा तब तक आप इसी तरह की राजनीति में फंसे रहेंगे.

प्रियंका गांधी बुलंदशहर और मुरादाबाद में कांग्रेस प्रतिज्ञा सम्मेलन को करेंगी संबोधित


उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा नए कृषि कानूनों को वापस लिए जाने से यह साबित हो गया है कि अगर आप इरादा कर लें और अडिग हो जाएं तो सरकार को झुकना पड़ता है, यह आपकी शक्ति है इसे पहचानिए. प्रियंका ने कहा, ‘‘पिछली 28 नवंबर को यूपी टीईटी की परीक्षा का पर्चा लीक हो गया. यह कोई नई बात नहीं है. भाजपा शासन के दौरान अब तक 12 परीक्षाओं में ऐसा हो चुका है. प्रदेश में 10 लाख से अधिक सरकारी पद खाली पड़े हैं लेकिन युवाओं को रोजगार नहीं मिला. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गैर जिम्मेदाराना बयान देते हैं कि उत्तर प्रदेश में नौकरियां तो बहुत हैं लेकिन नौकरी योग्य युवा कम हैं.'' कांग्रेस महासचिव ने राजनीति में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने पर जोर देते हुए कहा "असली सवाल यह है कि राजनीति में महिलाओं की भागीदारी क्या है. आपके लिए लड़ने वाली महिला कैसे आगे बढ़ेगी. कांग्रेस इस बार विधानसभा चुनाव में 40 प्रतिशत टिकट महिलाओं को देगी. उनमें से कुछ महिलाएं जीतेंगी और हो सकता है कुछ न भी जीतें ले.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उत्तर प्रदेश में चुनावी घमासान, मुरादाबाद में प्रियंका गांधी की रैली



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)