टोक्यो पैरोलंपिक : भारत की भाविनाबेन पटेल ने जीता सिल्वर मेडल, वुमेन टेबल टेनिस के फाइनल में जुझारू खेल से जीता दिल

Bhavinaben Patel भले ही वुमेन टेबल टेनिस की फाइनल (Women's table tennis final ) प्रतियोगिता में भाविनाबेन हार गईं, लेकिन उनके जुझारू खेल ने सबका दिल जीता. भाविनाबेन ने सेमीफाइनल में चीनी खिलाड़ी को हराकर फाइनल में जगह बनाई थी. 

नई दिल्ली:

Bhavinaben Patel Won Silver Medal : टोक्यो पैरालंपिक (Tokyo Paralympics) में भारत की भाविनाबेन पटेल ने इतिहास रचा है. वुमेन टेबल टेनिस की फाइनल (Women's table tennis final ) प्रतियोगिता में भाविनाबेन हार गईं, लेकिन उन्होंने देश को इस स्पर्धा में सिल्वर मेडल दिलाया. भाविनाबेन के जुझारू खेल ने सबका दिल जीता. भाविनाबेन ने सेमीफाइनल में चीनी खिलाड़ी को हराकर फाइनल में जगह बनाई थी. टोक्यो पैरालंपिक की इस स्पर्धा में भाविनाबेन की शानदार उपलब्धि के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत तमाम हस्तियों ने उन्हें बधाई दी है. 

भाविना दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी चीन की झोउ यिंग से फाइनल मुकाबले में 0-3 से हार गईं, जिसके बाद उन्हें सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा. टोक्यो पैरालंपिक 2020 में यह उनका पहला मेडल है. भाविना सिर्फ दूसरी भारतीय महिला हैं, जिन्होंने पैरालंपिक में भारत के लिए पदक जीता है. 

Tokyo Paralympics: भारत की भाविनाबेन पटेल फाइनल में पहुंची, कम से कम रजत पदक पक्का

34 वर्षीय भाविना ने पैरालंपिक खेलों में प्रभावशाली प्रदर्शन किया है. करीब 19 मिनट तक चले फाइनल मुकाबले में भाविना चीन की दो बार की स्वर्ण विजेता खिलाड़ी से 7-11, 5-11 और 6-11 से हार गईं. उन्हें इस सप्ताह की शुरुआत में भी अपने ग्रुप के पहले चरण में भी झोउ से हार का सामना करना पड़ा था. 

बीजिंग और लंदन में स्वर्ण पदक सहित पांच पैरालंपिक पदक अपने नाम करने वाली चीन की खिलाड़ी के सामने भाविना संघर्ष करती दिखीं. वह अपनी रणनीति को आगे नहीं बढ़ा सकीं. 


भाविना को 12 महीने की उम्र में पोलिया का पता चला था. भाविना ने शनिवार को दुनिया की तीसरे नंबर की खिलाड़ी चीन की मियाओ झांग को सेमीफाइनल मुकाबले में 7-11, 11-7, 11-4, 9-11, 11-8 से हराया था. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वहीं क्वार्टर फाइनल मुकाबले में 2016 रियो ओलंपिक की स्वर्ण विजेता और दुनिया की दूसरे नंबर की खिलाड़ी सर्बिया की बोरिसलावा पेरिक रैंकोविक को हराकर इतिहास रचने की ओर कदम बढ़ाए थे.