रूस-यूक्रेन युद्ध : कीव में हटा वीकेंड कर्फ्यू, भारत ने यूक्रेन में फंसे भारतीयों को निकासी के लिए ट्रेन स्टेशन जाने को कहा

यूक्रेन में मौजूद भारतीय दूतावास ने ट्वीट कर बताया है कि भारतीय छात्रों को निकालने के लिए स्पेशल ट्रेन चलाने का इंतजाम किया गया है. रेलवे स्टेशन से यूक्रेन के पश्चिमी हिस्सों तक ट्रेन जाएगी.   

रूस और यूक्रेन के युद्ध राजधानी कीव में सप्ताहंत का कर्फ्यू हटा दिया गया है. भारत ने यूक्रेन में फंसे भारतीयों को निकासी के लिए ट्रेन स्टेशन जाने को कहा है. यूक्रेन में भारत के करीब 15 हजार नागरिक फंसे हुए हैं और उनमें अधिकतर छात्र हैं. 

यूक्रेन में मौजूद भारतीय दूतावास ने ट्वीट कर बताया है कि भारतीय छात्रों को निकालने के लिए स्पेशल ट्रेन चलाने का इंतजाम किया गया है. रेलवे स्टेशन से यूक्रेन के पश्चिमी हिस्सों तक ट्रेन जाएगी.   

ट्वीट में कहा गया है, कीव में सप्ताहंत का कर्फ्यू हटाया गया है. सभी छात्रों से अपील है कि पश्चिमी हिस्सों के लिए अपनी यात्रा के लिए रेलवे स्टेशन पहुंचें. यूक्रेन रेलवे बचाव कार्य के लिए स्पेशल ट्रेन चला रही है.  

भारत सरकार ने ऑपररेशन गंगा के तहत भारतीयों को यूक्रेन से निकालने के लिए एक खास ट्विटर हैंडल बनाया है. इस ट्विटर अकाउंट पर यूक्रेन के बॉर्डर से लगते देशों हंगरी, पोलैंड, रोमानिया, स्लोवैक रिपब्लिक- के हैल्प लाइन नंबर जारी किए गए हैं.  

रूस ने कई महीनों के तनाव के बाद गुरुवार सुबब यूक्रेन के खिलाफ सैन्य ऑपरेशन शुरू किए थे. रूस को यूक्रेन के नाटो में शामिल होने पर आपत्ति थी.  

वहीं स्पाइसजेट की तरफ से खबर आई है कि भारतीयों के बचाव के लिए बुडापेस्ट के लिए स्पेशल फ्लाइट चलाई जाएंगी. और भी बचाव के लिए फ्लाइट्स चलाए जाने की योजना है.   

स्पाइस जेट की बुडापेस्ट, हंगरी से भारतीयों को वापस लाने की योजना है. एयरलाइन इस स्पेशल फ्लाइट के लिए अपने बोइंग 737 मैक्स एयरक्राफ्ट का प्रयोग करेगी. एयरक्राफ्ट दिल्ली से बुडापेस्ट जाएगा जॉर्जिया के कुटैसी (Kutaisi) से ऑपरेट करेगी.

- ये भी पढ़ें -

* क्या है न्यूक्लियर डेटेरेंट फोर्स...? क्या रूस करेगा परमाणु हमला...?
* भारत ने अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानों पर बैन 'अगले आदेश तक' बढ़ाया
* "बिल नहीं भरा, तो बिजली काट लेंगे..." - महाराष्ट्र के मंत्री की धमकी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: भारतीयों को वापस लाने यूक्रेन के पड़ोसी देशों में जा सकते हैं मंत्री