किस बात पर हुई थी सुशांत सिंह राजपूत से अनबन? रिया चक्रवर्ती के वकील ने बताया

रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) के वकील सतीश मानेशिंदे (Satish Maneshinde) का कहना है कि सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की प्रेमिका रिया थी. वह 8 जून तक उनके साथ थी. जब उन्होंने विदेश यात्रा की और वापस आए, तो सुशांत की मानसिक हालत अच्छी नहीं थी.

किस बात पर हुई थी सुशांत सिंह राजपूत से अनबन? रिया चक्रवर्ती के वकील ने बताया

रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) के वकील का आया बयान - फाइल फोटो

नई दिल्ली:

रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) के वकील सतीश मानेशिंदे (Satish Maneshinde) का कहना है कि सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की प्रेमिका रिया थी. वह 8 जून तक उनके साथ थी. जब उन्होंने विदेश यात्रा की और वापस आए, तो सुशांत की मानसिक हालत अच्छी नहीं थी. 5 डॉक्टरों से इलाज कराया गया. डॉक्टरों को पता चला कि वो गांजे का सेवन कर रहे थे. डॉक्टरों ने नशीले पदार्थों का सेवन न करने की सलाह दी थी.

सुशांत राजपूत को नहीं दिया गया था जहर, AIIMS के डॉक्टरों ने खारिज की संभावना: सूत्र

वकील सतीश मानेशिंदे ने कहा कि 8 जून को, दिल्ली में सुशांत और उनकी बहन के बीच व्हाट्सएप चैट के जरिये बातचीत हुई, बहन ने उन्हें कुछ दवाएं लेने की सलाह दी. रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) ने बिना प्रिसक्रिप्शन के दवा लेने पर आपत्ति जताई. सुशांत नहीं माने और रिया को घर छोड़ जाने को कहा. रिया उसके बाद सुशांत को छोड़ अपने घर आ गई और सुशांत का नंबर ब्लॉक कर दिया. दुर्भाग्य से सुशांत 14 जून को मृत पाए गए.

उन्होंने कहा, ''सुशांत के पिता के कहने पर पटना में एफआईआर दर्ज करवाई गई. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने भी पीएमएलए के तहत जांच शुरू की. ED ने रिया के फोन को कब्जे में ले लिया और उससे जब ड्रग्स से जुड़ा चैट रिट्रीव हुआ तो आगे की जांच  NCB को सौंप दी गई. CBI ने भी कई बार रिया से पूछताछ की.''


सुशांत सिंह केस: शॉविक और रिया चक्रवर्ती समेत 5 आरोपियों की जमानत अर्जी पर सुनवाई आज

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वकील ने बताया, ''28 अगस्त को एनसीबी हरकत में आई. NCB अभी तक 20 को गिरफ्तार कर चुकी है. उनमें से 5 आरोपियों को पहले दिन ही मजिस्ट्रेट की अदालत ने जमानत पर रिहा कर चुकी है क्योंकि उनके खिलाफ धारा 27 ए नहीं लगाई गई थी. हिरासत में लिए गए अभियुक्तों में से, धारा 27 ए के अलावा, अन्य अपराध समान हैं.''