तमिलनाडु: 27 साल के जर्नलिस्‍ट की कथित तौर पर ड्रग्‍स बेचने वालों ने की हत्‍या..

वरिष्‍ठ पत्रकार भारती तमिझन ने मामले में पुलिस पर निशाना साधा है. उन्‍होंने कहा, 'गांजा की क्षेत्र में बिक्री और अन्‍य असामाजिक गतिविधियों की रिपोर्टिंग को लेकर मोजेज को जान से मारने की धमकी मिली थी.'

तमिलनाडु: 27 साल के जर्नलिस्‍ट की कथित तौर पर ड्रग्‍स बेचने वालों ने की हत्‍या..

इसरावेल मोजेज को घर से बाहर बुलाकर मौत के घाट उतार दिया गया

खास बातें

  • मामले में चार लोगों को किया गया है गिरफ्तार
  • घर से बाहर बुलाकर पत्रकार को मौत के घाट उतारा
  • पिता ने कहा, पुलिस ने शिकायत पर कार्रवाई नहीं की
चेन्‍नई:

तमिलनाडु की कांचीपुरम जिले के एक टीवी जर्नलिस्‍ट की रविवार को हत्‍या कर दी गई. पुलिस के मुताबिक, कथित तौर पर ड्रग डीलर्स ने यह हत्‍या की क्‍योंकि उन्‍हें संदेह था कि जर्नलिस्‍ट ने उनके बारे में प्रशासन को जानकारी दी. मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने बताया कि 27 साल के इसरावेल मोजेज को उसके घर से बाहर बुलाया गया और फिर हत्‍या कर दी गई. परिवार वालों को शुरू में यही लगा कि हमला करने आए लोग मोजेज के दोस्‍त हैं.


एक अधिकारी ने NDTV को बताया, 'आरोपी उस गैंग के सदस्‍य है जो कथित तौर पर अतिक्रमण की गई जमीन को बेचने और ड्रग बेचने के काम में शामिल हैं. वैसे, मोजेज ने इस मुद्दे पर कोइ रिपोर्ट टेलीकास्‍ट नहीं की थी.' पीडि़त के पिता ज्ञानराज ने आरोप लगाया कि जिला पुलिस ने जान को खतरा होने से संबंधित उनके बेटे की शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


हालांकि पुलिस ने इन आरोपों का खंडन किया है. जिला पुलिस प्रमुख डी. शनमुगापरिया ने कहा, 'हमें उनकी ओर से कोई शिकातय नहीं मिली. हत्‍या साफ तौर पर निजी प्रतिशोध और भूमि विवाद का परिणाम है.' वरिष्‍ठ पत्रकार भारती तमिझन ने पुलिस पर निशाना साधा है. उन्‍होंने कहा, 'गांजा की क्षेत्र में बिक्री और अन्‍य असामाजिक गतिविधियों की रिपोर्टिंग को लेकर मोजेज को जान से मारने की धमकी मिली थी. उसकी हत्‍या पु‍लिस की ओर से कोई कार्रवाई न किए जाने का परिणाम है. '