राजस्थान में सियासी घमासान के बीच राज्य कांग्रेस उपाध्यक्ष और CM अशोक गहलोत के करीबियों पर इनकम टैक्स के छापे

एक तरफ राजस्थान में गहलोत सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं तो दूसरी तरफ गहलोत के करीबियों और कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष के ठिकानों पर इनकम टैक्स के छापे पड़ रहे हैं.

राजस्थान में सियासी घमासान के बीच राज्य कांग्रेस उपाध्यक्ष और CM अशोक गहलोत के करीबियों पर इनकम टैक्स के छापे

नई दिल्ली:

Rajasthan Crisis: एक तरफ राजस्थान में गहलोत सरकार (Ashok Gehlot) पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं तो दूसरी तरफ गहलोत के करीबियों और कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष के ठिकानों पर इनकम टैक्स के छापे पड़ रहे हैं. ऐसे में राजस्थान कांग्रेस (Rajasthan Congress) की मुश्किलें बढ़ती हुई नजर आ रही हैं. सोमवार को राजस्थान कांग्रेस के नेताओं के 22 ठिकानों पर आयकर विभाग की छापेमारी (Income Tax Raids) हुई. राजस्थान कांग्रेस के दो बडे़ नेताओं राजीव अरोड़ा (Rajeev Aroroa) और धर्मेंद्र राठौड़ (Dharmendra Rathod) के ठिकानों पर यह छापेमारी हुई. 200 से ज्यादा अधिकारी मिलकर इस छापेमारी को अंजाम दे रहे हैं. 

दोनों ही नेता गहलोत के करीबी भी माने जाते हैं. राजीव अरोड़ा अरोड़ा को सीएम गहलोत का फाइनेंशियल मैनेजर माना जाता है तो वहीं धर्मेंद्र राठौड़ उनके सबसे करिबियों में गिने जाते हैं. राजीव पेशे से ज्वेलर भी हैं तो वहीं धर्मेंद्र राठौर ने अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत के लोकसभा चुनाव लड़ने के दौरान अहम भूमिका निभाई थी. 


गौर हो कि सचिन पायलट रविवार से ही दिल्ली में मौजूद हैं. ऐसा कहा जा रहा है कि उनके पास कुछ विधायकों का समर्थन हैं. सचिन पायलट ने अपनी तरफ से यह तो साफ कर दिया कि भारतीय जनता पार्टी में शामिल नहीं होंगे लेकिन जिन हालातों में कांग्रेस के नेताओं और खासकर गहलोत के करीबियों की चौखट पर इनकम टैक्स के अधिकारी पहुंचे हैं उससे सूत्रों के दावों को ज्यादा बल मिल रहा है. बता दें कि सूत्रों का कहना है कि सचिन पायलट बीजेपी नेताओं के साथ संपर्क में हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video: राजस्थान के सियासी संकट में BJP का फायदा