टेस्ला ने दी भारत में दस्तक, बीएस येदियुरप्पा ने सीईओ एलन मस्क का किया स्वागत

टेस्ला मोटर्स इंडिया और एनर्जी प्रा. लि.की 8 जनवरी को स्थापना हुई थी, जिसका ऑफिस बेंगलुरु में पंजीकृत है. बेंगलुरु दुनिया की दिग्गज टेक कंपनियों का गढ़ है.

टेस्ला ने दी भारत में दस्तक, बीएस येदियुरप्पा ने सीईओ एलन मस्क का किया स्वागत

एलन मस्क ने 2021 में टेस्ला के भारतीय बाजार में प्रवेश का पहले ही किया था ऐलान

नई दिल्ली:

अमेरिका की दिग्गज इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला (Tesla Motors India) ने आखिरकार भारत में दस्तक दे दी है. कार निर्माता कंपनी ने बेंगलुरु में एक शोध एवं विकास इकाई की स्थापना की है. मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा (BS Yediyurappa) ने ट्विटर पर इसकी पुष्टि करते हुए टेस्ला के सीईओ एलन मस्क (CEO Elon Musk) को शुभकामनाएं दीं.केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी टेस्ला के भारत में आगमन की घोषणा की है.


येदियुरप्पा ने ट्वीट किया, "कर्नाटक (Karnataka) भारत में ग्रीन मोबिलिटी का अगुवा बनेगा. इलेक्ट्रिक कार निर्माता (US electric car giant Manufacturer) टेस्ला बेंगलुरु में आरएंडडी यूनिट के साथ जल्द ही भारत में अपना कारोबार शुरू करेगी. मैं भारत में एलन मस्क का स्वागत करता हूं और उन्हें शुभकामनाएं देता हूं." टेस्ला भारत में कारोबार शुरू करने के लिए कम से कम पांच राज्य सरकारों के संपर्क में है. टेस्ला ने कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में एक कंपनी का पंजीकरण कराया है. इसके बाद मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने टेस्ला के सीईओ एलन मस्क का भारत और कर्नाटक में स्वागत किया है. कंपनी के पंजीकरण में तीन निदेशकों का नाम है, जिनमें से एक डेविड फेन्सटीन हैं, जो टेस्ला के सीनियर एग्जीक्यूटिव हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


कंपनी गुजरात, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु की सरकारों के भी संपर्क में है. मस्क ने पिछले साल ही ट्विटर पर कहा था कि अगले साल उनकी कंपनी निश्चित तौर पर भारतीय बाजार में आगाज करेगी. सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि टेस्ला मॉडल 3 सबसे पहले भारत में लांच होगा. मॉडल 3 टेस्ला के सबसे सस्ते वाहनों में से एक है, जिसकी कीमत करीब 55 लाख है. कहा जा रहा है कि इसकी बुकिंग भी जनवरी के अंत तक शुरू हो जाएगी. टेस्ला भारत में ऐसे वक्त प्रवेश कर रही है, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में इलेक्ट्रिक वाहनों को प्रोत्साहन देने में जुटे हैं.