दिल्ली में मॉनसून का इंतजार, अब बनने लगे अनुकूल हालात

आईएमडी के मुताबिक अगले 24 घंटों के दौरान दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश के शेष हिस्सों, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के कुछ और हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के आगे बढ़ सकता है

दिल्ली में मॉनसून का इंतजार, अब बनने लगे अनुकूल हालात

प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली:

दिल्ली में मॉनसून के आगमन का लंबा इंतजार खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है, जिसके कारण राष्ट्रीय राजधानी के लोगों को रविवार को भी उमस भरी गर्मी का सामना करना पड़ा. इस बीच, भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने कहा है कि दिल्ली में मॉनसून के आगमन की घोषणा सोमवार को की जाएगी. इस मौसम में कई बार ऐसा हुआ है जब दिल्ली में मॉनसून के आगमन को लेकर मौसम विभाग की ओर से की गई भविष्यवाणी गलत साबित हुई है.

मॉनसून के इंतजार के बीच मध्य दिल्ली देश का ऐसा जिला है, जहां सबसे कम वर्षा हुई है. मध्य दिल्ली में एक जून से लेकर अब तक केवल 8.5 मिलीमीटर बारिश हुई है जो कि सामान्य 125.1 मिमी से 93 प्रतिशत कम है. दिल्ली में अब तक मॉनसून के दौरान होने वाली सामान्य बारिश से 64 प्रतिशत कम बारिश हुई है.

आईएमडी के ताजा वक्तव्य के मुताबिक अगले 24 घंटों के दौरान दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश के शेष हिस्सों, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के कुछ और हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल बनी हुई हैं.


आईएमडी की वैज्ञानिक सुनीता देवी ने कहा कि यद्यपि दिल्ली में रविवार को बारिश होने की पूरी उम्मीद है, लेकिन सोमवार 12 जुलाई को सुबह साढ़े आठ बजे पर्यवेक्षण के बाद मॉनसून के आगमन को लेकर घोषणा की जाएगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


दिल्ली में पिछले 15 साल के दौरान इस बार मॉनसून सबसे ज्यादा देरी से पहुंच रहा है. इससे पहले मॉनसून 2012 में सात जुलाई को और 2006 में नौ जुलाई को राजधानी पहुंचा था जबकि 2002 में दिल्ली में 19 जुलाई को पहली बार मॉनसूनी बारिश हुई थी. शहर में सबसे अधिक देरी से मॉनसून 1987 में 26 जुलाई को आया था.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)