मध्‍यप्रदेश में भगवा संगठन के लोगों ने स्‍कूल पर की पत्‍थरबाजी, अंदर परीक्षा दे रहे थे छात्र

मध्‍यप्रदेश के विदिशा जिले में धार्मांतरण के मुद्दे पर सेंट जोसेफ स्कूल में भगवा संगठन के कुछ गुस्साए लोगों हंगामा खड़ा कर दिया और स्‍कूल में तोड़फोड़ भी की. गुस्साए लोगों ने स्कूल प्रबंधन पर कार्रवाई करने की मांग को लेकर एक ज्ञापन भी दिया.

भोपाल:

मध्‍यप्रदेश के विदिशा जिले में धार्मांतरण के मुद्दे पर सेंट जोसेफ स्कूल में भगवा संगठन के कुछ गुस्साए लोगों हंगामा खड़ा कर दिया और स्‍कूल में तोड़फोड़ भी की. गुस्साए लोगों ने स्कूल प्रबंधन पर कार्रवाई करने की मांग को लेकर एक ज्ञापन भी दिया. गौरतलब है कि पिछले दिनों सेंट जोसेफ स्कूल के 8 बच्चों के धर्मांतरण का मामला सामने आया था. घटना जिले के मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने गंजबासौदा शहर के स्थानीय चर्च, भारत माता कॉन्वेंट स्कूल और सेंट जोसेफ स्कूल में पुलिस तैनात कर दी. एसपी मोनिका शुक्ला ने बताया कि जो भी कार्रवाई होगी वह वैधानिक कार्रवाई की जाएगी, फिलहाल मामले की जांच की जा रही है.

पिछले दिनों सोशल मीडिया पर एक मिशनरी स्कूल में बच्चों के धर्मांतरण कराने की चर्चा हो रही थी. गंजबासौदा में स्थित सेंट जोसेफ स्कूल का नाम सोशल मीडिया पर धर्मांतरण को लेकर चर्चाओं में था. सोशल मीडिया पर एक फोटो भी पोस्ट की गई थी जिसमें बच्चों के ऊपर जल छिड़क कर उनका धर्मांतरण करने की बात कही जा रही थी.


घटना के बाद गंजबासौदा के अन्य मिशनरी स्कूल एवं चर्च की भी सुरक्षा बढ़ा दी गई. घटना के बाद स्कूल प्रबंधक ने पुलिस एवं प्रशासन पर आरोप लगाया है कि स्कूल के घेराव की पूर्व सूचना के बाद भी पुलिस एवं प्रशासन द्वारा सुरक्षा के लिए उचित प्रबंध नहीं किये गए. बता दें जिस समय पथराव किया जा रहा था उस समय सेंट जोसेफ स्कूल के अंदर 12वीं क्लास के बच्चों के एग्जाम चल रहे थे. करीब 14 बच्चे जो एग्जाम दे रहे थे. वह स्कूल के अंदर ही थे. तोड़फोड़ के समय बच्चे डर गए.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


स्कूल प्रबंधन ने स्कूल में किसी भी तरह से बच्चों के धर्मांतरण वाली बात को सिरे से नकार दिया है. बजरंग दल ने भी धर्मांतरण के मामले में जांच करते हुए धर्मांतरण करने वालों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की है, साथ ही सेंट जोसेफ स्कूल की जमीन के बारे में भी सवाल उठाए हैं. वहीं प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था के सवाल पर गोलमोल जवाब दिया.