छात्रों, पेशेवरों और खिलाड़ियों के पासपोर्ट को कोविड वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट से जोड़ा जाएगा : केंद्र

Covid Vaccination Certificate on Passport :केंद्र सरकार ने इसके लिए सोमवार को एक विस्तृत गाइडलाइन जारी की. इसमें कहा गया है कि विदेश यात्रा की सूरत में 28 दिन के बाद कोविशील्ड का दूसरा डोज कभी भी लग सकता है.

छात्रों, पेशेवरों और खिलाड़ियों के पासपोर्ट को कोविड वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट से जोड़ा जाएगा : केंद्र

Covid Vaccination का लिंक Passport से जोड़ा जाएगा

नई दिल्ली:

केंद्र सरकार ने नौकरी या पढ़ाई के लिए विदेश जाने वाले छात्रों और पेशेवरों और ओलंपिक के लिए जापान जाने वाले एथलीटों की बेरोकटोक यात्रा के लिए नई सुविधा दी है. उनके पासपोर्ट (Passport) को कोविड वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट से जोड़ा गया है. केंद्र सरकार ने इसके लिए सोमवार को एक विस्तृत गाइडलाइन जारी की. इसमें कहा गया है कि विदेश यात्रा की सूरत में 28 दिन के बाद कोविशील्ड का दूसरा डोज कभी भी लग सकता है.अभी 84 दिन बाद कोविशील्ड का दूसरा डोज लेने का नियम है. वैक्सिनेशन सर्टिफिकेट (Covid Vaccination Certificate)  पर पासपोर्ट नंबर लिखा रहेगा.विदेश यात्रा करने वालों को लेकर जल्द ही ये खास व्यवस्था CoWIN platform पर होगा.

COVID-19 वैक्सीन सर्टिफिकेट कैसे करें ऑनलाइन डाउनलोड? ये रहा तरीका...

एसओपी के मुख्य बातें...
विदेश यात्रा के लिए सिर्फ कोविशील्ड वालों को ही वैक्सिनेशन सर्टिफिकेट और सर्टिफिकेट पर पासपोर्ट नंबर का ज़िक्र होगा. किसी दूसरी कोरोना वैक्सीन के लिए ये सुविधा नहीं मिलेगी.ये सुविधा 18 साल से ऊपर के उन लोगों के लिए जो 31 अगस्त तक विदेश यात्रा करना चाहते हैं.  

किन लोगों के लिए ये व्यवस्था
स्टूडेंट जो विदेश पढ़ने जा रहे हों, विदेश में नौकरी करने जा रहे लोग, टोक्यो ओलंपिक गेम्स में शामिल होने जा रहे एथलीट, स्पोर्ट्स पर्सन, साथ में जाने वाले स्टाफ को भी यह सुविधा मिलेगी. 

सिर्फ कोविशील्ड के लिए अंतराल कम होगा
फिलहाल की नई व्यवस्था के मुताबिक COVISHIELD के दोनो डोज के बीच कम से कम 84 दिनों का अंतराल (12- 16 हफ्ते) होता है, लेकिन विदेश जाने वाले छात्रों, नौकरीपेशा और एथलीटों को इससे छूट दी जाएगी. इनको इस लंबे अंतराल से छूट मिलेगी. अथॉरिटी देखेगी कि पहले डोज के बाद क्या 28 दिन बीत चुके हैं?


पढ़ाई या नौकरी में होगी आसानी, एथलीट को सुविधा मिलेगी
केंद्र सरकार के इस फैसले से विदेशी कॉलेज यूनिवर्सिटी में भारतीय छात्रों का दाखिला लेना या पढ़ाई आगे जारी रखना आसान हो जाएगा. दरअसल, बहुत से विदेशी विश्वविद्यालय या कॉलेज एडमिशन के लिए वैक्सीनेशन को अनिवार्य मानक बना चुके हैं. ओलंपिक जाने वाले सभी खिलाड़ियों और उनके ट्रेनिंग स्टॉफ के लिए भी यह महत्वपूर्ण हो गया है. इससे उन्हें होटल और अन्य जरूरी सुविधाएं मिलने में भी आसानी होगी. विदेश में वीजा लेकर नौकरी करने वालों के लिए भी वैक्सीनेशन के बाद मल्टीनेशनल कंपनियों में नौकरी पाना या उसे जारी रख पाना सुविधाजनक होगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com