लड़के के पास नहीं थी ट्यूशन जाने की फीस, थाने के SHO ने खुद ही पढ़ाना किया शुरू

हर दिन कई घंटे तक अपनी ड्यूटी करने के बाद, इंदौर के पलासिया थाने के SHO विनोद दीक्षित खुद ही एक लड़के को गणित और अंग्रेजी पढ़ाते हैं. वो भी इसलिए जिससे कि लड़के का पुलिस में भर्ती होने का सपना  पूरा हो सके.

लड़के के पास नहीं थी ट्यूशन जाने की फीस, थाने के SHO ने खुद ही पढ़ाना किया शुरू

लड़के की मुलाकात SHO से तब हुई जब वे कोरोनोवायरस लॉकडाउन के दौरान गश्त कर रहे थे.

इंदौर :

हर दिन कई घंटे तक अपनी ड्यूटी करने के बाद, इंदौर के पलासिया थाने के SHO विनोद दीक्षित खुद ही एक लड़के को गणित और अंग्रेजी पढ़ाते हैं. वो भी इसलिए जिससे कि लड़के का पुलिस में भर्ती होने का सपना  पूरा हो सके. दीक्षित ने कहा, "मैं एक दिन गश्त के दौरान इस लड़के से मिला. उसने कहा कि वह एक पुलिसकर्मी बनना चाहता है, लेकिन ट्यूशन नहीं जा सकता है. इसलिए मैंने उसे अंग्रेजी और गणित पढ़ाना शुरू किया."

SHO से ट्यूशन पढ़ रहे राज की मुलाकात पुलिसकर्मी से तब हुई जब वे कोरोनोवायरस लॉकडाउन के दौरान गश्त कर रहे थे. SHO ने बताया कि लड़का मुखर और चालाक है. दीक्षित ने कहा,"लॉकडाउन के दौरान, हम उसके पड़ोस में गश्त कर रहे थे. लड़के ने मुझसे कहा कि वह एक पुलिसकर्मी बनना चाहता है. मैंने उससे कहा कि उसे पढ़ाई करनी होगी. जिसके बाद लड़के ने कहा कि अगर मैं उसे पढ़ाऊंगा तो वह पढ़ेगा."


पिछले एक महीने से SHO राज को पढ़ा रहे हैं, जो एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखता है. दीक्षित ने कहा, "यह लड़का बहुत गरीब पृष्ठभूमि का है और कोई ट्यूशन फीस नहीं दे सकता. उसके पिता एक टिफिन सेंटर चलाते हैं और उसके दादा सड़क किनारे दुकान लगाते हैं. ”

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अपने नए शिक्षक के बारे में बात करते हुए, राज ने कहा, "मैं बहुत खुश हूं कि मुझे मेरे अंकल जी पढ़ाते हैं. हर दिन मैं उनसे ट्यूशन लेता हूं. मैं हर दिन अपना होमवर्क करता हूं. मैं एक पुलिसकर्मी बनने की ख्वाहिश रखता हूं और इसीलिए मैं कड़ी मेहनत से पढ़ाई कर रहा हूं."