"मुझे फुटेज दिखाओ": रूल बुक फेंकने के आरोप में निलंबित टीएमसी सांसद डेरेक ओब्रायन की चुनौती

टीएमसी सांसद डेरेक ओब्रायन ने आगाह किया. इस कानून का भी कृषि कानून जैसा हश्र होगा. सरकार को इसे भी एक दिन वापस लेना पड़ेगा. कृषि कानूनों को एक साल तक चले लंबे आंदोलन के बाद वापस ले लिया गया था.

Rajya Sabha में डेरेक ओ ब्रायन पर चेयर की ओर रूल बुक फेंकने का आऱोप

नई दिल्ली:

तृणमूल कांग्रेस के सांसद डेरेक ओ ब्रायन (Trinamool Congress's Derek O'Brien) को राज्यसभा में रूल बुक फेंकने के आऱोप में शीतकालीन सत्र के बाकी बचे दिनों के लिए निलंबित कर दिया गया है. उच्च सदन में वोटर आईडी कार्ड को आधार ( Aadhar Voter ID) से जोड़ने वाले बिल को पारित कराए जाने के दौरान हंगामे और शोरशराबे के दौरान उन पर यह आरोप लगा. हालांकि डेरेक इन आरोपों से सहमत नहीं हैं. NDTV  से बातचीत के दौरान इस सवाल पर उन्होंने उस फुटेज को दिखाने की चुनौती दी है, जिसमें वो कथित तौर पर रूल बुक फेंकते हुए दिखाई दे रहे हैं.

टीएमसी सांसद डेरेक ओब्रायन ने कहा, लोकसभा में यह बिल सोमवार को 20 मिनट में पारित हुआ था. आपको कम से कम दो दिन देना था. लेकिन राज्यसभा सांसदों को एक दिन का वक्त भी नहीं दिया गया. यह कृषि कानूनों की तरह ही जबरन लाया गया.उन्होंने कहा, छह मिनट तक मैं इस सरकार को सीख देता रहा. डेरेक से जब यह पूछा गया कि क्या उन्होंने चेयर की ओऱ रूल बुक फेंकी थी तो उन्होंने सीधा जवाब नहीं दिया. उन्होंने सरकार पर बिल को लेकर जोर जबरदस्ती का आऱोप लगाया.

डेरेक ने उपहास उड़ाते हुए कहा, "अच्छा वास्तव में, किसी ने रूलबुक फेंकी. संसद को जलाया जा रहा है, मोदी और शाह लोकतंत्र की हत्या के लिए चाकू लेकर संसद में घूम रहे हैं. " उन्होंने कहा, "12 सांसद बाहर बैठे हैं. 700 किसान मारे गए, किसने किया ये?"उनसे जब ये पूछा गया कि क्या वो रूलबुक फेंकने को उचित ठहराते हैं तो डेरेक ओ ब्रायन ने कहा, "मुझे फुटेज दिखाओ, उन्होंने मुझे निलंबित किया है. सोचिए अगर मैंने रूलबुक फेंकी होती..." जब उनसे पूछा गया कि अगर उन्होंने ऐसा नहीं किया तो उन्हें सस्पेंड क्यों किया गया तो टीएमसी सांसद ने कहा, क्योंकि ये सरकार नसीहत सुनना नहीं चाहती.

राज्यसभा में बिल को पढ़ने, चर्चा या बहस करने के लिए समय न मिलने का हवाला देते हुए डेरेक ने कहा कि छह मिनट तक वो सरकार को इस पर समझाते रहे. विपक्ष आधार कार्ड को वोटर आईडी कार्ड से जोड़ने के इस विधेयक का विरोध कर रहा है. उसका कहना है कि इससे अपात्र लोगों द्वारा चुनाव के वक्त वोट डालने का खतरा है. लेकिन लोकसभा की तरह राज्यसभा में भी मंगलवार को ये बिल भारी शोरशराबे के बीच पारित करा लिया गया.


टीएमसी सांसद ने आगाह किया. इस कानून का भी कृषि कानून जैसा हश्र होगा. सरकार को इसे भी एक दिन वापस लेना पड़ेगा.  गौरतलब है कि कृषि कानूनों को एक साल तक चले लंबे आंदोलन के बाद वापस ले लिया गया था. गलत आचरण के कारण निलंबित किए जाने वाले डेरेक ओ ब्रायन राज्यसभा के 13वें सांसद हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


रवीश कुमार का प्राइम टाइम : आधार को वोटर आईडी से जोड़ने की बेचैनी क्यों?