Omicron वैरिएंट को लेकर 10 दिन में ठोस नतीजे पर पहुंच सकता है भारत : सूत्र

दुनियाभर में 38 देशों में ओमिक्रॉन वैरिएंट के मामले सामने आए हैं, अब तक विश्व में 1300 से ज्यादा ओमिक्रॉन के मरीज आए हैं.

Omicron वैरिएंट को लेकर 10 दिन में ठोस नतीजे पर पहुंच सकता है भारत : सूत्र

अभी तक कहीं भी ओमिक्रॉन से मौत का मामला सामने नहीं आया.

नई दिल्ली :

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट Omicron को लेकर भारत अगले 10 दिनों में ठोस नतीजे पर पहुंच सकता है. यह जानकारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से जुड़े शीर्ष सूत्रों ने दी है. सूत्रों ने कहा कि भारत सरकार दूसरे देशों और अपने यहां आ रहे मामलों पर नजर रख रही है. अभी तक किसी भी देश में Omicron से मौत का मामला सामने नहीं आया है. अस्पतालों में इस नए वैरिएंट के चलते दाखिल होने वालों की संख्या बढ़ने का भी कोई प्रमाण नहीं है. 

साथ ही कहा गया है कि क्या ओमिक्रॉन डेल्टा वैरिएंट से ज्यादा खतरनाक है, इसका भी कोई प्रमाण नहीं मिला है. टेस्टिंग के पुराना तरीके और ट्रीटमेंट में कोई बदलाव नहीं किया गया है. 

Covid-19 : 24 घंटे में कोरोना के 8,439 नए मामले, सक्रिय मरीजों की संख्या 555 दिनों में सबसे कम

दुनियाभर में 38 देशों में ओमिक्रॉन वैरिएंट के मामले सामने आए हैं, अब तक विश्व में 1300 से ज्यादा ओमिक्रॉन के मरीज आए हैं. दक्षिण अफ्रीका और यूके में ओमिक्रॉन के  कुल मामले के 50 फीसदी मामले दर्ज हुए हैं. सबसे ज्यादा मामले वाले दक्षिण अफ्रीका और यूके में अस्पताल में दाखिल होने या उनमें मृत्यु के मामले का प्रमाण नहीं है. 

वैक्सीन को दोनों डोज़ ले चुके लोगों को 'ओमिक्रॉन' के चकमा देने की अत्यधिक संभावना नहीं : WHO


सूत्रों ने साथ ही बताया कि, दक्षिण अफ्रीका के मामलों का अध्ययन करने पर यह जानकारी सामने आई है कि जब वहां 25 हजार कोरोना के मामले थे, तब 2 हजार लोग अस्पताल में थे. वहीं, अब जब 75 हजार कोरोना के मामले हैं तो अस्पताल में करीब 3 हजार लोग भर्ती हैं. यहां पर कोरोना का डेल्टा और ओमिक्रॉन दोनों ही वैरिएंट हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अफवाह बनाम हकीकत: ओमिक्रॉन का तेजी से प्रसार, अन्‍य देशों से क्‍या सीख ले सकता है भारत?