बंगाल चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस के दिनेश त्रिवेदी ने राज्‍यसभा से इस्‍तीफे का ऐलान किया

राज्यसभा के उपसभापति ने त्रिवेदी इस्तीफे के ऐलान पर कहा कि इसकी एक प्रक्रिया होती है आप राज्यसभा के सभापति को लिखिए.

बंगाल चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस के दिनेश त्रिवेदी ने राज्‍यसभा से इस्‍तीफे का ऐलान किया

दिनेश त्रिवेदी केंद्रीय मंत्री भी रह चुके हैं

नई दिल्ली:

तृणमूल कांग्रेस के राज्य सभा सांसद (Trinmool Congress MP) दिनेश त्रिवेदी (Dinesh Trivedi) ने सदन में इस्तीफे का ऐलान किया है. उनके बीजेपी में शामिल होने की संभावना है. सांसद दिनेश त्रिवेदी ने राज्यसभा में कहा, 'मैं आज यहां से इस्तीफा दे रहा हूं.' .राज्‍यसभा सभापति ने दिनेश त्रिवेदी का इस्‍तीफा स्‍वीकार कर लिया है. चुनाव आयोग से खाली हुए पद पर उप चुनाव कराने के लिए कहा जाएगा.केंद्रीय मंत्री रह चुके त्रिवेदी ने कहा, 'मुझसे अब देखा नहीं जा रहा मुझे घुटन महसूस हो रही है मेरी आत्मा मुझसे आज यह कह रही है यहां बैठे-बैठे आप चुपचाप रहो आज मैं देश के लिए बंगाल के लिए अपना इस्तीफा दे रहा हूं.' 

लोकतंत्र का अभिन्न हिस्सा हैं कार्टून : दिनेश त्रिवेदी


उन्‍होंने कहा, 'जिस तरह से बंगाल में हिंसा हो रही है मुझे यहां बैठे-बैठे बहुत अजीब लग रहा है कि मैं क्या करूं असल में हम जन्मभूमि के लिए ही हैं आई एम ग्रेटफुल टु माय पार्टी फॉर सेंडिंग मी हियर (मैं अपनी पार्टी का मुझे यहां भेजने के लिए शुक्रगुजार हूं).गौरतलब है कि तृणमूल कांग्रेस के नेता दिनेश त्रिवेदी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ़ करते रहे हैं. कुछ साल पहले भी उनके बीजेपी में शामिल होने की अटकलों ने जोर पकड़ा था. केंद्र सरकार में रेल मंत्रालय संभाल चुके त्रिवेदी की बात करें तो वे तृणमूल के उन संस्थापक सदस्यों में से हैं, जिन्होंने 16 साल पहले तृणमूल पार्टी बनाई थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


त्रिवेदी पूर्व में भी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और तृणमूल सुप्रीमो ममता बनर्जी से अलग राय जता चुके हैं. ममता का कार्टून बनाने वाले जादवपुर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर की गिरफ्तारी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए वर्ष 2012 में दिनेश त्रिवेदी नेकहा था कि कार्टून लोकतंत्र का अभिन्न हिस्सा हैं. उन्‍होंने कहा था कि मुझे नहीं लगता कि इससे से किसी को कोई आपत्ति होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि किसी की छवि उसके समर्थकों और उसकी आलोचना करने वालों की वजह से बनती है