कोरोना की तीसरी लहर आ चुकी, दिल्ली में आज आ सकते हैं 10 हजार कोविड केस : सरकार

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि आज लगता है कि संक्रमण दर 10%  के करीब और केस 10 हज़ार के करीब आ सकते हैं.

दिल्ली में कोविड-19 और ओमिक्रॉन के मामलों में लगातार उछाल के बीच स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) ने बुधवार को कहा कि देश में कोरोना की तीसरी लहर (Third Wave) और दिल्ली में 5वीं लहर आ चुकी है. उन्होंने आशंका जताई है कि दिल्ली में आज 10,000 के करीब कोविड केस आ सकते हैं. जैन ने कहा कि कोरोना पूरे देश मे फैल रहा है. अभी तक काफी माइल्ड है, सिम्टम्स कम हैं. उन्होेंने लोगों से कोविड प्रोटोकाल का पालन करने और न घबराने की अपील की है. 

स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि आज लगता है कि संक्रमण दर 10%  के करीब और केस 10 हज़ार के करीब आ सकते हैं. सीएम केजरीवाल को लेकर कहा कि मुख्यमंत्री की तबियत ठीक है, वो अभी आइसोलेटेड हैं. हाल ही में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी कोरोना की चपेट में आ गए थे. 

उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन के लिए LMO टैंक्स हैं, उसकी लाइव जानकारी के लिए सिस्टम लगाया है. कोविड वॉर रूम में बेड्स से लेकर ऑक्सीजन तक सब बातों की सारी जानकारी रहेगी. 

READ ALSO: WHO Chief Scientist ने बताया भारत कैसे निपट सकता है तीसरी लहर से, आप भी जानें

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, "अब सबकी जीनोम सिक्वेंसिंग संभव नहीं है ,लेकिन अब सैंपल सिक्वेंसिंग करवा रहे हैं. ये कन्फर्म हो चुका है कि देश मे ओमिक्रॉन वेरिएंट आ गया है." 

जैन ने कहा कि पहले 50-55 हज़ार टेस्ट हो रहे थे, अब उसे बढ़ाकर 70 हज़ार के करीब किया है. आज 90 हज़ार के करीब टेस्ट हुए हैं. हमारे पास 3 लाख टेस्ट करने की क्षमता है, जो पिछली बार 1 लाख थी.

READ ALSO: दिल्ली में तीसरी लहर की आहट, 'येलो अलर्ट' के साथ पाबंदियां लागू, 10 बिंदुओं में समझें 10 राज्यों का हाल

उन्होंने कहा कि हमने कोरोना को फैलने से रोकने के लिए सबसे पहले कदम उठाये, पाबंदियां लगाईं ताकि कोविड को रोका जा सके. इलाज के मोर्चे पर भी हमारी तैयारी है. DUSIB की बिल्डिंग को ठीक करके नया बनाया जा रहा है. लोग कयास लगा रहे हैं, पर वहां दिल्ली सरकार के ऑफिस ही बनेंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वीडियो: कोरोना की तीसरी लहर के बीच दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू, क्या मुंबई में लॉकडाउन की जरूरत?