VIDEO : 'दोबारा आ सकते हैं कृषि कानून', यूपी में बोले राजस्थान के गवर्नर कलराज मिश्र

पिछले साल सितंबर में संसद ने विपक्ष के भारी हंगामे के बीच तीनों कृषि कानूनों का पारित किया था. उसके बाद से ही किसान आंदोलन कर रहे हैं और कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं. दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर किसान पिछले एक साल से आंदोलन कर रहे हैं.

VIDEO : 'दोबारा आ सकते हैं कृषि कानून', यूपी में बोले राजस्थान के गवर्नर कलराज मिश्र

राजस्थान के गवर्नर कलराज मिश्रा ने कहा है कि कृषि कानून फिर से बनाए जा सकते हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

राजस्थान (Rajasthan) के राज्यपाल और बीजेपी के नेता रहे कलराज मिश्र (Kalraj Mishra) ने कहा है कि भविष्य में सरकार दोबारा कृषि कानून ला सकती है. उत्तर प्रदेश के भदोही में उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने कृषि कानूनों (Farm Laws) पर किसानों को समझाने की कोशिश की लेकिन वे नहीं माने. इसलिए सरकार ने कानूनों का वापस लेने का फैसला किया है लेकिन आगे इसकी जरूरत पड़ी तो सरकार फिर से उन्हें दोबारा बना सकती है.

गवर्नर ने कहा, "कृषि कानूनों को लेकर किसानों को समझाने का प्रयास किया गया.. सकारात्मक पक्ष रखने की कोशिश की गई, लेकिन किसान आंदोलित थे. इस बात पर अड़े हुए थे कि तीनों कानून वापस लिए जाएं. आखिर में सरकार को लगा कि कानून वापस लिया जाय और फिर दोबारा इस संबंध में कानून बनाने की जरूरत पड़ी तो किया जाएगा. लेकिन इस वक्त किसान कानून वापस लेने की मांग कर रहे हैं तो वो ले लेना चाहिए. उन्होंने शालीनता के साथ वापस लिया है. मुझे लगता है कि यह अच्छा कदम है. उचित निर्णय ही सरकार ने लिया है."

कलराज मिश्रा के अलावा बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने भी कहा है कि बिल आते, जाते रहते हैं. सरकार दोबारा फिर से कृषि कानून बना सकती है. बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार (19 नवंबर) को राष्ट्र के नाम एक संबोधन में तीनों कृषि कानूनों की वापसी का ऐलान किया था.

संसद में कैसे होंगे कृषि कानून वापस? क्या है वैधानिक प्रक्रिया और तरीका?

पिछले साल सितंबर में संसद ने विपक्ष के भारी हंगामे के बीच इन कानूनों का पारित किया था. उसके बाद से ही किसान आंदोलन कर रहे हैं और कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं. दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर किसान पिछले एक साल से आंदोलन कर रहे हैं.

वीडियो: 29 नवंबर को संसद मार्च करेंगे किसान, इन मांगों के साथ आंदोलन भी रखेंगे जारी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com