ममता बनर्जी पर कथित हमले की रिपोर्ट 2 हफ्तों में चाहती है TMC, EC के अधिकारियों से मिले पार्टी के नेता

TMC नेताओं ने शुक्रवार को चुनाव अधिकारियों से मुलाकात की और ममता बनर्जी पर कथित हमले की चल रही जांच की रिपोर्ट का स्टेटस जानना चाहा. पार्टी चाहती है कि जांच की रिपोर्ट अगले दो हफ्तों में आ जाए.

ममता बनर्जी पर कथित हमले की रिपोर्ट 2 हफ्तों में चाहती है TMC, EC के अधिकारियों से मिले पार्टी के नेता

TMC ने ममता बनर्जी पर कथित हमले की जांच की रिपोर्ट का स्टेटस पूछा.

नई दिल्ली:

तृणमूल कांग्रेस के कुछ नेताओं ने शुक्रवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हुए कथित हमले की जांच की रिपोर्ट को लेकर मुलाकात की. पार्टी के सांसद सौगत रे ने चुनाव अधिकारियों से मिलने के बाद NDTV से कहा कि 'हमने चुनाव आयोग के अधिकारियों से पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हुए हमले की जांच के बारे में पूछा कि क्या वो इस हमले को लेकर किसी नतीजे पर पहुंच चुके हैं?'

उन्होंने बताया कि चुनाव आयोग के अधिकारियों ने तृणमूल कांग्रेस को बताया है कि ममता बनर्जी पर हुए हमले की जांच की फाइनल रिपोर्ट अभी तैयार नहीं हुई है. मामले में एफआईआर दर्ज किया गया है और जांच चल रही है. जांच पूरी होने के बाद ही वो इस किसी नतीजे पर पहुंचेंगे. तृणमूल कांग्रेस के नेताओं ने बताया कि उनका मानना है कि ममता बनर्जी पर हमले की जांच अगले 2 हफ्ते में पूरी होनी चाहिए. 

तृणमूल कांग्रेस ने चुनाव आयोग के इस फैसले पर चिंता भी जताई है कि हर बूथ के 100 मीटर के अंदर सिर्फ केंद्रीय पैरामिलिट्री फोर्स की नियुक्ति होगी क्योंकि इससे आम मतदाता डर जाते हैं. उन्होंने कहा कि सेंट्रल पैरामिलिट्री फोर्स के जवान बांग्ला नहीं समझते हैं, इससे चिंता होती है.


यह भी पढ़ें : CM ममता बनर्जी पर PM नरेंद्र मोदी ने नहीं किया पर्सनल अटैक...! आखिर क्यों बदली रणनीति...?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उनकी इस चिंता पर चुनाव आयोग ने स्पष्टीकरण दिया है कि हर बूथ के 100 मीटर के अंदर राज्य सरकार और स्थानीय पुलिस के अधिकारी भी होंगे. साथ ही ईवीएम और VVPAT के मुद्दे पर चुनाव आयोग ने कहा कि अगर ईवीएम में हर मत की वीवीपैट से मैच कराई जाएगी तो गिनती में 3 दिन लग जाएंगे. इस बारे में सुप्रीम कोर्ट के जो भी मापदंड हैं कि पांच फीसदी मत की रैंडम चेकिंग हो, उसी मापदंड क आनुसरण किया जाएगा. चुनाव आयोग ने इसके साथ ही एक बार फिर से इस बात पर जोर दिया कि ईवीएम को हैक नहीं किया जा सकता.